Loading...
You are here:  Home  >  मीडिया  >  Current Article

जी हाँ , उस लड़के का नाम जैग़म इमाम है..

By   /  March 2, 2015  /  No Comments

    Print       Email
इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..

-अजीत अंजुम||
साल 2007 के मई -जून का महीना रहा होगा. हम लोग ‘ न्यूज़ 24 ‘ चैनल की तैयारियों में व्यस्त थे . टीवी में काम करने को इच्छुक नए-पुराने पत्रकारों के फ़ोन आते रहते थे. एक दिन नोएडा से एक लड़के का फ़ोन आया . उस लड़के ने कहा – मैं फ़लाँ हूँ और फ़लाँ अख़बार में नोएडा से रिपोर्टर हूँ . अख़बार का पन्ना चाट पाठक होने के नाते मैं उस लड़के के नाम से वाक़िफ़ था . व्यंग्यात्मक शैली में लिखी उसकी दो -चार रचनाएँ मैंने पढ़ी थी .ajit

मैंने उसे समझाया कि टीवी में आकर तुम क्या करोगे , वहीं काम करो ..लेकिन उसकी ज़िद भी थी और पैसे की ज़रूरत एक बड़ी वजह भी. मैंने उसे मिलने के लिए बुलाया . उसे कुछ सब्जेट देकर उसका शीर्षक ( टीवी में स्लग बोलते हैं ) और प्रोमो लिखने को दिया . आधे घंटे बाद उसकी कापी मेरे पास आई . दो चार लाइनें पढ़कर ही हमने उसका नाम एचआर को भेज दिया . उस लड़के को बुलाकर शाबाशी दी और ख़ुशख़बरी भी . कुछ महीनों बाद चैनल लाँच हुआ , वो लड़का ‘न्यूज़ 24 ‘ के सीनियर टीवी पत्रकारों के बीच अपनी पहचान बनाता हुआ अपनी जगह बनाने में कामयाब हुआ . जैसा कि अक्सर होता है कि बास अगर किसी नए या जूनियर लड़के की ज़्यादा तारीफ़ करे तो तथाकथित कुछ सीनियर जलने भी लगते हैं . उसके केस में भी दो -तीन लोगों ने आकर मुझे कहा कि आ खामखां उसे इतना तवज्जो दे रहे हैं . लेकिन ये वो लोग थे , जो प्रतिभा का ताप महसूस कर रहे थे . वो लड़का काम करता रहा . टीवी में नया ऐर न्यूज़रूम में जूनियर होकर भी प्राइम टाइम के शोज़ में हाथ बँटाता रहा . एक दिन अचानक किसी ने आकर मुझे बताया कि जिसे आप इतना मानते हैं और भरोसा करते हैं , वो ‘न्यूज़ 24’ छोड़कर ‘आजतक’ जा रहा है . सच पूछिए तो मुझे झटका भी लगा और ग़ुस्सा भी आया . मैंने उस लड़के को बुलाया और अपने जिस अंदाज के लिए न्यूज़रूम के भीतर और बाहर बदनाम हूँ , उसी अंदाज में डाँटा भी कि तुम इतनी जल्दी छोड़कर कैसे जा सकते हो . वो लड़का अपनी सफ़ाई देता रहा लेकिन मैं कहाँ सुनने वाला था . मैं एक ही बात कहता रहा कि तुम नहीं जा सकते और वो विनम्रतापूर्वक एक ही जवाब देता रहा -सर मुझे जाने दीजिए . आख़िर में मैंने झल्लाकर इतना कहा -जाओ और दोबारा मुझसे मत मिलना . वो लड़का चुपचाप चला गया .दो -चार दिन बाद हिम्मत करके गुड बाय बोलने फिर मेरे केबिन में दाख़िल हुआ लेकिन मैं उसे ख़ुश होकर विदा करने को तैयार नहीं था , सो एक मिनट के सपाट संवाद के बाद उसे मैंने वापस भेज दिया . मेरी तल्ख़ी कम ज़रूर हुई थी लेकिन बरक़रार थी .

क़रीब डेढ़ -दो साल बाद किसी ने मुझे बताया कि उस लड़के ने ‘दोज़ख़ ‘ नाम का एक बहुत ही शानदार उपन्यास लिखा है . पहले तो मुझे यक़ीन नहीं हुआ , फिर मैंने उसे फ़ोन करके बधाई दी . दिल्ली में किताब का विमोचन हुआ . उसके बाद की लंबी कहानी है . ‘आजतक ‘ छोड़कर मेरे साथ वो मुंबई गया . बीएजी फ़िल्मस के सीरियल प्रोडक्शन वाले विंग का हिस्सा बना . सीरियल्स के लिए क्रिएटिव लेखन करता रहा . वो मुंबई में पैर ज़माने के लिए जद्दोजहद करता रहा और मैं दिल्ली में व्यस्त हो गया . जब भी मिलता या बात होती तो अपने सपने साझे करता . सीरियल्स के लिए लिखकर नाम कमाने का सपना . फ़िल्म बनाने का सपना . फ़िल्मकार के तौर पर पहचान बनाने का सपना . अचानक एक दिन उसने मुझे ये कहकर चौंका दिया कि सर , मैंने अपने उपन्यास ‘ दोज़ख़ ‘ पर फ़िल्म पूरी कर ली है . एडिट का काम चल रहा है . मुझे यक़ीन ही नहीं हुआ कि जो लड़का अभी मुंबई में ठीक से पाँव भी नहीं जमा पाया , उसने फ़िल्म कैसे बना ली ?कहाँ से बना ली? ऐसे ही कुछ बना लिया होगा . मैंने कई बार पूछा भी कि तुमने ख़ुद बनाई ? ख़ुद डायरेक्ट किया ? कैसे किया ये सब ? उसने हर बार चहकते हुए मेरे सशंकित सवालों का जवाब दिया . बीते चार -पाँच महीनों में उसने बताया कि कहाँ -कहाँ फ़ेस्टीवल में उसकी फ़िल्म दिखाई गई . सब सुनते हुए भी मुझे कुछ- कुछ अविश्वसनीय सा लगता . फिर एक दिन उसने ख़बर दी कि पीवीआर उसकी फ़िल्म को रिलीज़ कर रहा है और अब तो तारीख़ भी आ गई है .

इस लड़के का नाम जैग़म इमाम है . जैग़म की ज़िद को ज़मीन मिली है . सपने को आसमान मिले , यही मेरी शुभकामना है .
आज मुझे लगता है कि अगर अपने सपने का पीछा करता हुआ जैग़म मुंबई न पहुँचता तो यूँ ही किसी चैनल में प्रोड्यूसर होता और पैकेज लिखकर खप रहा होता . तीन -चार साल से जैग़म मुंबई में संघर्ष कर रहा है . कभी ख़ाली भी रहा तो भी उसके हौसले में कमी नहीं आई . जैग़म की फ़िल्म बाज़ारू बाक्स आफिस पर चले या न चले , उसने औरों से अलग सोचा और अलग किया . फ़िलहाल आप ट्रेलर देखिए , फ़िल्म अभी बाक़ी है ( किसी दिन इस लड़के पर कुछ और लिखूँगा )

(वरिष्ठ पत्रकार अजीत अंजुम की फेसबुक वाल से)

Facebook Comments

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..
    Print       Email
  • Published: 3 years ago on March 2, 2015
  • By:
  • Last Modified: March 2, 2015 @ 9:50 am
  • Filed Under: मीडिया

पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं. हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो. आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें - मॉडरेटर

You might also like...

राजस्थान के पत्रकार सरकार के समक्ष घुटने टेकने पर विवश हैं..

Read More →
Page Reader Press Enter to Read Page Content Out Loud Press Enter to Pause or Restart Reading Page Content Out Loud Press Enter to Stop Reading Page Content Out Loud Screen Reader Support
%d bloggers like this: