कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे [email protected] पर भेजें | इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है। पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं। हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो। आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें -मॉडरेटर

अमेरिका के 50 लाख अवैध प्रवासियों को ओबामा ने दिया वैध दर्जा..

0
Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

वाशिंगटन : अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कांग्रेस को दरकिनार करते हुए आज व्यापक आव्रजन सुधारों की घोषणा की, जो कि 50 लाख अवैध कामगारों को निर्वासन से बचाएंगे. इन सुधारों से उन हजारों भारतीय तकनीकविदों को भी लाभ मिल सकता है, जो कानूनी तरीके से स्थायी दर्जा हासिल करने के इच्छुक हैं.President_Barack_Obama

_79168069_024809909-1ओबामा ने इसका विरोध करने वाले पक्षों द्वारा लगाए जा रहे उन आरोपों को खारिज कर दिया कि वह बिना वैध दस्तावेज वाले प्रवासियों को आसानी से बच निकलने दे रहे हैं. उन्होंने प्राइम-टाईम में प्रसारित होने वाले संबोधन में चेतावनी दी कि वह सीमा सुरक्षा को मजबूत करेंगे और अनाधिकृत बाहरी लोगों के अमेरिका में प्रवेश को और भी मुश्किल बना देंगे.

ऐसा माना जा रहा है कि ओबामा द्वारा उनकी कार्यकारी शक्तियों के इस्तेमाल के जरिए उठाया गया यह कदम आव्रजन के मुद्दे पर अमेरिकी राष्ट्रपति द्वारा उठाए गए बडे कदमों में से एक है. ऐसी भी उम्मीद है कि इससे पर्याप्त संख्या में उन भारतीय तकनीकविदों को मदद मिलेगी, जिन्हें वैध स्थायी दर्जा (एलपीआर) या ग्रीन कार्ड हासिल करने के लिए एच-1बी वीजा की परेशानी भरी और दुखदायी प्रक्रिया से गुजरना पडता है.

ओबामा ने अपने इस एकपक्षीय कदम को ‘सामान्य समझ, बीच के रास्ते वाला रुख’ बताया, जो कि कानून का उल्लंघन कर रहे प्रवासियों को ‘बाहर आने और कानून के अनुरुप चलने’ में मदद करेगा.

(प्रभात खबर)

Facebook Comments
Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं
Share.

About Author

पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं. हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो. आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें - मॉडरेटर

%d bloggers like this: