/सिरसा में पत्रकार से मारपीट..

सिरसा में पत्रकार से मारपीट..

सिरसा, शराब के नशे में धुत सफेद रंग की कार पर सवार एक टैंट हाऊस के पूर्व संचालक एवं पर्यटन केंद्र के पूर्व ठेकेदार रमेश अरोड़ा ने अपने साथियों के साथ बीती रात सुरतगढिय़ा चौक पर पंजाब केसरी (जांलधर) के संवाददाता राम माहेश्वरी पर हमला कर दिया. हमलावरों ने न केवल पत्रकार को जान से मारने की धमकियां दी, बल्कि गंदी-गंदी गालियां भी निकाली.RAM

इस घटना को लेकर पत्रकारों में गहरा रोष है. पत्रकारों ने आज शहर थाना प्रभारी सुरेशपाल से मिलकर आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की. राम माहेश्वरी ने थाना प्रभारी को लिखित शिकायत सौंपकर आरोपियों के खिलाफ मुकद्दमा दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार करने की मांग की है.

पुलिस को दी शिकायत में पीडि़त पत्रकार राम माहेश्वरी ने बताया कि रविवार 16 नवम्बर की रात 10 बजे सुरतगढिय़ा चौक के पास स्थित एक डेयरी पर वह दूध लेने गया था. जैसे ही दूध लेकर अपनी मोटरसाइकिल के पास पहुंचा, तभी एक सफेद रंग की कार (एच.आर.24एस/2626) वहां आकर रुकी. कार ड्राइव कर रहे रमेश अरोड़ा (जिसको मैं पहले से ही जानता हूं) ने बेमतलब उसे गंदी गालियां निकाली. जब एतराज जताया तो उसने अपने साथियों के साथ मिलकर उसके साथ मारपीट की.

पीडि़त पत्रकार ने बताया कि आसपास के लोगों ने उसे हमलावरों के चंगुल से छुड़ाया. किसी तरह वह अपनी मोटरसाइकिल पर बैठकर घर के लिए रवाना हुआ, लेकिन तभी हमलावर दोबारा गाड़ी में पीछे लग गए. रास्ते में रुकवाकर फिर मारपीट की और जान से मारने की धमकियां दी तथा फरार हो गए. इतने में वहां से गुजर रहे पत्रकार राजेंद्र कुमार व दीपक शर्मा यह दृश्य देेखकर रुक गए. दोनों ने उसे घर पहुंचाया.

माहेश्वरी ने शिकायत में कहा कि घटनाक्रम के बारे में रात को ही उसने अपने समाचार पत्र के हिसार जोन इंचार्ज संजय अरोड़ा को अवगत करवाया. इस मामले को लेकर आज सुबह मीडिया सैंटर में पत्रकारों की बैठक हुई, जिसमें सभी ने एक स्वर में कहा कि लोकतंत्र के चौथे स्तंभ पर हमला करने के आरोपी रमेश अरोड़ा व उसके साथियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए, ताकि आगे से कोई इस तरह का दुस्साहस न कर सके. शहर थाना प्रभारी सुरेश पाल ने पत्रकारों को आश्वासन दिया कि आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई अमल में लाई जाएगी.

(प्रेसवार्ता)

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं