/हनुमानगढ में डेढ साल की बच्ची से दुष्कर्म, 28 दिन में आजीवन कारावास..

हनुमानगढ में डेढ साल की बच्ची से दुष्कर्म, 28 दिन में आजीवन कारावास..

-जग मोहन ठाकन||
चूरू,२५ सितम्बर. हनुमानगढ टाउन कस्बे में 26 अगस्त को डेढ साल की बच्ची के साथ दुष्कर्म करने पर सैशन न्यायालय हनुमानगढ द्वारा आरोपी को 28 दिन के भीतर आजीवन कारावास और जुर्माने से दण्डित किया गया है.100806_p03_rape(1)

अतिरिक्त महानिदेशक अपराध शाखा श्री अजीत सिंह ने प्रकरण की जानकारी देते हुए बताया कि परिवादी ने उपस्थित थाना होकर बताया कि मेरी डेढ साल की पुत्री के साथ गुरमेज उर्फ फौजी ने गलत काम कर लिया है. उपरोक्त प्रकरण की जॉच एससी/एसटी एक्ट महिला पुलिस थाना हनुमानगढ में दर्ज कर तफतीश श्री बच्चनसिंह पुलिस उप अधीक्षक एससी/एसटी सैल हनुमानगढ द्वारा शुरू की गई.

अतिरिक्त महानिदेशक ने बताया कि प्रकरण की गम्भीरता को देखते हुए पुलिस द्वारा पूर्ण तत्परता के साथ तीन दिन के भीतर अन्वेषण पूर्ण कर मुल्जिम गुरमेजसिंह उर्फ फौजी को गिरफ्तार कर चार्जशीट दिनांक 29.08.2014 को न्यायालय में पेश की गईं. अनुसंधान से मुलजिम गुरमेजसिंह उर्फ फौजी के विरूद्घ एससी/एसटी एक्ट प्रमाणित पाये गये. जिला पुलिस अधीक्षक, हनुमानगढ श्री शरद कविराज ने प्रकरण की सवेदनशीलता एवं गम्भीरता को देखते हुए प्रकरण को केस ऑफिसर स्कीम के तहत लिया जाकर थानाधिकारी महिला थाना श्री देवानन्द पुलिस निरीक्षक को केस ऑफिसर नियुक्त किया गया एंव केस ऑफिसर के द्वारा न्यायालय से दिन प्रतिदिन सुनवाई हेतु निवेदन किया जिस पर प्रकरण दर्ज होने के महज 28 दिन में 24 सितम्बर, 2014 को सेशन न्यायालय हनुमानगढ द्वारा निर्णय दिया गया जिसमें प्रकरण के आरोपी अभियुक्त गुरमेज सिंह उर्फ फौजी को धारा 363 भादस मे तीन साल का कठोर कारावास एंव 2000 रूपये का जुर्माना, 366 भादस मे पांच साल का कठोर कारावास एंव 4000 रुपये का जुर्माना, 376 (2) (1) भादस व धारा 5 (ड) सपठित धारा 6 लैंगिक अपराधों से बालकों का संरक्षण अधिनियम में दोषी मानते हुये आजीवन कारावास अभियुक्त के शेष प्राकृतिक जीवन तक एंव 25 हजार रुपये के जुर्माना, धारा 3 (2) अनुजाति/जनजाति अत्याचार निवारण अधिनियम में आजीवन कारावास से दण्डित किया गया.

अतिरिक्त महानिदेशक अजीत सिंह ने सभी पुलिस अधीक्षकों को निर्देश दिये है कि इस प्रकार के गम्भीर प्रकरणों का अतिशीघ्र निस्तारण किया जाये. ताकि जनता को समय पर न्याय मिल सके.

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं