कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे [email protected] पर भेजें | इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है। पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं। हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो। आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें -मॉडरेटर

नियति का खेल, पति पत्नी निकले बिछड़े भाई बहन..

0
Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

ब्राज़ील में अपनी तरह का एक अनूठा मामला सामने आया है. पिछले सात वर्षों से सुखी जीवन जी रहे जोड़े  के पाँव तले उस वक़्त ज़मीन खिसक गयी जब उन्हें ये पता चला कि वो असल में बचपन में बिछड़े हुए भाई बहन हैं. इसे नियति का खेल ही कहेंगे कि जो भाई बहन बचपन में अभिभावकों के साथ अलग हो गए थे वो एक जोड़े के रूप में अपनी खोयी हुयी माँ से मिलते हैं.

1407352905141_wps_2_adriana_radio_globo_jpg

अद्रिअना और लेयान्द्रो पिछले सात वर्षों से साथ रह रहे हैं और उनकी एक छः वर्षीया पुत्री है. अलग अलग शहरों में रहने वाले अद्रिअना और लेयान्द्रो ने सात वर्ष पूर्व साथ रहने का फैसला किया था. इसके बाद पता चला कि दोनों ही की माता बचपन में खो गयी थी जिसे वो तबसे तलाश कर रहे हैं. उन दोनों की माता का नाम मारिया था. दोनों ने इसे एक संयोग माना और खोज में लगे रहे. हालाँकि उन्होंने सपने में भी नहीं सोचा था कि जिसे वो खोज रहे होंगे वो एक ही महिला होगी.

कॉस्मेटिक सेल्सवुमन अद्रिअना ने अपनी माँ को एक वर्ष की उम्र से नहीं देखा था , जब वो उसे उसके पिता के पास छोड़ कर चली गयी थी. दूसरी तरफ पेशे से ट्रक ड्राईवर  लेयान्द्रो अपने माता पिता के साथ आठ वर्ष की उम्र तक रहे जब उन्हें पता चला कि जिसके साथ वो रह रहे हैं वो उनके सौतेले माता पिता हैं और उनकी असली माता उन्हें छोड़ कर बहुत पहले ही चली गयी थी. अपने जन्म स्थान साओ पाउलो में ही रहने वाले लेयान्द्रो ने अपनी माँ की तलाश करने  का फैसला किया. वही अद्रिअना ने हाउसमेड का काम चुना और दूसरे शहर चली गयी जहां उसने अपने पंद्रह वर्ष के वैवाहिक जीवन में तीन बच्चों को भी जन्म दिया.

दस वर्ष पूर्व जब अद्रिअना का सम्बन्ध विच्छेद हुआ तो वो अपने गृहनगर साओ पाउलो में रहने वापस आ गयीं. यहाँ उनकी मुलाकात लेयान्द्रो से हुयी और वो जल्दी ही प्रेमपाश में बंध गए. कुछ समय बाद उन्होंने घर बसाने का फैसला लिया और विवाह कर लिया. हालाँकि अद्रिअना  अभी भी अपनी माँ को भूली नहीं थीं और उन्होंने स्थानीय रेडियो स्टेशन से मदद के लिए संपर्क किया. रेडियो स्टेशन ने उनकी बात सुनी और मदद के लिए आगे आया. इस रेडियो स्टेशन पर “The Time Is Now” नामक एक प्रोग्राम आता है जिसमें बिछड़े परिवारजनों को मिलाने के प्रयास किये जाते हैं. अंततः सफलता हाथ लगी और अद्रिअना को उनकी माँ मिल गयी. लेकिन रेडियो पर अपने इंटरव्यू में मारिया ने बताया कि उनकी एक संतान और भी थी. वो एक पुत्र था जिसका नाम लेयान्द्रो था जो शायद उनके बारे में न जानता हो क्योंकि वो उसे बहुत छोटी उम्र में छोड़ आई थीं.

जैसे ही ये बात साफ़ हुयी कि मारिया जिस लेयान्द्रो का ज़िक्र कर रही हैं वो कोई और नहीं खुद अद्रिअना का पति है, उसने बुरी तरह रोना शुरू कर दिया. अद्रिअना को डर था कि अगर लेयान्द्रो, जिसे वो बहुत प्यार करती है,  को ये बात पता चली तो वो उसे छोड़ देगा. हालाँकि लेयान्द्रो ने स्थिति को ये कह कर संभाल लिया कि वो अद्रिअना को कभी नहीं छोड़ेंगे. अद्रिअना और  लेयान्द्रो, जिन्होंन कानूनन विवाह नहीं किया है, ये बात सामने आने के बाद भी कि वो भाई बहन हैं, आगे भी साथ रहने के लिए तत्पर हैं.

अद्रिअना कहती हैं. ” ये सब सिर्फ इसलिए हुआ क्यों कि ये भगवान की मर्ज़ी थी. हम सोचते थे कि ये कितना अजीब है कि हम दोनों की माँ खो गयी है और उसका नाम भी एक जैसा है. हास्यास्पद लगता था. लेकिन इसे नियति का किया हुआ मानते हैं और सिर्फ मौत ही हमें अलग कर सकती है.” अद्रिअना बेहद संयमित लहजे में आगे कहती हैं, ” हम हमारी माँ को इसके लिए दोष नहीं दे सकते. आखिर उन्होंने भी तो सपने में ऐसा नहीं सोचा होगा. हम साथ रहेंगे, चाहे कोई कुछ भी कहे. हमने भविष्य के लिए बहुत से सपने देखें हैं और उन्हें साथ मिल कर पूरा करेंगे. “

Facebook Comments
Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं
Share.

About Author

पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं. हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो. आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें - मॉडरेटर

%d bloggers like this: