कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे [email protected] पर भेजें | इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है। पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं। हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो। आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें -मॉडरेटर

डॉक्‍टरों पर भड़के मांझी कहा, गरीबों का हक मारा तो काट लेंगे हाथ..

0
Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

बिहार के सीएम ने लापरवाह अधिकारियों व डॉक्टरों को दी चेतावनी..

पकड़ीदयाल/मधुबन/फेनहारा : मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने कल्याणकारी व विकास योजनाओं से गरीबों को वंचित करनेवाले अधिकारियों और लापरवाह डॉक्टरों व शिक्षकों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई का संकेत दिया है. उन्होंने गुरुवार को कहा कि गरीबों का जो हक मारेगा, हम उसकी बांह काट लेंगे.jitan ram manjhi

मुख्यमंत्री ने कहा कि अस्पताल में डॉक्टर नहीं आते हैं, तो नाम-पता लिख कर सीधे मेरे पास भेजें, ऐसे डॉक्टरों को घर बैठा देंगे. साथ ही उन्होंने सभी पंचायतों में इंटर कॉलेज खोलने की घोषणा की. वह पूर्वी चंपारण जिले में पकड़ीदयाल अनुमंडल अस्पताल के उद्घाटन के बाद लोगों को संबोधित कर रहे थे.

मुख्यमंत्री ने शिक्षकों, टोला सेवकों, विकास मित्रों को ईमानदारीपूर्वक काम करने की नसीहत देते हुए कहा, दूसरे के बहकावे में इनकलाब नहीं करें. समय के अनुसार सभी को उचित सम्मान दिया जायेगा. शिक्षक स्कूलों में पढ़ाएं. विकास मित्र गरीबों को हक दिलाएं. इनसे सरकार को काफी उम्मीद है. टोला सेवकों से कहा, आपका मानदेय 3500 से 5000 रुपये हो गया है.

उन्होंने कहा, अस्पताल में डॉक्टर नहीं रहता है, तो इसकी सूचना डीएम को दें या सीधे पोस्टकार्ड पर अनुपस्थित डॉक्टर का नाम, अस्पताल व अपना नाम लिख कर मुख्यमंत्री के पास सीधे भेजें. वैसे लापरवाह डॉक्टरों को घर बैठा देंगे.

मुख्यमंत्री ने कहा, 2009 से 2014 के लंबित द्वितीय किस्त भुगतान में गड़बड़ी की शिकायत मिली. इसकी जांच करा कर दोषी व्यक्तियों पर सख्त कार्रवाई की जायेगी. किसी को छोड़ा नहीं जायेगा. चाहे वह विधायक, मुखिया, विकास मित्र ही क्यों न हो. मुख्यमंत्री ने कहा कि दूसरी जगहों से अफवाह फैलाने की ट्रेंनिंग लेकर बिहार सरकार को बदनाम करनेवालों से बचें.

वैसे प्रशिक्षित लोग पटना में छठ घाट हादसा, रावणवध के दौरान हादसे को अंजाम दे चुके हैं. इनसे बचने की जरूरत है. सरकार स्थिर रहेगी, तो विकास जारी रहेगा.

मुख्यमंत्री ने मधुबन को नगर पंचायत के साथ क्षेत्र को कई तोहफा देने की घोषणा की. उन्होंने कहा, बिहार में सभी अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों को आधुनिक बनाया जायेगा. एक माह के अंदर इसे अमली जामा पहनाया जायेगा. पूरे बिहार में छह सौ अस्पतालों को चिह्न्ति किया गया है.

महादलितों के विकास के लिए छह लाख की लागत से 50 परिवारवाले महादलितों के टोले में सामुदायिक भवन व वर्क रोड बनाया जायेगा.

मुख्यमंत्री ने सभी पंचायतों में इंटर कॉलेज खोलने की घोषणा की. महिलाओं के स्वास्थ्य व सुरक्षा के लिए शौचालय निर्माण के योजना पर विशेष जोर दिया. कहा, सरकार इसके लिए 10 हजार रुपये उपलब्ध करायेगी. कहा, हम पहले के मुख्यमंत्रियों की भांति जिला मुख्यालयों से समीक्षा कर लौटने वाले नहीं हैं. हम गांव-गांव जाकर सच्चई जानेंगे. जरूरत के अनुसार कार्रवाई करेंगे.
सभा की अध्यक्षता विधायक शिवजी राय व संचालन कांग्रेस नेता चंद्रभूषण जायसवाल ने की. सभा को विधायक मीनी द्विवेदी, श्याम बिहारी प्रसाद आदि ने संबोधित किया.

मुख्यमंत्री ने नक्सली समस्या की तह में जाकर इस समस्या के समाधान पर जोर दिया. कहा, अमीरी-गरीबी की खाई, दबंगों का अत्याचार और भूमि विवाद नक्सलवाद की जड़ हैं. इन्हें दूर किया जायेगा. सरकार के सार्थक प्रयासों के बाद बहुत से नक्सली हथियार छोड़ चुके हैं.

पूर्व मुख्यमंत्री नीतीश कुमार द्वारा शुरू किये गये विकास कार्यो को आगे बढ़ाया जा रहा है, जिसका फायदा सभी वर्गो के लोगों को मिलेगा. उन्होंने कहा कि नक्सली अपनी राह बदल कर समाज की मुख्य धारा में आएं. सरकार उन्हें हर संभव मदद करेगी. मुख्यमंत्री ने कहा कि राजनीतिक कारणों से नेपाल व चीन भारत में उग्रवाद को बढ़ावा दे रहे हैं. इनका निहित स्वार्थ है. पुलिस इनसे सख्ती से निबट रही है.

Facebook Comments
Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं
Share.

About Author

पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं. हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो. आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें - मॉडरेटर

%d bloggers like this: