/पायलट नींद में, को-पायलट टैब पर, प्लेन गोते में …

पायलट नींद में, को-पायलट टैब पर, प्लेन गोते में …

तकनीकी हादसे हो या लापरवाहीकी घटनाएं, ज़्यादातर के पीछे मानवीय चूक ही वजह रही है. विमान दुर्घटनाओं के ग्राफ में हाल के समय में तेज़ी से उछाल आया है. लेकिन एयरलाइन्स और पायलट हाल में हुयी विमान दुर्घटनाओं से सबक लेने को तैयार नहीं हैं. मुंबई से ब्रुसेल्स जाने वाली जेट एयरवेज की बोईंग777 फ्लाइट ने तुर्की के ऊपर से उसते हुए पांच हज़ार फीट का गोता लगाया. जांच में घटना के वक़्त पायलट के सोने और को-पायलट के अपने टैबलेट के साथ व्यस्त होने की वजह से ऐसा होने की पुष्टि हुयी है.b7773jet

पायलट थोड़े समय के लिए को-पायलट उड़ान की ज़िम्मेदारी देकर “कंट्रोल्ड रेस्ट ” के लिए गया था और इतने समय में ही को-पायलट अपने टैबलेट के साथ मशगूल हो गयी और जहाज अपनी निर्धारित ऊँचाई खो कर पांच हज़ार फीट नीचे चला गया. जब अंकारा एयर ट्रैफिक कंट्रोलर ने देखा कि यह प्लेन अचानक अपनी हाइट कम कर रहा है, तब उसने प्लेन को कॉल किया और पायलट से पूछा गया कि फ्लाइट 9W-228 को 34 हजार फीट पर उड़ने के लिए कहा गया था, फिर वह इतने नीचे क्यों उड़ान भर रही है.

युक्रेन और इराक को नज़रंदाज़ करते हुए आज कल ज़्यादातर उड़ानों ने ये रास्ता अपनाया हुआ है जिसकी वजह से ये बहुत व्यस्त उड़ान मार्ग हो चुका है. ऐसे में यूरोप के एयर ट्रैफिक कंट्रोलर इस बेहद संवेदनशील इलाके से होकर गुजरने वाली फ्लाइट्स के रास्ते फ्लाइट्स पर बारीक नजर रख रहे हैं. साथ ही साथ अंकारा एटीसी ने इमर्जेंसी में जेट एयरक्राफ्ट को फोन किया और इसकी सूचना दी.

जेट ने इस घटना की ज़िम्मेदारी लेते हुए माफ़ी मांगी है और दोनों कर्मचारियों को हटा दिया है. एक प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से जेट ने जानकारी दी की दोनों कर्मचारियों को हटाने के अतिरिक्त अंतरिम जांच भी की जाएगी जिससे ऐसी घटनाएं दोहराई न जा सकें.

 

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं