/IAF की पहली महिला पायलट अंजलि की फांसी लगा कर मौत.. सवाल उलझा है- हत्या या खुदकुशी

IAF की पहली महिला पायलट अंजलि की फांसी लगा कर मौत.. सवाल उलझा है- हत्या या खुदकुशी

एक साल से ग्रुप कैप्टन अमित गु्ता के साथ लिव-इन रिलेशन में थी

अमित ने कहा था कि अपनी पत्नी को तलाक़ देकर करेगा शादी

अंजलि का कोई सुसाइड नोट नहीं मिलने से उलझा मौत का मामला

ग्रुप कैप्टन अमित गुप्ता को गिरफ्तार किया पुलिस ने

भारतीय वायुसेना की पहली महिला पायलट और बाद में कोर्ट मार्शल का शिकार बनने वाली अंजलि गुप्ता द्वारा आत्महत्या करने के मामले में उनके पुरुष मित्र व वायुसेना के ग्रुप कैप्टन अमित गुप्ता से पुलिस पूछताछ कर रही है। अंजलि के परिजनों ने अमित पर वादा करने के बाद भी शादी न करके आत्महत्या के लिए प्रेरित करने का आरोप लगाया है।

ज्ञात हो कि अंजलि छह साल पहले वरिष्ठ अधिकारियों पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाए जाने के कारण सुर्खियों में आई थीं। इसी मामले में उनका कोर्ट मार्शल हुआ था। वह पहली ऐसी महिला अधिकारी थीं जिनके खिलाफ कोर्ट मार्शल हुआ और उन्हें बर्खास्त कर दिया गया।

अंजलि पिछले दिनों अपने मित्र तथा वायुसेना के ग्रुप कैप्टन अमित गुप्ता के शाहपुरा स्थित घर आई थीं। अमित अपने बेटे की सगाई करने दिल्ली चले गए तथा रविवार को लौटे तो अंजलि का शव उनके घर के भीतर पंखे से लटकता मिला। इतना ही नहीं, बिस्तर पर पेट्रोल की दो बोतलें भी मिली थीं, जिससे जाहिर था कि वह पूरी तरह आत्महत्या का फैसला कर चुकी थीं।

अंजलि का कोई सुसाइड नोट न मिलने से पुलिस के लिए आत्महत्या की गुत्थी सुलझाना काफी मुश्किल हो गया है। उधर, अंजलि के परिजनों ने भोपाल पहुंचकर अमित के साथ रिश्तों का हवाला देकर अमित को संदेह के घेरे में ला दिया है।

भोपाल पहुंचे अंजलि के जीजा विनीत गर्ग का आरोप है कि अंजलि अपने वरिष्ठ अधिकारी अमित से शादी करना चाहती थीं। अमित भी शादी के लिए तैयार थे तथा लगातार अंजलि को भरोसा दिलाते रहते थे कि वह अपनी पत्नी से तलाक लेकर उससे शादी कर लेंगे। गर्ग को आशंका है कि अमित ने उससे किए वादे को पूरा करने में आनाकानी की होगी और इसी के चलते अंजलि ने यह कदम उठाया होगा।

गर्ग के अनुसार अमित व अंजलि पिछले 10 वर्षो से एक-दूसरे के सम्पर्क में थे।

अंजलि के परिजन सीधे तौर पर अमित पर आत्महत्या के लिए प्रेरित करने का आरोप लगा रहे हैं। लिहाजा, पुलिस भी यह जांच कर रही है कि अंजलि ने किस वजह से आत्महत्या जैसा कदम उठाया।

नगर पुलिस अधीक्षक राजेश भदौरिया का कहना है कि रविवार को अमित से जब अंजलि के परिजनों के बारे में जानकारी ली गई थी तो उन्होंने अंजलि के परिजनों के बारे में ज्यादा जानकारी होने से इंकार कर दिया था, वहीं अंजलि के परिजन उन्हें वर्षो से जानने की बात कह रहे हैं।

भदौरिया ने आईएएनएस को बताया कि अंजलि के परिजनों द्वारा लगाए गए आरोपों के आधार पर अमित से पूछताछ की जा रही है। अगर यह बात साबित हो जाती है कि अमित के अंजलि से करीबी रिश्ते रहे हैं और दोनों शादी करने को राजी थे तथा अमित ने अंजलि को धोखा दिया तो पुलिस आगे की कार्रवाई कर सकती है।

(पोस्ट मेरीखबर.कॉम में प्रकाशित रिपोर्ट पर आधारित)

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक "मुखौटों के पीछे - असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष" में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.