कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे [email protected] पर भेजें | इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है। पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं। हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो। आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें -मॉडरेटर

केजरीवाल को छोटा नेता मानते थे नरेंद्र मोदी, द मोदी इफेक्ट: इनसाइड नरेंद्र मोदीज कैंपेन टू ट्रांसफॉर्म इंडिया में हुआ खुलासा

0
Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

ब्रिटेन के पूर्व प्रधानमंत्री टोनी ब्लेयर के मीडिया सलाहकार और मशहूर पत्रकार लांस प्राइस ने नरेंद्र मोदी पर एक किताब लिखी है। यह किताब मोदी के चुनाव अभियान पर लिखी गई है, जिसमें कई दिलचस्प बातों का जिक्र किया गया है। किताब का नाम है ‘द मोदी इफेक्ट: इनसाइड नरेंद्र मोदीज कैंपेन टू ट्रांसफॉर्म इंडिया’ है।The Modi Effect Inside Narendra Modi’s Campaign to Transform India

इस किताब में मोदी ने कई ऐसी बातों का खुलासा किया है, जो उन्होंने आजतक सार्वजनिक नहीं की हैं और शायद ही कभी ये बातें सबके सामने आ पाती। सबसे दिलचस्प बात है अरविंद केजरीवाल से जुड़ी हुई। प्राइस के मुताबिक नरेंद्र मोदी ने उनसे कहा था कि बनारस में केजरीवाल की उम्मीदवारी पर मैं खामोश रहा क्योंकि खामोशी ही मेरी ताकत है। केजरीवाल एक शहर के छोटे नेता हैं। कई विपक्षी नेताओं को छोड़कर केजरीवाल को ज्यादा तवज्जो दी जा रही है। मुझे निशाना बनाने के लिए केजरीवाल का नाम मीडिया के एक चुनिंदा समूह ने कांग्रेस के इशारे पर उछाला है।

इस किताब में उनके चुनाव प्रचार और उसके नतीजों का भी जिक्र किया गया है। किताब के मुताबिक मोदी ने यह भी बताया कि मतगणना के दिन वह क्या कर रहे थे। मोदी ने बताया कि उन्होंने उस दिन न टीवी देखा न किसी का फोन सुना। 16 मई की सुबह जब मतगणना शुरू हुई थी तब वह अपने कमरे में अकेले थे और वहां न तो कोई टीवी था और नहीं कोई फोन। नतीजों के बारे में पहला फोन दोपहर 12 बजे के बाद तत्कालीन बीजेपी अध्यक्ष राजनाथ सिंह का आया था। उन्होंने मुझसे कहा था कि यह तो पहले ही पता था कि हम भारी बहुमत से जीतेंगे।

 

Facebook Comments
Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

संबंधित खबरें:

Share.

About Author

पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं. हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो. आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें - मॉडरेटर

%d bloggers like this: