/दिल्ली में नाबालिग छात्रा से गैंग रेप, पुलिस वाला भी शामिल, MMS भी बनाया..

दिल्ली में नाबालिग छात्रा से गैंग रेप, पुलिस वाला भी शामिल, MMS भी बनाया..

नई दिल्ली। राजधानी दिल्ली के उत्तम नगर में दसवीं में पढ़ने वाली छात्रा के साथ गैंगरेप की सनसनीखेज वारदात हुई है। आरोप है कि पांच आरोपियों ने पिस्तौल दिखाकर छात्रा के साथ गैंगरेप किया। आरोपियों ने पूरी वारदात का MMS भी बना लिया और पीड़िता को धमकी दी यदि उसने मुहं खोला तो ये वीडियो नेट पर डाल देंगे।rape

एक हफ्ते बाद लड़की ने परिवार को पूरी बात बताई। लड़की की शिकायत पर पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है। पीड़ित लड़की के मुताबिक घटना 19 जुलाई की है। पुलिस ने तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। जबकि दो फरार हैं। बताया जा रहा है कि फरार आरोपियों में एक पुलिसवाला भी शामिल है। पकड़े गए तीन आरोपियों में से दो नाबालिग हैं।

पीडिता के अनुसार इस पूरी वारदात को 19 जुलाई को उस वक़्त अंजाम दिया गया जब वह सुबह अपने स्कूल जा रही थी। तभी तालिब नाम का युवक उसे बहाने से अपनी बाइक पर बिठा लिया और नजफगढ़ के झारोदा इलाके में सुरेद्रं पहलवान नाम के व्यक्ति के फ्लैट पर ले गए। वहां एक शख्स ने अपना परिचय पुलिसवाले के रूप में दिया और पुलिस की वर्दी में अपनी फोटो और आई कार्ड भी दिखाया उसके बाद उसने पिस्टल दिखा कर डराया धमकाया और फिर पांच लोगों ने गैंगरेप की वारदात को अंजाम दिया।

लड़की को पूरे परिवार समेत गोली मारने की धमकी भी दी जिसके डर से एक हफ्ते तक लड़की चुप रही और 6 दिनों तक स्कूल नहीं गई और फिर तबियत ख़राब होने पर परिवार को बताया और फिर इस पूरे मामले का खुलासा हुआ।

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक "मुखौटों के पीछे - असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष" में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.