/बनारस में खुलने वाले मिनी पी.एम.ओ की जगह को लेकर विवाद छिड़ा..

बनारस में खुलने वाले मिनी पी.एम.ओ की जगह को लेकर विवाद छिड़ा..

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में खुलने वाले मिनी पी.एम.ओ की जगह को लेकर विवाद खड़े हो गए हैं.. बनारस वासियों का कहना है कि जिस व्यक्ति की बिल्डिंग में मिनी पी.एम.ओ खुल रहा है, वो बनारस का एक कुख्यात नाम है.. इस के विरोध में कुछ बनारस निवासियों ने प्रधानमंत्री को एक पत्र भी मेल द्वारा भेजा है जिसकी प्रति मीडिया दरबार के पाठको के लिए जस की तस लगाईं जा रही है..

सेवा में,
श्री नरेंद्र मोदी जी
प्रधानमंत्री, भारत सरकार

महोदय,

आपके संज्ञान में लाना है कि आगामी 20 अगस्त 2014 को आपके संसदीय क्षेत्र वाराणसी में रवीन्द्रपुरी के जिस मकान में कार्यालय (मिनी पी.एम.ओ) खुलने जा रहा है,NARENDRA MODI वह एक बहुत ही बदनाम शख्स लोकेश गुप्ता का है। कहने को तो यह व्यक्ति आर.एस.एस. की पृष्ठभूमि से आता है मगर इसके कर्म बहुत ही नीच हैं . लोकेश गुप्ता ने अधिकारी वर्ग को पटाकर ढेर सारे अवैध निर्माण करके पिछले कुछ ही वर्षों में अकूत संपत्ति अर्जित की है। अभी कुछ ही महीने पहले लोकेश गुप्ता के यहां पड़े छापे में करोड़ों रुपये बरामद हुए थे। लोकेश गुप्ता के जितने भी प्रोजेक्ट्स हैं, उन सबमें भारी स्तर पर गोलमाल किया गया है। नियमों से छेड़छाड़ करना इसके खून में है।

प्रधानमंत्री जी, आप खुद अपने स्रोतों से पता कर लीजिये या फिर वाराणसी विकास प्राधिकरण दफ्तर से पता कर लीजिये। नियम के अनुसार किसी भी छत पर बिल्डर का कब्जा नहीं हो सकता मगर इसने बनारस के मेयर राम गोपाल मोहले और तमाम पार्टियों को कब्जे में लेकर खूब गुंडागर्दी मचाई है। वाराणसी के महमूरगंज इलाके में विराट विला बिल्डिंग (निर्माता: लोकेश गुप्ता की ,कंपनी- विराट इन्फ्राकॉन) की छत पर भी लोकेश गुप्ता ने कब्जा जमा लिया और इस पर अवैध रूप से फ्लैटों का निर्माण करके लोगों को बेच दिया। इस विराट विला बिल्डिंग के कुछ लोगों ने हिम्मत करके वाराणसी विकास प्राधिकरण में शिकायत करके ध्वस्तीकरण आदेश तो निकलवा दिया मगर राजनैतिक लोगों से दोस्ती का हवाला देकर लोकेश गुप्ता ने साम-दाम के द्वारा अपना अवैध निर्माण गिराने से बचा रखा है और विराट विला बिल्डिंग, महमूरगंज, वाराणसी के बच्चे और बूढ़े अपनी ही बिल्डिंग की छत का उपयोग नहीं कर पा रहे हैं। प्रदेश सरकार भी बेबस है इसके आगे और हमें आशंका है कि अब यह व्यक्ति आपके नाम पर पूरे बनारस और देश में अवैध काम करके तबाही मचायेगा और आपके छवि को बहुत अधिक खराब करेगा । कायदे से तो इस धूर्त और मक्कार व्यक्ति को जेल में होना चाहिए मगर अपनी सेटिंग-गेटिंग के बल पर इसने खुद को बचा रखा है।

आपसे निवेदन है कि कृपया लोकेश गुप्ता जैसे बेईमान और बदनाम आदमी के घर में अपना पीएमओ खोलकर अपनी और बनारसवासियों की मर्यादा को धूल-धूसरित न करें। और पार्टी में भी ईमानदार लोगों को बढ़ावा दें जो चोरों और बेईमानों का विरोध कर सकें ।

हम हैं –
वाराणसी के निवासी

प्रतिलिपि सूचनार्थ :

1 -श्री अमित भाई शाह, अध्यक्ष, भारतीय जनता पार्टी
2 – श्री लालकृष्ण आडवाणी जी
3- श्री राजनाथ सिंह जी

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक "मुखौटों के पीछे - असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष" में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.