/थूक चाटने से इनकार किया था, कुछ ही घंटों बाद नग्न लाश मिली..

थूक चाटने से इनकार किया था, कुछ ही घंटों बाद नग्न लाश मिली..

जलपाईगुड़ी, पश्चिम बंगाल में किशोरी ने स्वयंभू पंचायत के थूक चाटने के आदेश को मानने से इनकार कर दिया और कुछ ही घंटों बाद मंगलवार सुबह उसकी नग्न लाश घर के पास रेल की पटरियों पर पड़ी मिली. बताया जा रहा है कि गांव की उस तथाकथित पंचायत का नेतृत्व राज्य में सत्तासीन तृणमूल कांग्रेस की महिला पार्षद कर रही थीं. किशोरी के परिवार ने रेप और हत्या के आरोप में दर्ज कराए केस में 13 लोगों को आरोपी बनाया है. पार्षद नमिता रॉय के पति भी आरोपियों में से एक हैं. इस मामले में पुलिस ने अब तक एक शख्स को गिरफ्तार किया है.dhupguri

बताया जाता है कि जलपाईगुड़ी जिले के धूपगुड़ी गांव की इस किशोरी की उम्र लगभग 15 वर्ष थी और उसे आखिरी बार उस समय देखा गया था, जब सालिशी सभा (गांव की खुद बनाई हुई पंचायत या अदालत) के आदेश पर वह अपने पिता की पिटाई का विरोध कर रही थी. सालिशी सभा ने खेती के लिए किराये पर लिए पावर टिलर का किराया नहीं चुका पाने पर उसके पिता को दंडित करने का फैसला किया था. जब किशोरी ने गांव वालों को अपने पिता के साथ मारपीट करने से रोकने की कोशिश की तो ‘पंचायत’ का गुस्सा उस पर निकला. किशोरी इस घटना के बाद अचानक लापता हो गई और फिर कुछ ही घंटों के बाद उसकी लाश रेल की पटरियों के पास पड़ी मिली.
लाश को सबसे पहले देखने वाले गणेश प्रसाद ने बताया, ‘सुबह करीब सवा आठ बजे मैंने लाश देखी. मैंने इससे पहले इस तरह का कुछ नहीं देखा था. अगर कोई ट्रेन के नीचे कट जाता है, तो उसके टुकड़े हो जाने के बावजूद बदन पर कपड़े होते हैं, लोकिन इस मामले में सिर्फ कंधे पर कपड़ा था.’ पंचायत में किशोरी को प्रताड़ित करने के आरोपियों का कहना है कि उसने खुदकुशी कर ली है. हालांकि, इसको खारिज करते हुए लड़की के मामा का कहना है कि इन लोगों ने खुलेआम धमकी दी थी.

उन्होंने कहा, ‘मेरे बहनोई को पीटा गया और मेरी भांजी ने इसका विरोध किया. इसके बाद इन लोगों ने उसे धमकी दी थी. अगर उसने आत्महत्या की है, तो उसके बदन पर कपड़े क्यों नहीं थे? मुझे लगता है कि उन्होंने पहले उसके साथ रेप किया और फिर हत्या कर दी.’ किशोरी के पिता को अनिल बर्मन का पैसा चुकाना था और पुलिस ने अभी तक बर्मन को ही गिरफ्तार किया है. तृणमूल कांग्रेस ने मामले में किसी भी तरह का हाथ होने से इनकार किया है, लेकिन मामला राजनीतिक रंग ले चुका है. राज्य की विपक्षी पार्टी सीपीएम के छात्र कार्यकर्ताओं ने इस घटना के विरोध में राज्यभर में विरोध-प्रदर्शनों का आह्वान किया है.

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं