Share this on WhatsApp
Subscribe to RSS
कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे [email protected] पर भेजें | इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है। पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं। हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो। आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें -मॉडरेटर

कैसे लोग हैं ये तुम्हारे, जो सूचना अधिकार अधिनियम को भी नहीं जानते..

-चन्द्रशेखर करगेती।।

वर्तमान में राज्य की सत्ता पर काबिज कांग्रेस पार्टी यदि ज़रा भी लोकतंत्र और उसकी संस्थाओं में आस्था और विश्वास रखती है तो उसे सूचना आयोग और उसमें कार्यरत आयुक्तों को अपना सहयोगी ही मानना चाहिए, वे सरकारी मशीनरी को रास्ता दिखाने का ही काम करते हैं, उनके द्वारा सरकार से की गयी अनुशंसा, सरकार के लोकतांत्रिक और ईमानदार और पारदर्शी बनाने को ही काम करती है, इनकी अनुशंषा पर मीनमेख निकालने के बजाय उस अनुशंषा के अनुरूप कार्यवाही कर दूध का दूध और पानी का पानी करना चाहिए, वरना सरकार को लोकतांत्रिक और ईमानदार होने पर संशय ही बना रहेगा।

2e98bdf2-0c47-4096-acd7-cddcbeed1728wallpaper1


आज राज्य में जहाँ चारों और सरकारी मशीनरी के भ्रष्ट होने और उनके कारिन्दो के आकंठ भ्रष्टाचार में लिप्त होने की चर्चायें आम हैं, राज्य के नागरिकों द्वारा जिस भी संवेदनशील और चर्चित मामले में सूचनाधिकार के अंतर्गत जानकारी प्राप्त करने को आवेदन दाखिल किये जा रहे हैं तथा प्राप्त जानकारी से शासन और अधिकारीयों के निक्कमेपन तथा भाई-भतीजावाद चौकाने वाले तथ्य उजागर हो रहे हैं वे सरकार की आँखे खोलने वाले हैं।
सूचना के अधिकार में प्राप्त जानकारियां असल में सरकार की नीयत पर ही सवाल खड़े करती है, जब सरकार के पास पहले से ही घोटालों की दस्तावेजी जानकारी एंव साक्ष्य होते हैं तो घोटाला करने वालों के खिलाफ त्वरित कार्यवाही क्यों नहीं होती है ? आखिर घोटाला करने वाले कारिन्दो को किनका संरक्षण प्राप्त होता है ? सूचना आवेदनों के जरिये जानकारी बाहर आने पर सरकार व सत्तारूढ़ एंव विपक्षी दल सूचना आयुक्तों के खिलाफ अनर्गल बयानबाजी क्यों करने लगते हैं ? सवाल आखिर सरकार के खातों की जाँच करने वाली राज्य की महालेखा परिक्षा टीम पर भी आता है, जो गडबडियां एक आम सूचना आवेदक चंद दस्तावेजों से चिन्हित कर सार्वजनिक करता है वो सरकार की ऑडिट एजेंसियां क्यों नहीं कर पाती ?
सूचना आवेदनों के जरिये एनएचआरएम घोटाले का खुलासा हो या कुम्भ घोटाले का, समाज कल्याण विभाग में छात्रवृत्ति में बन्दरबाँट का हो या पेंशन वितरण में घालमेल का या फिर शासन से महत्वपूर्ण फाईलें गायब होने का हो या फिर 2013 की आपदा में हुए करोड़ों के घालमेल का, इन सब मामलों में सूचना आयोग के सरकार को की गयी जांच की अनुशंसा लोकतंत्र को मजबूत ही करती है, यह नागरिकों के जागरूक होने का ही परिणाम हैं कि वे अपने निर्वाचित जनप्रतिनिधियों से ज्यादा अपनी मेहनत से बनाये इस राज्य के लिए चिंतित हैं ।
भूपेंद्र कुमार के सूचना आवेदन पर जिस प्रकार से राज्य सूचना आयुक्त श्री अनिल शर्मा द्वारा घोटाले की सीबीआई जांच हेतु सरकार से अनुशंषा की गयी है, उसे सरकार को सकारात्मक लेते हुए सूचना आयोग और आयुक्त महोदय का आभारी होना चाहिए था, इसके उलट जिस तरह से सरकार में बैठे निर्वाचित जन प्रतिनिधी और सत्ता में बैठी कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष आयोग और सूचना आयुक्त की अनुशंषा और मंशा पर सवाल उठा रहें, वह बचकाना तो है ही उनके हाल के बयानों से यह भी सिद्ध करता है कि कहीं ये तो घोटालेबाज कारिन्दो के संरक्षक तो नहीं ? सत्ता पा जाने के बाद लगभग हर राजनैतिक दल इन संवैधानिक संस्थाओं के द्वारा जनहित के कामों को हतोत्साहित करने में लगा रहता है ! बेहतर होता सरकार और उसके दल के तथाकथित नामचीन नेता लोकतंत्र को सही मायने में समझ पाते, और लोकत्रंत्र की मजबूती के लिए इन संवैधानिक संस्थाओं को और मजबूत करते !
अब हम ग्याडू भी समझ रहें हैं इन सस्थाओं में टोलिया, नपलच्याल,जैन और रावत जैसे सरकार के वफादार रहे नौकरशाहों को क्यों नियुक्त किया जाता है ? सवाल बड़ा है समझ सको तो अपने पार्टी के लोगो को भी समझाना !
बाकी सरकार तो सरकार है ही, जिसके कारिन्दो की आँखें केवल मात्र जांच नाम के मरे सांप को पीटने के लिये ही होती है, श्री अनिल शर्मा की तरह राज्य सरकार की आँखे खोलने वाले सूचना आयुक्त उत्तराखंड राज्य की जरूरत भी हैं और समय की मांग भी !

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे [email protected] पर भेजें | इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है। पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं। हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो। आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें -मॉडरेटर

1 comment

#1Harish BahugunaDecember 30, 2015, 8:17 AM

Sir kuchh log aayog me galat bete hai unka pata karana hamara kratab hona chaye jisase RTI par hum log bharosha kar sakr

Add your comment

Nickname:
E-mail:
Website:
Comment:

Other articlesgo to homepage

दिल्ली देश का अकेला प्रदूषित शहर नहीं है, भारत में कई शहर जहां सांस लेना मुश्किल..

दिल्ली देश का अकेला प्रदूषित शहर नहीं है, भारत में कई शहर जहां सांस लेना मुश्किल..(0)

Share this on WhatsAppभारत के बहुत सारे शहर आखिर डब्लूएचओ और सीपीसीबी के मानकों पर प्रदूषण के मामले में खरे नहीं उतर पाए हैं, इसे प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड के डाटा साबित करते हैं। नई दिल्ली। 11 जनवरी 2016। ग्रीनपीस इंडिया द्वारा ऑनलाइन रिपोर्ट और सूचना के अधिकार के तहत देश भर के विभिन्न राज्यों के

नोटबंदी पर संसदीय समिति ने RBI गवर्नर से पूछे 10 सवाल..

नोटबंदी पर संसदीय समिति ने RBI गवर्नर से पूछे 10 सवाल..(0)

Share this on WhatsAppरिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) गवर्नर उर्जित पटेल से संसद की लोक लेखा समिति (PAC) ने नोटबंदी के फैसले को लेकर 10 सवाल पूछे हैं और 20 जनवरी को अपने समक्ष पेश होने के लिए तलब किया है। कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता केवी थॉमस अध्यक्षता वाली इस समिति ने पटेल से

मी लॉर्ड, कम-से-कम स्वाधीन परिवेश के जीवन को तो क़ानूनी बाध्यताओं में न जकड़ें..

मी लॉर्ड, कम-से-कम स्वाधीन परिवेश के जीवन को तो क़ानूनी बाध्यताओं में न जकड़ें..(0)

Share this on WhatsApp-ओम थानवी॥ राष्ट्रगान और तिरंगा हमारा गौरव हैं, हम आज़ाद हैं इसकी मुखर गवाही। लेकिन उसे लेकर क्या इन दिनों हम नाहक फ़िक़्रमंद नहीं हुए जा रहे? अब सर्वोच्च न्यायालय भी जैसे इस फ़िक़्र में शरीक़ हो गया है। आदेश है कि सिनेमाघर में फ़िल्म से पहले अनिवार्यतः जन-गण-मन होना चाहिए और

ब्लैक लिस्टेड करेंसी किंग कंपनी डे ला रु का खेल और कांधार कांड..

ब्लैक लिस्टेड करेंसी किंग कंपनी डे ला रु का खेल और कांधार कांड..(0)

Share this on WhatsApp-अखिलेश अखिल॥ हम नहीं जानते कि हमारी सरकार नोटबंदी के जरिये हमारा कल्याण कर रही है या फिर कोई राजनितिक और आर्थिक खेल कर रही है। देश की जनता को मोदी जी पर यकीं है। इसलिए कि कही उसकी दरिद्रता दूर हो जायेगी। चूँकि हमारे देश में नोटबंदी को लेकर कई तरह

विध्वंस के स्तूप बनाते मोदीजी..

विध्वंस के स्तूप बनाते मोदीजी..(1)

Share this on WhatsApp-जगदीश्वर चतुर्वेदी॥ पीएम मोदी की विशेषता है जो कहते हैं उससे एकदम उलटा आचरण करते हैं,नोटबंदी उनकी इसी खासियत का परिणाम है।पहले वायदा किया था कि पांच सौ और हजार के नोट 30दिसम्बर तक बदले जा सकेंगे, लेकिन आज सरकार ने घोषणा की है कि पुराने नोट अब बदले नहीं जाएंगे।इसी तरह

read more

मीडिया दरबार एंड्राइड एप्प

मीडिया दरबार की एंड्राइड एप्प अपने एंड्राइड फ़ोन पर इंस्टाल करें.. Click Here To Install On Your Phone

Contacts and information

मीडिया दरबार - जहाँ लगता है दरबार. आप ही राजा हैं इस दरबार के और कटघरे में है मीडिया. हम तो मात्र एक मंच हैं और मीडिया पर अपनी निगाह जमायें हैं, जहाँ भी मीडिया में कुछ गलत होता दिखाई देता है उसे हम आपके सामने रख देते हैं और चलाते हैं मुकद्दमा. जिसपर सुनवाई करते हैं आप, जहाँ न्याय करते हैं आप. जी हाँ, यह एक अलग किस्म का दरबार है. मीडिया दरबार...

Social networks

Most popular categories

© 2014 All rights reserved.
%d bloggers like this: