/सफ़दर हाशमी की 26वीं पुण्यतिथि पर ‘शहादत दिवस’ का आयोजन..

सफ़दर हाशमी की 26वीं पुण्यतिथि पर ‘शहादत दिवस’ का आयोजन..

क़ाफ़िला सांस्कृतिक मंच (साहित्यिक, सामाजिक एवं सांस्कृतिक संस्था) महात्मा गाँधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय, वर्धा (महाराष्ट्र) की ओर से जनवरी 2015 में नुक्कड़ नाटक के माध्यम से समाज को आंदोलित करने वाले सफ़दर हाशमी की 26वीं पुण्यतिथि पर ‘शहादत दिवस’ का आयोजन किया जा रहा है.Safdar_hashmi_viplove इस आयोजन में संगोष्ठी, नुक्कड़ नाटक, कला-परिचर्चा और जनवादी काव्य पाठ क्रमानुशार पेश किया जाएगा.

क़ाफ़िला सांस्कृतिक मंच इस कार्यक्रम के माध्यम से बेहतर सामाजिक संरचना के हेतु जन-चेतना के प्रसार में सफ़दर हाशमी के योगदान को प्रकाश में लाना चाहता है. जन-चेतना के मार्ग पर सांस्कृतिक अभिव्यक्ति मील का पत्थर साबित हुई. सफ़दर हाशमी ने इसी सांस्कृतिक अभिव्यक्ति को हथियार बनाकर समाज को जागृत करने का प्रयास किया. उनके इस कार्य को केंद्र में रखते हुए सामाजिक चेतना में सांस्कृतिक अभिव्यक्ति किस प्रकार एक सक्षक्त माध्यम बन सकती है इसके विभिन्न पक्षों को प्रस्तुत करने के लिए कला क्षेत्र से जुड़े विद्वानों एवं छात्रों के लिए कार्यक्रम का निर्माण किया गया.

काफ़िला सांस्कृतिक मंच एक ऐसे मंच की परिकल्पना को चरितार्थ करता है, जो व्यवहारिक रूप में शत-प्रतिशत छात्रों की कला को सोद्देश्यपूर्ण बेहतर सामाजिक संरचना के आधार पर चेतना के प्रचार- प्रसार हेतु मंच मुहैया करवाता है.

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक "मुखौटों के पीछे - असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष" में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.