Loading...
You are here:  Home  >  दुनियां  >  देश  >  Current Article

तहलका: हवाई यात्रा में विशेष सुविधा हासिल करने के लिए रॉबर्ट वाड्रा ने किया हैसियत का दुरुपयोग

By   /  November 29, 2014  /  No Comments

    Print       Email
इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..

तहलका पत्रिका ने दावा किया कि कुछ अधिकारी, नौकरशाह और दूसरे विशिष्ट लोगों ने एक निजी एयरलाइन कंपनी से मुफ्त टिकट और दूसरी सुविधाएं लेने के लिए अपनी हैसियत का ‘दुरुपयोग’ किया जो सेवा नियमों और शिष्टाचार का गंभीर उल्लंघन है.robert-vadra

पत्रिका के राजनीतिक संपादक रमेश रामचंद्रन ने शुक्रवार को एक संवाददाता सम्मेलन में आरोप लगाया कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के दामाद रॉबर्ट वाड्रा ने अंतरराष्ट्रीय उड़ानों में खुद के लिए, अपने एक सहयोगी और उसके बच्चों एवं उसकी मां के लिए कई रियायतें हासिल कीं.

वहीं नागर विमानन सुरक्षा ब्यूरो (बीसीएएस) में प्रतिनियुक्ति पर तैनात पश्चिम बंगाल के एक वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी टिकट राशि का केवल एक छोटा सा हिस्सा भरकर अपने परिवार को 28 विदेशी गतंव्यों पर ले गए.

तहलका के अनुसार नागर विमानन महानिदेशालय (डीजीसीए) के पूर्व अध्यक्ष, नागरिक उड्डयन मंत्रालय के एक पूर्व सचिव, भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के एक पूर्व महानिदेशक और भारतीय हवाईअड्डा प्राधिकरण के पूर्व अध्यक्ष ने भी ‘रियायतें हासिल कीं.’

तहलका ने जिन लोगों पर आरोप लगाए हैं, उनमें से कोई भी टिप्पणी के लिए उपलब्ध नहीं था. संबंधित एयलाइन कंपनी जेट एयरवेज से भी कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली है.

तहलका के आरोप ‘गलत’ : जेट एयरवेज

जेट एयरवेज ने तहलका पत्रिका के विशिष्ट लोगों को मुफ्त टिकट देने और उन्हें सीटों में विशेष तरजीह देने के आरोपों को ‘गलत’ और ‘दुर्भाग्यपूर्ण’ बताते हुए कहा कि यह पूरी दुनिया में विमानन उद्योग का एक आम चलन है.

जेट एयरवेज ने एक बयान में कहा, ‘‘सीटों को अपग्रेड करना वैश्विक यात्रा, पर्यटन और सेवा क्षेत्रों में एक आम चलन है और उपलब्धता को देखते हुए सेवा प्रदाता की समझ पर यात्रियों को यह सुविधा दी जाती है. जेट एयरवेज को अपने विशिष्ट मेहमानों को अपनी समझ के आधार पर अपग्रेड समेत दूसरी सुविधाएं देने का अधिकार है और ऐसा हम अ‍केले नहीं करते.’’
बयान के अनुसार, ‘‘लेख में लगाए गए आरोप गलत और दुर्भाग्यपूर्ण हैं.’’

तहलका की पूरी रिपोर्ट पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें..

Facebook Comments

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..
    Print       Email
  • Published: 3 years ago on November 29, 2014
  • By:
  • Last Modified: November 29, 2014 @ 11:08 am
  • Filed Under: देश

पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं. हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो. आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें - मॉडरेटर

You might also like...

जौहर : कब और कैसे..

Read More →
Page Reader Press Enter to Read Page Content Out Loud Press Enter to Pause or Restart Reading Page Content Out Loud Press Enter to Stop Reading Page Content Out Loud Screen Reader Support
%d bloggers like this: