Share this on WhatsApp
Subscribe to RSS
कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे mediadarbar@gmail.com पर भेजें | इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है। पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं। हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो। आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें -मॉडरेटर

हाशिमपुरा जनसंहार में इंसाफ के कत्ल और सोनभद्र के कनहर में सपा सरकार के दमन के खिलाफ 20 अप्रैल को होगा विधानसभा मशाल मार्च..

सपा राज में हुए सांप्रदायिक हिंसा में कातिलों को कैसे मिली जमानत, अखिलेश जवाब दें – रिहाई मंच

विकास के नाम पर सोनभद्र के कनहर में आदिवासी जनता पर अखिलेश सरकार चलवा रही है गोली

हाशिमपुरा, मलियाना, मुरादाबाद, कानपुर जनसंहारों पर गठित जांच आयोगों की रिपोर्टों को सार्वजनिक करने की मांग को लेकर 15 अप्रैल से चल रहा रिहाई मंच का जनसंपर्क और नुक्कड़ सभा आज भी बिल्लौजपुरा में जारी रहा। गौरतलब है कि इस अभियान के दौरान 20 अप्रैल सोमवार को विधानभवन के सामने मशाल मार्च और 26 अपै्रल को गंगा प्रसाद मेमोरियल हाॅल, अमीनाबाद में ‘हाशिमपुरा जनसंहार: इंसाफ विरोधी प्रदेश सरकार के खिलाफ सम्मेलन’ का आयोजन होना है।

बिल्लौजपुरा के अलकरीम होटल के सामने आयोजित नुक्कड़ सभा को संबोधित करते हुए रिहाई मंच के अध्यक्ष मुहम्मद शुऐब ने कहा कि 26 अपै्रल को आयोजित होने वाले सम्मेलन में पीडि़त परिवारों के सदस्य इसलिए बुलाया जा रहा है ताकि प्रदेश सरकार द्वारा फैलाए जा रहे इस झूठ का पर्दाफाश हो सके कि दोषी पुलिसकर्मियों को अदालत ने छोड़ा है, सरकार की इसमें कोई भूमिका नहीं है। जबकि सच्चाई यह है कि जब-जब समाजवादी पार्टी सत्ता में आई उसने इस मामले से जुड़े तथ्यों को मिटाया, हत्यारोपी पुलिस अधिकारियों को बचाया और लंबे समय तक मामले की पैरवी ही नहीं होने दी। उन्होंने कहा कि सपा सरकार के इस रवैए और अदालतों के एक सांप्रदायिक हिस्से के गठजोड़ का
ही नतीजा है कि तमाम ऐसी दस्तावेजी सुबूत जिसमें हत्यारे पुलिस और सैन्य कर्मियों की तस्वीरें तक हैं, जिन्हें कोई भी पहचान सकता है को अदालतों ने छोड़ दिया।

रिहाई मंच राज्य कार्यकारिणी सदस्य अनिल यादव ने कहा कि सोनभद्र में कनहर बांध बनाने के नाम पर जिस तरीके से गांवों में पुलिस ने निरीह आदिवासी जनता पर फायरिंग की उसने साफ किया कि अखिलेश सरकार और छत्तीसगढ़ व अन्य प्रदेशों की भाजपा नीति सरकारों में कोई अंतर नहीं है। सभी सत्ताधारी पार्टियां इस बात पर एकमत हैं कि विकास के नाम पर गरीब मजलूम जनता से उनके हक अधिकार छीन लिए जाएं। रिहाई मंच कनहर गोली कांड और पुलिस ज्यादती की कड़ी भर्त्सना करते हुए दोषी अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग करता है। 20 अपै्रल के रिहाई मंच के प्रस्तावित जुलूस में कनहर गोली कांड व हासिमपुरा जनसंहार के खिलाफ मशाल उठाई जाएगी।

रिहाई मंच प्रवक्ता शाहनवाज आलम और फहीम सिद्दीकी ने कहा कि हाशिमपुरा ही नहीं सपा सरकार में हुई सांप्रदायिक हिंसा चाहे वह फैजाबाद, अस्थान प्रतापगढ़, कोसी कलां, मुजफ्फरनगर सभी जगहों पर हत्यारोपियों को जमानत मिलना यह साबित करता है कि सपा सरकार उनके खिलाफ पैरवी नहीं कर रही है।
मुजफ्फरनगर सांप्रदायिक हिंसा में रासुका में निरुद्ध संगीत सोम व सुरेश राणा पर से न सिर्फ रासुका हटवाती है बल्कि रिहाई मंच द्वारा इनके खिलाफ तहरीर देने के बावजूद एफआईआर नहीं दर्ज करती है, जो साफ करता है कि भाजपा-सपा का सांप्रदायिक गठजोड़ वोटों की सियासत के लिए जनता की बलि देने पर उतारू है।

सैयद वसी, मोहम्मद आफाक और लक्ष्मण प्रसाद ने सभा में मौजूद लोगों से एक जुट होकर सपा के इंसाफ विरोधी और साम्प्रदायिक राजनीति का मुकाबला करने का आह्वान करते हुए कहा कि हाशिमपुरा पर आए अदालती फैसले पर समाजवादी पार्टी के मुखिया मुलायम सिंह की खामोशी ने उजागर कर दिया है कि उनकी दिलचस्पी साम्प्रदायिक हिंदू वोटरों को खुश करने की है। जिसे अब मुसलमान भी समझ गया है। इसलिए हाशिमपुरा पर आया फैसला सपा से मुसलमानों के मोहभंग की शुरूआत साबित होने जा रही है। उन्होंने कहा कि जिस तरह से रिहाई मंच के इस अभियान को जनसमर्थन मिल रहा है उससे सपा के खिलाफ मुसलमानों के गुस्से का अंदाजा लगाया जा सकता है।

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे mediadarbar@gmail.com पर भेजें | इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है। पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं। हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो। आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें -मॉडरेटर

0 comments

Add your comment

Nickname:
E-mail:
Website:
Comment:

Other articlesgo to homepage

मी लॉर्ड, कम-से-कम स्वाधीन परिवेश के जीवन को तो क़ानूनी बाध्यताओं में न जकड़ें..

मी लॉर्ड, कम-से-कम स्वाधीन परिवेश के जीवन को तो क़ानूनी बाध्यताओं में न जकड़ें..(0)

Share this on WhatsApp-ओम थानवी॥ राष्ट्रगान और तिरंगा हमारा गौरव हैं, हम आज़ाद हैं इसकी मुखर गवाही। लेकिन उसे लेकर क्या इन दिनों हम नाहक फ़िक़्रमंद नहीं हुए जा रहे? अब सर्वोच्च न्यायालय भी जैसे इस फ़िक़्र में शरीक़ हो गया है। आदेश है कि सिनेमाघर में फ़िल्म से पहले अनिवार्यतः जन-गण-मन होना चाहिए और

ब्लैक लिस्टेड करेंसी किंग कंपनी डे ला रु का खेल और कांधार कांड..

ब्लैक लिस्टेड करेंसी किंग कंपनी डे ला रु का खेल और कांधार कांड..(0)

Share this on WhatsApp-अखिलेश अखिल॥ हम नहीं जानते कि हमारी सरकार नोटबंदी के जरिये हमारा कल्याण कर रही है या फिर कोई राजनितिक और आर्थिक खेल कर रही है। देश की जनता को मोदी जी पर यकीं है। इसलिए कि कही उसकी दरिद्रता दूर हो जायेगी। चूँकि हमारे देश में नोटबंदी को लेकर कई तरह

विध्वंस के स्तूप बनाते मोदीजी..

विध्वंस के स्तूप बनाते मोदीजी..(1)

Share this on WhatsApp-जगदीश्वर चतुर्वेदी॥ पीएम मोदी की विशेषता है जो कहते हैं उससे एकदम उलटा आचरण करते हैं,नोटबंदी उनकी इसी खासियत का परिणाम है।पहले वायदा किया था कि पांच सौ और हजार के नोट 30दिसम्बर तक बदले जा सकेंगे, लेकिन आज सरकार ने घोषणा की है कि पुराने नोट अब बदले नहीं जाएंगे।इसी तरह

धोखा देना जिनकी फितरत है..

धोखा देना जिनकी फितरत है..(0)

Share this on WhatsAppनोटबंदी का एकतरफा निर्णय लेने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश की जनता को बरगलाने के लिए किया अचानक घोषणा वाला नाटक.. -सत्येंद्र मुरली॥ – 8 नवंबर 2016 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का ‘राष्ट्र के नाम संदेश’ लाइव नहीं था, बल्कि पूर्व रिकॉर्डेड और एडिट किया हुआ था. – इस भाषण

सिर्फ 6 फीसदी संदिग्ध ‘कैश’ के लिये ‘राष्ट्रवादी सरकार’ ने 86 फीसदी करेंसी बंद कर दी..

सिर्फ 6 फीसदी संदिग्ध ‘कैश’ के लिये ‘राष्ट्रवादी सरकार’ ने 86 फीसदी करेंसी बंद कर दी..(0)

Share this on WhatsApp-उर्मिलेश उर्मिल|| भारत में कालेधन, भ्रष्टाचार और आतंकी-फंडिंग पर निर्णायक अंकुश लगे, यह वे सभी लोग चाहेंगे, जो स्वयं कालाधन-धारी नहीं, जो भ्रष्टाचारी नहीं या जो आतंकी नहीं! कौन नहीं जानता कि कालेधन का बड़ा हिस्सा हमारे यहां कारपोरेट, व्यापारी, नेता या अन्य बड़े धंधेबाजों के एक हिस्से के पास है. देश

read more

मीडिया दरबार एंड्राइड एप्प

मीडिया दरबार की एंड्राइड एप्प अपने एंड्राइड फ़ोन पर इंस्टाल करें.. Click Here To Install On Your Phone

Contacts and information

मीडिया दरबार - जहाँ लगता है दरबार. आप ही राजा हैं इस दरबार के और कटघरे में है मीडिया. हम तो मात्र एक मंच हैं और मीडिया पर अपनी निगाह जमायें हैं, जहाँ भी मीडिया में कुछ गलत होता दिखाई देता है उसे हम आपके सामने रख देते हैं और चलाते हैं मुकद्दमा. जिसपर सुनवाई करते हैं आप, जहाँ न्याय करते हैं आप. जी हाँ, यह एक अलग किस्म का दरबार है. मीडिया दरबार...

Social networks

Most popular categories

© 2014 All rights reserved.
%d bloggers like this: