/हाफिज सईद ने फिर ज़हर उगला, ‘हमले का जिम्‍मेदार इंडिया, हमें लेना है बदला’

हाफिज सईद ने फिर ज़हर उगला, ‘हमले का जिम्‍मेदार इंडिया, हमें लेना है बदला’

-प्रणय उपाध्याय||

नई दिल्ली,  पेशावर में आर्मी स्कूल पर आतंकी हमले से आहत पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने मुल्क से आतंकवाद के सफाए का एलान किया है. लेकिन, पेशावर से आए शरीफ के बयान के कुछ ही देर बाद मुंबई आतंकी हमले (26/11) के मास्टरमाइंड और लश्कर-ए-तैयबा के संस्थापक हाफिज सईद ने खुलकर भारत के खिलाफ जहर उगला. पेशावर हमले के पीछे भारत का हाथ बताने जैसे अनर्गल आरोप के साथ ही आतंकी हमलों की खुली धमकी भी दी.AVN_DANGERMAN

लश्कर का मुखौटा संगठन कहे जाने वाले जमात उद दावा के मुखिया सईद ने बुधवार को पेशावर हमले पर शोक की नमाज के बाद टीवी पर दिए बयान में आतंकी हमले के लिए तोहमत भारत के माथे मढ़ी. यहां तक कि इस हमले के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भारत सरकार की ओर से जताई गई संवेदना के खिलाफ भी उसने जमकर जहर उगला और इसका बदला लेने की धमकी भी दी.

सईद ने कहा कि इस हमले के असल मुजरिम भारत के प्रधानमंत्री मोदी हैं. सईद ने कहा, ‘सब एक बात पर इकट्ठे हो जाएं कि इस साजिशकर्ताओं से हमें बदला लेना है. इंडिया इसका असली जिम्मेदार है. हम पूरे तौर पर समझते हैं कि इस साजिश के पीछे इंडिया का हाथ है और हमें उससे बदला लेना है.’
मोदी के अफसोस जताने को नकली बताते हुए सईद ने कहा, ‘ये मगरमच्छ के आंसू बहाने वाला मोदी, नवाज शरीफ को फोन करने वाला मोदी असल मुजरिम है और हमें इसको दुनिया के सामने बेनकाब करना है.’

आतंकवाद के खिलाफ दोहरी नीति पर चल रहा पाकिस्तान
अमेरिका के दबाव में पाकिस्तान अपने पश्चिमी मोर्चे पर तालिबानी गुटों के खिलाफ सैन्य अभियान चला रहा है. जबकि, पाकिस्तानी पंजाब और गुलाम कश्मीर के इलाकों में सक्रिय भारत विरोधी आतंकी गुटों को प्रश्रय भी दे रहा है. संयुक्त राष्ट्र संघ व कई मुल्कों द्वारा आतंकी घोषित किए जा चुके सईद की हालिया लाहौर रैली को पाकिस्तान की सुरक्षा एजेंसियों ने परोक्ष रूप से मदद की. 26/11 के मुख्य साजिशकर्ता सईद के खिलाफ कार्रवाई का कोई कदम नहीं उठाया गया.

अंतरराष्ट्रीय आतंकियों पर कार्रवाई के आसार धुंधले
पेशावर हमले के बाद पाकिस्तान कुछ करता जरूर नजर आना चाहता है, लेकिन सईद जैसे घोषित अंतरराष्ट्रीय आतंकियों के खिलाफ कार्रवाई के कोई आसार धुंधले ही हैं. ऐसे में भारतीय खेमा पाक सरकार के बयानों की बजाय जमीनी कार्रवाई पर नजरें जमाए है. उच्च पदस्थ सूत्रों के मुताबिक आतंकवाद के खिलाफ पाकिस्तानी फौज और सरकार की कार्रवाई तभी असल मानी जाएगी जब वे लश्कर व जैश जैसे आतंकी गुटों के खिलाफ भी सख्ती दिखाएंगे.

(जागरण)

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं