/रामपाल की गिरफ्तारी के लिए सीआरपीएफ तैनात..

रामपाल की गिरफ्तारी के लिए सीआरपीएफ तैनात..

हिसार, रामपाल की गिरफ्तारी के लिए हरियाणा में बरवाला स्थित उनके सतलोक आश्रम के इर्द-गिर्द सुरक्षा बलों का घेरा बढ़ता जा रहा है. रामपाल की गिरफ्तारी के लिए आश्रम के आसापास सीआरपीएफ की तैनाती की गई है. उधर, पुलिस के पास उन्हें कोर्ट में पेश करने के लिए बस आज का दिन बचा है. पुलिस को उन्हें कल सुबह तक कोर्ट में पेश करना है. उधर, आश्रम के प्रवक्ता ने संकेत दिया है कि संत रामपाल कोर्ट में पेश हो सकते हैं.army
स्थिति से निपटने के लिए आइजी अनिल राव के नेतृत्व में 30 हजार जवानों को तैनात किया गया है.
दिल्ली से कमांडो की दो बटालियन भी मौके पर पहुंच गई हैं. केंद्र सरकार ने शनिवार रात सीआरपीएफ के 1400 और जवान हिसार के लिए रवाना कर दिए. आश्रम के आसपास लाठी-डंडों के साथ जमे हजारों समर्थकों को काबू करके संत रामपाल को गिरफ्तार करने के लिए प्रशासन ने सारे इंतजाम कर लिए हैं. आश्रम की पानी-बिजली काट दी गई है, राशन भी नहीं पहुंचने दिया जा रहा. संत रामपाल पर सन 2006 में हुई एक हत्या के मामले में शामिल होने का आरोप है. पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट ने उनके खिलाफ सोमवार को दोबारा गैर जमानती वारंट जारी किया है.
बरवाला कस्बे व सतलोक आश्रम के बीच लगाए गए पुलिस के तीन नाकों पर तैनात जवानों को धीरे-धीरे आश्रम की ओर बढऩे को आदेश दिया गया है. शनिवार दोपहर से पुलिस बल में हरकत शुरू हो गई. आश्रम और सुरक्षा बलों के बीच का फासला अब तीन सौ मीटर से भी कम रह गया है. आश्रम को कमांडो ने भी घेरना आरंभ कर दिया है. महिला पुलिस भी सक्रिय है. मौके पर 16 बुलेट प्रूफ गाडिय़ां, 29 एंबुलेंस और 20 जेसीबी मशीन तैयार खड़ी हैं. इस बीच मुख्यमंत्री मनोहर लाल खïट्टर ने संत रामपाल से कानून का सम्मान करते हुए शांतिपूर्ण ढंग से अदालत में पेश होने का अनुरोध किया है. पुलिस को 17 नवंबर तक संत रामपाल को अदालत में पेश करना है.

खेतों में उतरे पुलिस के जवान

प्रशासन ने सतलोक आश्रम के चारों तरफ घेराबंदी को सख्त करते हुए आश्रम के पास के खेतों में भी पुलिस के जवानों को उतार दिया है. राष्ट्रीय राजमार्ग से अनुयायियों के आश्रम की ओर जाने पर प्रतिबंध लगाए जाने के बावजूद जो भी अनुयायी खेतों से आश्रम में पहुंच रहे थे, उन्हें भी रोक दिया गया है. आश्रम जाने वाली सड़क पर आम आदमी के गुजरने पर रोक है. इलाके में निषेधाज्ञा लागू है.

छतों पर डटे हैं संत के अनुयायी

सतलोक आश्रम के बाहर और छतों पर संत रामपाल के हजारों भक्त डेरा जमाए हुए हैं. आश्रम के बाहर बैठे भक्तों का कहना है कि वे अपने गुरु के सत्संग को सुनने के लिए आए हुए हैं और सत्संग कैसेट के जरिये सुनाया जा रहा है. उन्होंने दावा किया कि पुलिस प्रशासन उनके गुरु को गिरफ्तार करने की कोशिश करती है तो पुलिस को पहले उनकी लाशों से गुजरना होगा.

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं