कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे [email protected] पर भेजें | इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है। पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं। हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो। आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें -मॉडरेटर

वोट नहीं दिया तो कर दूंगा बेघर, देखें वीडियो..

0
Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

राजस्थान में भाजपा नेताओं की बदजुबानी थमने का नाम नहीं ले रही है. अभी कोटा के भाजपा विधायक प्रहलाद गुंजल द्वारा सीएमएचओ को धमकाने का मामला शांत भी नहीं हुआ था कि एक नहीं बल्कि दो और नए मामले सामने आ गए. इस बार राजस्थान में नवंबर में हुए नगर निगम चुनावों से जुड़ा एक विधायक का वीडियो सामने आया है. इस वीडियो में भाजपा के विधायक भवानी सिंह राजावत जनता को वोट देने के लिए धमकाते हुए नजर आ रहे हैं. तो वहीं एक और ऑडियो टेप सोशल मीडिया पर वायरल हुआ है जिसमें नगर निगम के चेयरमैन प्रमोद जैन कर्फ्यू न हटाने पर पुलिस अधिकारी को गाली दे रहे हैं.rajawat

वोट के लिए धमकी
दरअसल कोटा के लाडपुरा से विधायक भवानी सिंह राजावत हाल ही में हुए नगर निकाय चुनावों के दौरान मतदाताओं को धमकाते दिखे थे, जिसका विडियो अब सामने आया है. उन्होंने एक चुनावी सभा में कहा था, ‘आजकल सब पता चल जाता है, किसे वोट दिया है. अगर कमल को वोट नहीं दिया तो सबको घरों से बाहर फेंक दूंगा. सबका सामान उनके घरों से बाहर फिकवा दूंगा और कोई माई का लाल बचाने भी नहीं आ सकेगा.’

विधायक की सफाई
वीडियो सामने आने के बाद विधायक सफाई दे रहे हैं कि मैंने अभद्र भाषा का इस्तेमाल नहीं किया और सिर्फ जनता को वोट देने के लिए कहा है. साथ ही वह यह भी दुहाई दे रहे हैं कि बहुत सारे नेता इस तरह के लहजे में बात करते हैं.
पुलिस अधिकारी के साथ गाली-गलौज
दूसरे मामले में भाजपा के ही नैनवां के नगरपालिका चेयरमैन प्रदीप जैन द्वारा कर्फ्यू न हटाने पर डीसीपी को गाली गलौज करने और धमकाने का ऑडियो वायरल हुआ है. अपनी गंदी भाषा के सामने आने के बाद चेयरमैन प्रमोद जैन की सफाई भी गजब की है.
सफाई देते हुए प्रमोद जैन ने कहा, ‘हम जनप्रतिनिधि हैं और महिलाओं पर अत्याचार हो रहा था. शौच करने जाने वाली महिलाओं पर लाठियां बरस रही थीं, तो विरोध करना हमारा फर्ज था. हो सकता है कि भावना में हम अपशब्द कह गए हों, लेकिन इसमें क्या गलत किया है.’
इन दोनों घटनाओं से पहले कोटा के भाजपा विधायक विधायक प्रह्लाद गुंजल को एक मेडिकल अफसर को फोन पर गालियां देने और धमकाने के आरोप में पार्टी ने निलंबित कर दिया था.

गुंजल ने सीएमएचओ से अपने एक करीबी की पोस्टिंग मनचाही जगह पर करने की सिफारिश की थी. गूंजल ने धमकी भरे अंदाज में कहा था कि अगर मेरा काम नहीं हुआ तो ऐसा खौफ पैदा कर दूंगा कि बच्चों को रात में नींद नहीं आयेगी.

Facebook Comments
Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं
Share.

About Author

पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं. हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो. आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें - मॉडरेटर

%d bloggers like this: