Share this on WhatsApp
Subscribe to RSS
कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे [email protected] पर भेजें | इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है। पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं। हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो। आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें -मॉडरेटर

साथी की हत्या के विरोध में सड़क पर उतरे जौनपुर के पत्रकार..

JNP Photo1

गोजए सहित अन्य संगठनों ने जिलाधिकारी को सौंपा ज्ञापन.. काली पट्टी बांध मोटरसाइकिल जुलूस के साथ किया प्रदर्शन..
जौनपुर। शाहजहांपुर जनपद के पत्रकार जगेन्द्र सिंह की गत दिवस आग लगने से हुई मौत को लेकर बुधवार को जनपद के पत्रकारों ने मोटरसाइकिल जुलूस निकालकर जमकर विरोध प्रदर्शन करते हुये कलेक्टेªट पहुंचकर जिलाधिकारी के प्रतिनिधि अतिरिक्त उपजिलाधिकारी पुष्पराज सिंह को पत्रक सौंपा। 4 सूत्रीय मांगों का यह ज्ञापन मुख्यमंत्री के नाम सम्बोधित था जिसको जिलाधिकारी के माध्यम से भेजकर पूरी करने की मांग की गयी।
गोमती जर्नलिस्ट एसोसिएशन के नेतृत्व में पत्रकारों का एक प्रतिनिधिमण्डल मोटरसाइकिल जुलूस निकालकर नगर भ्रमण करते हुये कलेक्टेªट पहुंचा जहां जिलाधिकारी की अनुपस्थिति में उनके प्रतिनिधि उपजिलाधिकारी पुष्पराज सिंह को 4 सूत्रीय मांगों का ज्ञापन सौंपा गया। पत्रक के अनुसार मृत पत्रकार के हत्यारों को तत्काल गिरफ्तार किया जाय। मृतक के परिजन को 50 लाख रूपये मुआवजा एवं परिवार के एक सदस्य को नौकरी दिया जाय। परिजन सहित प्रदेश के सभी पत्रकारों की समुचित सुरक्षा व्यवस्था सुनिश्चित करायी जाय। आरोपित मंत्री राममूर्ति वर्मा सहित दोषी पुलिसकर्मियों को बर्खास्त किया जाय। ज्ञापन सौंपने वालों में अध्यक्ष डा. राम सिंगार शुक्ल गदेला, महामंत्री संजय अस्थाना, सूरज साहू, विरेन्द्र गुप्ता, दीपक गुप्ता, दीपक चिटकारिया, अजीत सोनी, प्रमोद जायसवाल, डा. प्रमोद वाचस्पति, सुनील मौर्य, श्याम रतन, महर्षि सेठ, अवधेश श्रीवास्तव, सूर्यमणि पाण्डेय, हिमांशु श्रीवास्तव एडवोकेट, संतोष सेठ, दीपक सिंह, संतोष सोंथालिया, विरेन्द्र मिश्र विराट, रविन्द्र विक्रम सिंह, राजेश उपाध्याय, बृजेश निषाद, राजेश श्रीवास्तव, अजय पाण्डेय, रियाजुल हक, शशिराज सिन्हा, संजय चौरसिया, प्रेम प्रकाश मिश्र, मो. अब्बास, अजीत सिंह टप्पू, विनोद विश्वकर्मा, अनिल विश्वकर्मा, अजीत चक्रवर्ती, अर्जुन शर्मा, राजेश मौर्य, उमेश गुप्ता, संजय शुक्ला, विद्याधर राय विद्यार्थी, संजीव चौरसिया, महेन्द्र चौधरी सहित सैकड़ों पत्रकार उपस्थित रहे।
इसी क्रम में उत्तर प्रदेश श्रमजीवी पत्रकार यूनियन की जनपद शाखा के अध्यक्ष विजय प्रकाश मिश्र के नेतृत्व में राज्यपाल के नाम सम्बोधित 5 सूत्रीय मांगों का ज्ञापन जिला प्रशासन को सौंपा गया। यूनियन ने पत्रकार के हत्या की उच्चस्तरीय न्यायिक जांच एवं परिजनों को आर्थिक सहायता उपलब्ध कराने की मांग किया है। जिला प्रशासन को पत्रक सौंपने वालों में विजय प्रकाश मिश्र, संतोष सोंथालिया, प्रेम प्रकाश मिश्र, शैलेन्द्र यादव, कैलाशनाथ मिश्र, पूर्व अध्यक्ष अनिल पाण्डेय सहित अन्य पत्रकार प्रमुख रहे।

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे [email protected] पर भेजें | इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है। पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं। हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो। आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें -मॉडरेटर

1 comment

#1Ashok BhambriJune 11, 2015, 5:37 PM

patarkar aykta jindabad

Add your comment

Nickname:
E-mail:
Website:
Comment:

Other articlesgo to homepage

सामाजिक जड़ता के विरुद्ध हिन्दी रंगमंच की बड़ी भूमिका..

सामाजिक जड़ता के विरुद्ध हिन्दी रंगमंच की बड़ी भूमिका..(0)

Share this on WhatsAppहिन्दू कालेज में ‘जनता पागल हो गई है’ तथा ‘खोल दो’ का मंचन.. -चंचल सचान॥ दिल्ली। हिन्दू कालेज की हिन्दी नाट्य संस्था ‘अभिरंग’ द्वारा कालेज पार्लियामेंट के वार्षिक समारोह ‘मुशायरा’ के अन्तर्गत दो नाटकों का मंचन किया गया। भारत विभाजन के प्रसंग में सआदत हसन मंटो की प्रसिद्ध कहानी ‘खोल दो’ तथा

अभागे ओम पुरी का असली दर्द..

अभागे ओम पुरी का असली दर्द..(0)

Share this on WhatsApp-निरंजन परिहार|| ओम पुरी की मौत पर उस दिन नंदिता पुरी अगर बिलख बिलख कर रुदाली के अवतार में रुदन – क्रंदन करती नहीं दिखती, तो ओम पुरी की जिंदगी पर एक बार फिर नए सिरे से कुछ नया लिखने का अपना भी मन नहीं करता. पति के अंतिम दर्शन पर आंखों

सवालों से किसे नफ़रत हो सकती है.?

सवालों से किसे नफ़रत हो सकती है.?(1)

Share this on WhatsApp-रवीश कुमार॥ सवाल करने की संस्कृति से किसे नफरत हो सकती है? क्या जवाब देने वालों के पास कोई जवाब नहीं है ? जिसके पास जवाब नहीं होता, वही सवाल से चिढ़ता है। वहीं हिंसा और मारपीट पर उतर आता है। अब तो यह भी कहा जाने लगा है कि अथारिटी से

क्या अघोषित इमरजेंसी की पदचाप और मुखर नहीं हो रही.?

क्या अघोषित इमरजेंसी की पदचाप और मुखर नहीं हो रही.?(3)

Share this on WhatsApp-ओम थानवी॥ एक रोज़ पहले ही रामनाथ गोयनका एवार्ड देते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा था कि हम इमरजेंसी की मीमांसा करते रहें, ताकि देश में कोई ऐसा नेता सामने न आए जो इमरजेंसी जैसा पाप करने की इच्छा भी मन में ला सके। और भोपाल की संदिग्ध मुठभेड़, दिल्ली में मुख्यमंत्री-

तकदीर के तिराहे पर नवजोत सिंह सिद्धू …क्योंकि राजनीति कोई चुटकला नहीं..

तकदीर के तिराहे पर नवजोत सिंह सिद्धू …क्योंकि राजनीति कोई चुटकला नहीं..(0)

Share this on WhatsAppआप जब ये पंक्तियां पढ़ रहे होंगे, तब तक संभव है नवजोत सिंह सिद्धू को नया राजनीतिक ठिकाना मिल गया होगा। लेकिन सियासत के चक्रव्यूह में सिद्धू की सांसे फूली हुई दिख रही हैं। पहली बार वे बहुत परेशान हैं। जिस पार्टी ने उन्हें बहुत कुछ दिया, और जिसे वे मां कहते

read more

मीडिया दरबार एंड्राइड एप्प

मीडिया दरबार की एंड्राइड एप्प अपने एंड्राइड फ़ोन पर इंस्टाल करें.. Click Here To Install On Your Phone

Contacts and information

मीडिया दरबार - जहाँ लगता है दरबार. आप ही राजा हैं इस दरबार के और कटघरे में है मीडिया. हम तो मात्र एक मंच हैं और मीडिया पर अपनी निगाह जमायें हैं, जहाँ भी मीडिया में कुछ गलत होता दिखाई देता है उसे हम आपके सामने रख देते हैं और चलाते हैं मुकद्दमा. जिसपर सुनवाई करते हैं आप, जहाँ न्याय करते हैं आप. जी हाँ, यह एक अलग किस्म का दरबार है. मीडिया दरबार...

Social networks

Most popular categories

© 2014 All rights reserved.
%d bloggers like this: