/लेट लतीफी महंगी पड़ी पाकिस्तानी नेता रहमान मलिक को, फ्लाईट से उतारा, देखें वीडियो..

लेट लतीफी महंगी पड़ी पाकिस्तानी नेता रहमान मलिक को, फ्लाईट से उतारा, देखें वीडियो..

इस्लामाबाद, पाकिस्तान में जनता ने पूर्व गृहमंत्री रहमान मलिक को इसलिए विमान से नीचे उतार दिया क्योंकि उनके चलते विमान उड़ने में देर हो रही थी. दरअसल दो सांसदों के चलते पाकिस्तान इटंरनेशनल एयरलाइंस (पीआईए) की फ्लाइट पीके-370 को ढाई घंटे लेट करना पड़ा, जिससे यात्रियों को भारी परेशानी हुई और उन्होंने अपना गुस्सा उन दोनों पर उतारा.

उन दोनों नेताओं को यात्रियों ने शोर मचाकर लौटा दिया. ये वीडियो इंटरनेट पर इस समय वायरल हो गया है. ये फ्लाइट इस्लामाबाद से कराची जा रही थी. इसमें पीपीपी के नेता रहमान मलिक और पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज के नेता डॉक्टर रमेश कुमार वाकवानी उस फ्लाइट में जाने वाले थे. दोनों नेता देर तक नहीं पहुंचे तो एयरलाइंस ने उस प्लेन की उड़ान नहीं होने दी.

नतीजतन प्लेन ढाई घंटें खड़ा रहा बाद में जब दोनों नेता नहीं पहुंचे तो यात्रियों ने बहुत हंगामा मचाया. जब मलिक प्लेन में घुसने लगे तो यात्रियों ने उनकी हूटिंग की. ये पूरा वाकया रिकॉर्ड कर लिया गया और इसे किसी ने वहां के वीडियो शेयरिंग साइट डेलीमोशन पर अपलोड कर दिया. इसमें दिख रहा है कि यात्री दोनों सांसदों का अपमान कर रहे हैं और मजाक उड़ा रहे हैं.

इसमें क्रू मेंबर भी यात्रियों के साथ मिलकर हंगामा कर रहे हैं. इस हंगामे के कारण रहमान मलिक तो प्लेन से दूर चले गए लेकिन दूसरे नेता वाकवानी प्लेन में चढ़ गए और अपनी सीट पर बैठ गए. लेकिन यात्रियों ने हंगामा मचाना जारी रखा और वाकवानी की लगातार हूटिंग करते रहे. बहुत देर तक हूटिंग के बाद वाकवानी भी प्लेन से उतर कर चले गए. इसके बाद पीआईए का वह विमान उन दोनों नेताओं के बगैर ही उड़ गया.

हालांकि एयरलाइंस के एक प्रवक्ता ने कहा कि इस विलंब का कारण विमान में तकनीकी खराबी है. उधर मलिक ने बाद में सफाई दी कि विमान उनके कारण देर से नहीं उड़ा बल्कि तकनीकी खराबी के कारण ऐसा हुआ.

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक "मुखौटों के पीछे - असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष" में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.