कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे [email protected] पर भेजें | इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है। पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं। हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो। आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें -मॉडरेटर

अंबानी अपने चहेते अफ़सरों को नई सरकार में फिट करवाने के लिए सक्रिय..

0
Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

-पवन कुमार बंसल||

नई दिल्ली । प्रदेश में सत्ता परिवर्तन से चिंतित रिलायंस इन्डस्ट्रीज के मालिक मुकेश अंबानी भाजपा के नेतृत्व में बन रही नई सरकार में अपने अपने पंसदीदा अधिकारियों को नियुक्त करवाने के लिए सक्रिय हो गए हैं । वे भाजपा में अपने संपर्क का पूरा प्रयोग कर रहे हैं । यहीं नहीं भूपेंद्र सिंह हुड्डा भी कोशिश कर रहे हैं कि कुछ अफ़सर नई सरकार में महत्वपूर्ण पदों पर फिट करवा दिए जाएं ताकि रिलायंस के विशेष आर्थिक जोन तथा अन्य मामलों में शुरू होने वाली किसी जांच में वे उनकी मदद कर सकें । विश्वस्त सूत्रों के अनुसार हरियाणा से कुछ समय पहले ही केंद्र में मालदार पद पर डेप्युटेशन पर गए एक वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी द्वारा हरियाणा में वापिस आकर नए मुख्यमंत्री का प्रधान सचिव बनने के लिए जबरदस्त लॉबिंग की जा रही है । अंबानी इस काम में उसे परदे के पीछे से मदद कर रहे हैं । लंबे समय तक हरियाणा औद्योगिक विकास निगम में नियुक्त रहे भूपेंद्र सिंह हुड्डा के चहेते रहे इस अधिकारी ने रिलायंस इंडस्ट्रीज़ के विशेष आर्थिक जोन के मुद्दे पर अंबानी की काफी मदद की थी । सूत्रों के अनुसार मोदी सरकार का एक वरिष्ठ मंत्री भी इस अफ़सर के लिए लॉबिंग कर रहा है । उक्त अधिकारी ने पिछले दिनों हरियाणा भाजपा के एक वरिष्ठ नेता जिनका नाम मुख्यंत्री के लिए चल रहा है से मुलाकात भी की है । सूत्रों ने बताया है कि उक्त भाजपा नेता ने इस अधिकारी के पिछले रिकार्ड तथा भूपेंद्र सिंह हुड्डा से करीबी रिश्ते देखते हुए उसे कोई खास भाव नहीं दिए हैं । वैसे भी मुख्यमंत्री को यह छूट होती है कि वो अपनी इच्छानुसार प्रधान सचिव की नियुक्ति कर सकते हैं क्योंकि यह पद सरकार में काफी महत्वपूर्ण होता है ।MUKESH_AMBANI

उल्लेखनीय है कि केंद्र में प्रतिनियुक्ति पर लेने के लिए जब इस अधिकारी का मामला केंद्र में आया तो तत्कालीन प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह ने फाइल को यह कह कर लंबित कर दिया कि आने वाली सरकार कोई फैसला करे । लेकिन इस अधिकारी ने अंबानी के माध्यम से केंद्रीय मंत्री पी चिंदम्बरम से प्रधानमंत्री के एतराज के बावजूद अपनी फाइल क्लीयर करवा ली । गौरतलब है कि रिलायंस इंडस्ट्रीज़ को हरियाणा सरकार ने गुड़गांव में विशेष आर्थिक जोन बनाने के लिए जमीन उपलब्ध कराई थी तथा आठ हजार एकड़ जमीन रिलायंस इंडस्ट्रीज़ ने झज्जर जिले में खरीदी थी । विशेष आर्थिक जोन नहीं बना तो सरकार ने गुड़गांव वाली जमीन तो वापिस ले ली और झज्जर वाली जमीन में अंबानी को उद्योग लगाने की अनुमति दे दी, यही नहीं, वहां के कुछ इलाके में मकान बनाने की भी अनुमति दे दी थी । झज्जर के नागरिकों ने डॉ राजकुमार के नेतृत्व में इस जमीन को भूमि अधिनियम के तहत सरप्लस घोषित कर वापिस किसानों को देने की मांग कर झज्जर के क्लैक्टर की अदालत में याचिका दायर कर रखी है । अंबानी इसे खुर्दबुर्द करवाना चाहते हैं । चुनाव के दौरान बादली हलके से चुनाव लड़ रहे भाजपा नेता ओम प्रकाश धनखड़ ने वायदा किया था कि भाजपा सरकार बनने के पर यह जमीन किसानों को वापिस दिलवायी जाएगी । ऐसे में मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव का पद काफी अहम भूमिका निभाता है ।

इसी बीच प्रशासनिक लॉबी इस बात की प्रतीक्षा कर रही है कि अगले पुलिस महानिदेशक तथा सीआईडी विभाग के प्रमुख कौन होंगें । भूपेंद्र सिंह हुड्डा द्वारा नियुक्त किए गए पुलिस महानिदेशक एस एन वशिष्ठ तथा सीआईडी के प्रमुख अनंत ढुल की छुट्टी तय समझी जा रही है । वशिष्ठ रामवबिलास शर्मा के माध्यम से पद पर बने रहने की जुगत में हैं । इधर कहा जा रहा है कि पुलिस महानिदेशक पद के लिए पार्टी के आलाकमान यशपाल सिंघल के नाम पर विचार चल रहा है । एक पेशेवर पुलिस अधिकारी के रूप में पहचान रखने वाले यशपाल सिंघल के पिता रामेश्वर दास भाजपा के वरिष्ठ नेता थे तथा नरेंद्र मोदी के काफी करीबी थे । चुनावों के दौरान जींद गए मोदी ने सार्वजनिक सभा में कहा था कि वे जब जींद आते थे तब रामेश्वर दास के यहां रूकते थे ।

Facebook Comments
Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं
Share.

About Author

पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं. हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो. आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें - मॉडरेटर

%d bloggers like this: