Loading...
You are here:  Home  >  मीडिया  >  Current Article

फेसबुक पर लिखने से घबराई बिहार सरकार: दो कर्मचारियों को किया निलंबित

By   /  September 17, 2011  /  4 Comments

    Print       Email
इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..

– प्रमोद रंजन।।

पहले वे आए यहूदियों के लिए और मैं कुछ नहीं बोला,
क्योंकि मैं यहू‍दी नहीं था।
फिर वे आए कम्युनिस्टों के लिए और मैं कुछ नहीं बोला,
क्योंकि मैं कम्युनिस्‍ट नही था।
फिर वे आए मजदूरों के लिए और मैं कुछ नहीं बोला,
क्योंकि मैं मजदूर नही था।
फिर वे आए मेरे लिए,
और कोई नहीं बचा था, जो मेरे लिए बोलता..। – पास्टएर निमोलर, हिटलर काल का एक जर्मन पादरी

बिहार में पिछले कुछ वर्षों से जो कुछ हो रहा है, वह भयावह है।  विरोध में जाने वाली हर आवाज को राजग सरकार क्रूरता से कुचलती जा रही है। आपसी राग-द्वेष में डूबे और जाति -बिरादरी में बंटे बिहार के बुद्धिजीवियों के सामने तानाशाही के इस नंगे नाच को देखते हुए चुप रहने के अलावा शायद कोई चारा भी नहीं बचा है।

16 सितंबर, 2011 को बिहार विधान परिषद ने अपने दो कर्मचारियों को फेसबुक पर सरकार के खिलाफ लिखने के कारण निलंबित कर दिया। ये दो कर्मचारी हैं कवि मुसाफिर बैठा और युवा आलोचक अरूण नारायण।

मुसाफिर बैठा को दिया गया निलंबन पत्र इस प्रकार है – ” श्री मुसाफिर बैठा, सहायक, बिहार विधान परिषद सचिवालय को परिषद के अधिकारियों के विरूद्ध असंवैधानिक भाषा का प्रयोग करने तथा  – ‘दीपक तले अंधेरा, यह लोकोक्ति जो बहुत से व्यक्तियों, संस्थाओं और सत्ता प्रतिष्ठानों पर लागू होती है।  बिहार विधान परिषद, जिसकी मैं नौकरी करता हूं, वहां विधानों की धज्जियां उडायी जाती हैं’- इस तरह की टिप्पणी करने के कारण तत्काल प्रभाव से निलंबित किया जाता है।”

अरूण नारायण को दिये गये निलंबल पत्र के पहले पैराग्राफ में उनके द्वारा कथित रूप से परिषद के पूर्व सभापति अरूण कुमार के नाम आए चेक की हेराफेरी करने का आरोप लगाया गया है, जबकि इसी पत्र के दूसरे पैराग्राफ में कहा गया है कि परिषद में सहायक पद पर कार्यरत अरूण कुमार (अरूण नारायण) को ”प्रेमकुमार मणि की सदस्यरता समाप्त  करने के संबंध में सरकार एवं सभापति के विरूद्ध असंवैधानिक टिप्पाणी देने के कारण तत्काल प्रभाव से निलंबित किया जाता है।”

इन दोनों पत्रों को बिहार विधान परिषद के सभापति व भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठि नेता ताराकांत झा ”के आदेश से” जारी किया गया है। हिंदी फेसबुक की दुनिया में भी  कवि मुसाफिर बैठा अपनी बेबाक टिप्पिणियों के लिए जाने जाते हैं। अरूण नारायण ने अभी लगभग एक महीने पहले ही फेसबुक पर एकांउट बनाया था। उपरोक्तण जिन टिप्पणियों का जिक्र इन दोनों को निलंबित करते हुए किया गया है, वे फेसबुक पर ही की गयीं थीं।

फेस बुक पर टिप्‍पणी करने के कारण सरकारी  कर्मचारी को निलंबित करने का संभवत: यह कम से कम किसी हिंदी प्रदेश का पहला उदाहरण है और इसके पीछे के उद्देश्य गहरे हैं। हिंदी साहित्य की दुनिया के लिए मुसाफिर और अरूण के नाम अपरिचित नहीं हैं। मुसाफिर बैठा का एक कविता संग्रह ‘बीमार मानस का गेह’ पिछले दिनों ही प्रकाशित हुआ है। मुसाफिर ने ‘हिंदी की दलित कहानी’ पर पीएचडी की है। अरूण नारायण  लगातार पत्र पत्रिकाओं में लिखते रहते हैं, इसके अलावा बिहार की पत्रकारिता पर उनका एक महत्वपूर्ण शोध कार्य भी है।

मुसाफिर और अरूण को निलंबित करने के तीन-चार महीने पहले  बिहार विधान परिषद ने उर्दू के कहानीकार सैयद जावेद हसन को नौकरी से निकाल दिया था। विधान परिषद में उर्दू रिपोर्टर के पद पर कार्यरत रहे जावेद का एक कहानी संग्रह (दोआतशा) तथा एक उपन्यास प्रकाशित है। वे ‘ये पल’ नाम से एक छोटी सी पत्रिका भी निकालते रहे हैं।

आखिर बिहार सरकार की इन कार्रवाइयों का उद्देश्य क्या है? बिहार का मुख्यधारा का मीडिया अनेक निहित कारणों से राजग सरकार के चारण की भूमिका निभा रहा है। बिहार सरकार के विरोध में प्रिंट मीडिया में कोई खबर प्रकाशित नहीं होती, इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में विरले कोई खबर चल जाती है, तो उनका मुंह विज्ञापन की थैली देकर या फिर विज्ञापन बंद करने की धमकी देकर बंद कर दिया जाता है।

लेकिन समाचार के वैकल्पिक माध्य्मों ने नीतीश सरकार की नाक में दम कर रखा है। कुछ छोटी पत्रिकाएं, पुस्तिकाएं आदि के माध्यम से  सरकार की सच्चाटईयां सामने आ जा रही हैं। पिछले कुछ समय से फेस बुक की भी इसमें बडी भूमिका हो गयी है। वे समाचार, जो मुख्यधारा के समाचार माध्यमों में से बडी मेहनत और काफी खर्च करके सुनियोजित तरीके से गायब कर दिये जा रहे हैं, उनका जिक्र, उनका विश्लेषण फेसबुक पर मौजूद लोग कर रहे हैं। नीतीश सरकार के खिलाफ लिखने वाले अधिकांश लोग फेसबुक पर हिंदी में काम कर रहे हैं, जिनमें हिंदी के युवा लेखक प्रमुख हैं।

वस्तुत: इन दो लेखक कर्मचारियों का निलंबन, पत्रकारों को खरीद लेने के बाद राज्य सरकार द्वारा अब लेखकों पर काबू करने के लिए की गयी कार्रवाई है। बडी पूंजी के सहारे चलने वाले अखबारों और चैनलों पर लगाम लगाना तो सरकार के लिए बहुत मुश्किल नहीं था लेकिन अपनी मर्जी के मालिक, बिंदास लेखकों पर नकेल कसना संभव नहीं हो रहा था। वह भी तब, जब मुसाफिर और अरूण जैसे लेखक सामाजिक परिवर्तन की लडाई में अपने योगादान के प्रति प्रतिबद्ध हों।

ऐसे ही एक और लेखक प्रेमकुमार मणि भी काफी समय से राजग सरकार के लिए परेशानी का सबब बने हुए थे। मणि नीतीश कुमार के मित्र हैं और जदयू के संस्थापक सदस्यों  में से हैं। उन्हें पार्टी ने साहित्य के (राज्‍यपाल के)  कोटे से बिहार विधान परिषद का सदस्य  बनाया था। लेकिन उन्होंने समान स्कूल शिक्षा प्रणाली आयोग, भूमि सुधार आयोग की सिफारिशों को माने जाने की मांग की तथा इस वर्ष फरवरी में नीतीश सरकार द्वारा गठित सवर्ण आयोग का विरोध किया। वे राज्य में बढ रहे जातीय उत्पीडन, महिलाओं पर बढ रही हिंसा तथा बढती असमानता के विरोध में लगातार बोल रहे थे। नीतीश कुमार ने मणि को पहले पार्टी से 6 साल के लिए निलंबित करवाया।  उसके कुछ दिन बाद उनकेघर रात में कुछ अज्ञात लोगों ने घुस कर उनकी जान लेने की कोशिश की। उस समय भी बिहार के अखबारों ने इस खबर को बुरी तरह दबाया।  (देखें, फारवर्ड प्रेस, जून, 2011 में प्रकाशित समाचार ‘ प्रेमकुमार मणि, एमएलसी पर हमला: बस एक कॉलम की खबर’) गत 14 सितंबर को नीतीश कुमार के इशारे पर इन्हीं ताराकांत झा ने एक अधिसूचना जारी कर प्रेमकुमार मणि की बिहार विधान परिषद की सदस्यता समाप्त  कर दी है। मणि पर अपने दल की नीतियों (सवर्ण आयोग के गठन) का विरोध करने का आरोप है।

राजनीतिक रूप से देखें तो नीतीश के ने‍तृत्व वाली राजग सरकार एक डरी हुई सरकार है। नीतीश कुमार की न कोई अपनी विचारधारा है,  न कोई अपना बडा वोट बैंक ही है। भारत में चुनाव जातियों के आधार पर लडे जाते हैं। बिहार में नीतीश कुमार की स्वजातीय आबादी 2 फीसदी से भी कम है। कैडर आधारित भाजपा के बूते उन्हें पिछले दो विधान सभा चुनावों में बडी लगने वाली जीत हासिल हुई है। इस जीत का एक पहलू यह भी है कि वर्ष 2010 के विधान सभा चुनाव में लालू प्रसाद के राष्ट्रीय जनता दल को  20 फीसदी वोट मिले जबकि नीतीश कुमार के जदयू को 22 फीसदी। यानी दोनों के वोटो के प्रतिशत में महज 2 फीसदी का अंतर था।

नीतीश कुमार पिछले छह सालों से अति-पिछड़ों और अगड़ों का एक अजीब सा पंचमेल बनाते हुए सवर्ण तुष्टिकरण की नीति पर चल रहे हैं। इसके बावजूद मीडिया द्वारा गढ़ी गई कद्दावर राजनेता की उनकी छवि हवाई ही है। वे एक ऐसे राजनेता हैं, जिनका कोई वास्तविक जनाधार नहीं है। यही जमीनी स्थिति, एक सनकी तानाशाह के रूप में उन्हें  काम करने के लिए मजबूर करती है। इसके अलावा, कुछ मामलों में वे ‘अपनी आदत से भी लाचार’ हैं। दिनकर ने कहा है – ”क्षमा शोभती उस भुजंग को, जिसके पास गरल हो। उसे क्या जो विषहीन, दंतहीन, विनीत सरल हो।”

कमजोर और भयभीत ही अक्‍सर आक्रमक होता है। इसी के दूसरे पक्ष के रूप में हम प्रचंड जनाधार वाले लालू प्रसाद के कार्यकाल को देख सकते हैं। लालू प्रसाद के दल में कई बार विरोध के स्वर फूटे लेकिन उन्होंने कभी भी किसी को अपनी ओर से पार्टी से बाहर नहीं किया। मुख्यमंत्री की कुर्सी पर नजर गड़ाने वाले रंजन यादव तक को उन्होंने सिर्फ पार्टी के पद से हटाया था। दरअसल, लालू प्रसाद अपने जनाधार (12 फीसदी यादव और 13 फीसदी मुसलमान) के प्रति आश्वस्त‍ रहते थे।

इसके विपरीत भयभीत नीतीश कुमार बिहार में लोकतंत्र की भावना के लिए खतरनाक साबित हो रहे हैं। वे अपना विरोध करने वाले का ही नहीं, विरोधी का साथ देने वाले के खिलाफ जाने में भी सरकारी मशीनरी का हरसंभव दुरूपयोग कर रहे हैं। लोकतंत्र को उन्होंने नौकरशाही में बदल दिया है, जिसमें अब राजशाही और तानाशाही के भी स्‍पष्ट‍ लक्षण दिखने लगे हैं।

बिहार को देखते हुए  क्या यह प्रश्न अप्रासंगिक होगा कि भारतीय जनता पार्टी के ब्राह्मण (वादी) नेता, वकील और परिषद के वर्तमान सभापति ताराकांत झा ने जिन तीन लोगों को परिषद से बाहर किया है वे किन सामाजिक समुदायों से आते हैं ? सैयद जावेद हसन (अशराफ मुसलमान), मुसाफिर बैठा (धोबी, अनुसूचित जाति ) और अरूण नारायण (यादव, अन्य  पिछडा वर्ग )। मुसलमान, दलित और पिछडा। क्या  यह संयोग मात्र है ? क्या यह भी संयोग  है कि बिहार विधान परिषद में 1995 में प्रो. जाबिर हुसैन के सभापति बनने से पहले तक पिछड़े वर्गों के लिए नियुक्ति में आरक्षण की व्यवस्था तथा अनुसचित जातियों के लिए प्रोन्निति में आरक्षण की व्यवस्था लागू नहीं थी?

जाबिर हुसैन के सभापतित्व काल में पहली बार अल्प‍संख्यक, पिछडे और दलित समुदाय के युवाओं की परिषद सचिवालय में नियुक्तियां हुईं। इससे पहले यह सचिवालय नियुक्तियों के मामले में उंची जाति के रसूख वाले लोगों के बेटे-बेटियों, रिश्तेतदारों की चारागाह रहा था। क्या आप इसे भी संयोग मान लेंगे कि जाबिर हुसैन के सभापति पद से हटने के बाद जब नीतीश कुमार के इशारे पर कांग्रेस के अरूण कुमार 2006 में कार्यकारी सभापति बनाए गये तो उन्होंने जाबिर हुसैन द्वारा नियुक्ते किये गये 78 लोगों को बर्खास्त कर दिया और इनमें से 60 से अधिक लोग वंचित तबकों से आते थे ? (देखें, फारवर्ड प्रेस, अगस्त , 2011 में प्रकाशित रिपोर्ट -‘बिहार विधान परिषद सचिवालय में नौकरयिों की सवर्ण लूट’)  क्या हम इसे भी संयोग ही मान लें कि सैयद जावेद हसन, मुसाफिर बैठा और अरूण नारायण की भी नियुक्तियां इन्हीं जाबिर हुसैन के द्वारा की गयीं थीं ?

प्रमोद रंजन

जाहिर है, बिहार में जो कुछ हो रहा है, उसके संकेत बहुत बुरे हैं। मैं बिहार के पत्रकारों,  लेखक मित्रों तथा राजनीतिक कार्यकर्ताओं का आह्वान करना चाहूंगा कि जाति और समुदाय के दायरे तोड कर एक बार विचार करें कि हम कहां जा रहे हैं ? और इस नियति से बचने का रास्ता क्या  है ?

 

(लेखक फॉरवर्ड प्रेस (हिन्दी) के संपादक हैं यह आलेख उनके फेसबुक नोट से साभार लिया गया है)

Facebook Comments

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..
    Print       Email

About the author

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक “मुखौटों के पीछे – असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष” में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.

4 Comments

  1. A.N . Sandhwar says:

    शरीर पर जब जखम हो जाता है और दवा से ठीक नहीं होता है तो नश्तर लगाना ही पड़ता है लेखक जी आप अभी भी लालू गुणगान में लगे है लगे रहिये हो सकता है लालू चालीसा लिखने वाले की तर्ज पर आपका भी कभी कल्याण हो जाये वैसे बिहार की प्रगति आप को तो नहीं दिखेगी पर भारत के लोगो के साथ अन्य देशों के प्रतिनिधि ने जो महसूस किया है उससे इंकार नहीं किया जा सकता है..

  2. uday says:

    यार लेखक तो पागल हो गया है . इसे अभी भी जाति आधारित राजनीति करनी पसंद है . कृपया मीडिया दरबार इस तरह के लेख छाप कर अपनी प्रतिष्ठा का अवमूल्यन ना करे.

  3. Amarendra says:

    लालू जी भी सुधर गए, पर कुछ लोग कभी नहीं सुधरेंगे . हिंदी में बड़ी बड़ी बातें और प्रेस का नाम Forward Press. लोगों को जात पात में बाँट के देखना और बोलना हम नयी सोच के पैरोकार हैं. प्रमोद रंजन, चस्मा मुहं में डालने से सब साफ़ साफ़ नहीं दीखता, उसे आंख पे टिकाना पड़ता है. तो बस इतना करो, यही चस्मा आँखों, पर लगाकर जरा लालू जी के गुणगान बाला लाइन पढ़ लो. क्या दिखा? बस यही है तुम्हारी सच्चाई, जिसे सब लोग नकार चुके हैं, जो सिक्का चलने के काबिल नहीं है, उसे तुम चलाने की कोशिश कर रहे हो.

    और जिन लोगों के निलंबित होने से आप नाराज़ हैं, शुक्र है वो निलंबित हुए हैं. सरकारी नौकरी के अपने नियम और कानून होते हैं, सिर्फ कवि या आलोचक होने से आप सारे नियम को धता नहीं बता सकते. अगर यही सब करना था हो उनको राजनीति में आने कहो.

  4. pradeep kumar says:

    मुख्‍यमंत्री (मुर्खमंत्री) नीतीश कुमार, मैं भी डॉक्‍टर मुसाफिर हूं। कितनों को सस्‍पेंड करोगे ?

पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं. हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो. आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें - मॉडरेटर

You might also like...

एक जज की मौत : The Caravan की सिहरा देने वाली वह स्‍टोरी जिस पर मीडिया चुप है..

Read More →
Page Reader Press Enter to Read Page Content Out Loud Press Enter to Pause or Restart Reading Page Content Out Loud Press Enter to Stop Reading Page Content Out Loud Screen Reader Support
%d bloggers like this: