कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे [email protected] पर भेजें | इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है। पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं। हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो। आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें -मॉडरेटर

भूपेन्द्र चौबे ने भी किया CNN-IBN को बाय बाय, पवन खेड़ा ने ट्वीट कर किया था इशारा..

0
Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

आज सीएनएन-आईबीएन से जुड़े सीनियर एंकर और एग्जिक्यूटिव एडिटर भूपेन्द्र चौबे ने चैनल को बाय -बाय कर दिया। हालांकि अभी फौरी तौर पर इसकी कोई वजह सामने नहीं आई है, लेकिन जिस तरह से उनके इस्तीफे की खबर सामने आने से एक घंटा पहले शीला दीक्षित के राजनीतिक सचिव रहे पवन खेड़ा ने बिना उनका नाम लिखे ट्वीट में एक टॉप टीवी एंकर के छोड़ने के पीछे मोदी की तरफ इशारा किया, उससे लगता है वो भूपेन्द्र चौबे की तरफ ही इशारा कर रहे थे। हालांकि भूपेंद्र अभी नोटिस पीरियड पर हैं और चैनल पर एंकरिंग करते हुए नजर आ रहे हैं।bhupen

पवन खेड़ा ने ट्वीट किया था, कि “A top TV anchor quitting. He had interviewed some people on the streets of NY who said they didn’t know Modi. Dear Leader didn’t like it”। इस ट्वीट के बाद ही लोगों ने कयास लगाना शुरू कर दिया कि वो कौन जर्नलिस्ट हो सकता है। हालांकि कुछ लोगों ने राजदीप का नाम लिया, लेकिन राजदीप ने तो थोड़ी देर पहले ही वीकेंड पर अपनी कसौली यात्रा के बारे में ब्लॉग अपडेट किया था, यानी कि वो अच्छे मूड में थे। कुछ लोगों ने भूपेन्द्र चौबे के नाम पर कयास लगाया, क्योंकि इस तरह की एक स्टोरी भूपेन्द्र चौबे ने की थी। हालांकि पवन खेड़ा ने लिखा है कि डीयर लीडर ने इसे पसंद नहीं किया। साफ है, अपनी पॉलिटिकल प्राथमिकताओं के चलते वो बिना तथ्यों की जानकारी के भी ऐसा लिख सकते हैं।

लेकिन एक घंटे के अंदर ये खबर आ गई कि भूपेन्द्र चौबे ने सीएनएन आईबीएन को अलविदा बोल दिया है, लेकिन चैनल छोड़ने की कोई वजह अभी तक सामने नहीं आई है। एक तरफ पवन खेड़ा वाली थ्योरी भी चर्चा में है तो वहीं एक थ्योरी ये भी सामने आई है कि राजदीप और सागारिका के चैनल छोड़ने के बाद वो खुद चैनल के मैनेजिंग एडीटर बनना चाहते थे, लेकिन मैनेजमेंट ने उनका प्रमोशन तो किया एग्जिक्यूटिव एडीटर बना दिया और मैनेजिंग एडिटर की पोजीशन परदे के पीछे रहने वाले राधाकृष्ण को दे दी।pawan_0

उस वक्त तो भूपेन्द्र चौबे ने चुप्पी साध ली, शायद मौके का इंतजार था। तो चर्चा ये है कि भूपेन्द्र को कहीं अच्छा मौका मिल गया है, जिसके चलते उन्होंने सीएनएन आईबीएन चैनल., जिसे हाल ही में मुकेश अम्बानी ने राघव बहल से ओवरटेक कर लिया है, को अलविदा कह दिया। हालांकि इस चर्चा की भी पुष्टि अभी तक किसी ने नहीं की है।

राजनीतिक समझ रखने वाले कुछ माहिर पत्रकारों में से एक हैं भूपेंद्र चौबे

एनडीटीवी से करियर शुरू करने वाले भूपेंद्र चौबे पिछले 12 सालों से टीवी पत्रकारिता कर रहे हैं। राजनीतिक पत्रकार के रूप में देश का हर कोना नाप चुके भूपेंद्र चौबे के बारे में कहा जाता है कि वे छोटे स्तरों पर चीजों को समझकर बड़े स्तर पर रखने में माहिर पत्रकार हैं, और उनकी लोकप्रियता भी इसी खूबी की वजह से बढ़ी है। सीएनएन-आईबीएन के लिए ‘पोलिटकली करेक्ट’ नाम के ब्लॉग के वे लेखक हैं।

गणित में ग्रैजुएट और फिल्म में पोस्ट ग्रैजुएट करने वाले भूपेंद्र चौबे अपने समय के बेहतरीन राजनीतिक पत्रकारों में से एक हैं। अपनी राजनीतिक पत्रकारिता के दौरान वे अभी तक दो आम चुनाव और देश के सभी राज्यों के विधानसभा चुनाव कवर कर चुके हैं। भूपेंद्र चौबे उन कुछेक पत्रकारों में शामिल हैं जो धरातल की राजनीतिक समझ के साथ एकैडेमिक समझ भी रखते हैं। सीएनएन-आईबीएन पर प्रसारित होने वाला उनके कई शो लोकप्रिय होने के साथ-साथ कई अवॉर्ड भी पा चुके हैं।

(समाचार4मीडिया)

Facebook Comments
Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं
Share.

About Author

पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं. हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो. आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें - मॉडरेटर

%d bloggers like this: