/पति ने गर्लफ्रेंड की खातिर करवाई थी हत्या ज्योति की..

पति ने गर्लफ्रेंड की खातिर करवाई थी हत्या ज्योति की..

कानपुर की करोड़पति बहू ज्योति के हत्याकांड की गुत्थी सुलझती नजर आ रही है। पुलिस सूत्रों के मुताबिक पूछताछ के दौरान ज्योति के पति पीयूष सामदसानी ने अपना गुनाह कबूल कर लिया है। सूत्रों के मुताबिक अवैध रिश्तों के दबाव में पीयूष ने अपनी पत्नी ज्योति की हत्या कराई।kanpur_murder_30714

पीयूष ने अपने ड्राइवर की मदद से ज्योति का कत्ल करवाने की बात मान ली है। इसके लिए पीयूष के ड्राइवर ने किराये के अपराधियों का इस्तेमाल किया। ड्राइवर और हत्यारों की तलाश में पुलिस ताबड़तोड़ छापेमारी कर रही है। घटना के वक्त ड्राइवर की लोकेशन पनकी में उस जगह में मिली जहां ज्योति की लाश पाई गई थी।

जानकारी के मुताबिक पीयूष को ड्राइवर ने कत्ल के कुछ दिन पहले ही नौकरी पर रखा था। इसी नौकर को पहले उसकी संदिग्ध गतिविधियों के चलते नौकरी से निकाल दिया था। लेकिन पीयूष ने उसे फिर से नौकरी पर रख लिया। ड्राइवर कानपुर के काकादेव इलाके का रहने वाला है। कत्ल के बाद से ही ड्राइवर घर छोड़कर फरार हो गया है। पुलिस ड्राइवर की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी कर रही है।

गौरतलब है कि रविवार को ज्योति की हत्या कर दी गई थी। पुलिस ने शक के आधार पर कल ज्योति के पति पीयूष को हिरासत में लिया था। पुलिस ने पीयूष और उसकी महिला मित्र से कल घंटों पूछताछ की। पुलिस के मुताबिक पहले दोनों से अलग अलग पूछताछ की। फिर दोनों को साथ बिठाकर भी पूछताछ की गई।

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक "मुखौटों के पीछे - असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष" में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.