कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे [email protected] पर भेजें | इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है। पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं। हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो। आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें -मॉडरेटर

BJP के चंदे में हैरान कर देने वाली हेरफेर..

0
Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

-हिमांशी धवन||

साल 2013-14 के लिए बीजेपी द्वारा चुनाव आयोग को सौंपी गई दानकर्ताओं की रिपोर्ट में कई गड़बड़ियां देखने को मिली हैं. एक ही चेक नंबर से 4 लाख रुपये से ऊपर की रकम की अलग-अलग ट्रांजैक्शंस दिखाई गई हैं. बीजेपी ने 20 दिसंबर, 2014 को यह रिपोर्ट इलेक्शन कमिशन को सौंपी थी, जबकि इसे 31 अक्टूबर, 2014 तक दिया जाना था.BJP donation

इस रिपोर्ट का विश्लेषण करने वाले एनजीओ एडीआर का कहना है तीन चेक या ड्राफ्ट नंबर ऐसे हैं, जिनके ऊपर दो-दो ट्रांजैक्शंस हुई हैं. जैसे कि कंपनी ए टु जेड़ सर्विसेस पुणे ने चेक या डीडी नंबर 957 पर 84 लाख रुपये बीजेपी को डोनेट किए हैं. मुंबई के रहने वाले किसी जमुना गुलाम वाहनवती ने इसी चेक या ड्राफ्ट नंबर पर पार्टी को 20 लाख रुपये डोनेट किए हैं.
इसी तरह से रवि डिवेलपर्स ने चेक नंबर 793956 पर बीजेपी को साढ़े 7 लाख रुपये डोनेट किए, वहीं रवि डिवेलपमेंट्स द्वारा भी इसी चेक नंबर पर इतनी ही रकम देने का जिक्र है. इन दोनों का पता और पैन नहीं दिया गया है. ठीक ऐसे ही प्रवीण कुमार ने 2 ट्रांजैक्शंस में 5लाख रुपये दिए, मगर चेक नंबर दोनों बार (826592) ही है. इनका भी कॉन्टैक्ट नंबर नहीं दिया गया है.

बीजेपी के सूत्रों का कहना है कि इस तरह से चेक या डीडी नंबर का दोहराव भूल की वजह से हुआ है या फिर टाइपिंग में ही कोई गड़बड़ी हुई है. उन्होंने कहा कि पार्टी का अकाउंट्स डिपार्टमेंट इसकी जांच करेगा और जल्द ही इस बारे में स्पष्टीकरण देगा.
दोहराव के अलावा एडीआर ने कुछ ऐसे डोनेशंस की तरफ भी ध्यान खींचा है, जिसमें नाम और पता नहीं दिया गया है. एक नाम है V.V और एक जगह सिर्फ BJP नाम से एंट्री की गई है. सवा लाख की दो एंट्रीज़ ऐसी हैं, जिनमें नाम के बजाय खाली जगह छोड़ी गई है. एडीआर के को-फाउंडर जगदीप छोकर का कहना है, ‘ये असामान्य सी ट्रांजैक्शंस हैं, जिनके बारे में स्पष्टीकरण आना चाहिए.’

(नभाटा)

Facebook Comments
Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं
Share.

About Author

पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं. हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो. आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें - मॉडरेटर

%d bloggers like this: