Share this on WhatsApp
Subscribe to RSS
कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे mediadarbar@gmail.com पर भेजें | इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है। पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं। हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो। आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें -मॉडरेटर

हमें क्यों चाहिए मजीठिया भाग-3A: इकरारनामा वर्किंग जर्नलिस्ट (फिक्शेशन आफ रेट्स आफ वेजेज) एक्ट 1958 का उल्लंघन..

मजीठिया वेज बोर्ड देने में आनकानी करने वाले जो अखबार अपने कर्मचारियों से जबरन इकरारनामा लिखवा रहे हैं कि उन्हें वेज बोर्ड नहीं चाहिए, वे वर्किंग जर्नलिस्ट (फिक्शेशन आफ रेट्स आफ वेजेज) एक्ट 1958 की धारा 7 का उल्लंधन कर रहे हैं।

justice-majithia-left-chairman-of-the-wage-boards-for-working-journalists-and-non-journalists-and-other-newspaper-employees-submitting-the-recommendations-to-labour-secretary-p-k-ch1

मजीठिया वेज बोर्ड की नोटिफिकेशन में सेक्शन 20जे के तहत कर्मचारियों द्वारा नया वेतनमान देने से इनकार करने की जो आप्शन मौजूद है, वह मौजूदा वेज बोर्ड के तहत बनने वाले वेतन से अधिक वेतन व भत्तों के संबंध में हो सकती है, न कि कम वेतन को लेकर। लिहाजा अगर जो भी कोई कर्मचारी आपने अखबार प्रबंधन के दबाव के चलते ऐसा इकरारनामा लिखने को मजबूर हुए हैं, उन्हें डरने की जरूरत नहीं है, क्योंकि इस प्रावधान की कानूनी वैधता ही नहीं है। कोई भी वेज बोर्ड वर्किंग जर्नलिस्ट एक्ट,1955 के प्रावधानों के खिलाफ अनुशंसा नहीं कर सकता है। अगर ऐसा हुआ भी है, तो इसकी वैधता को चैलेंज किया जा सकता है और यह वर्किंग जर्नलिस्ट (फिक्शेशन आफ रेट आफ वेजेज) एक्ट 1958 की धारा सात का उल्लंघन है।

वर्किंग जर्नलिस्ट (फिक्शेशन आफ रेट आफ वेजेज) एक्ट की धारा सात में स्पष्ट लिखा गया है कि कोई भी अखबार प्रबंधन वर्किंग जर्नलिस्ट एक्ट की धारा 9 व 13सी के तहत गठित वेतन आयोग की सिफारिशों के तहत लागू किए गए वेतनमान से कम वेतन नहीं दे सकता। ऐसे में धारा सात के खिलाफ किया गया किसी भी पत्रकार या गैर-पत्रकार कर्मचारी का इकरारनामा या हलफनामा स्वत: ही वैधता खो देता है।

इस एक्ट की धारा 11 में भी स्पष्ट किया गया है कि श्रमजीवी पत्रकार व गैर पत्रकार कर्मचारी अपने न्यौक्ता के साथ वहीं समझौता करने को स्वतंत्र होगा, जो उसे वेज बोर्ड के प्रावधानों से ज्यादा लाभ देता हो।

Kindly See these Sections of the Original Act.

Section 7. Working journalists entitled to wages at rates not less than
those specified in the order.- Subject to the provisions contained in
section 11, on the coming into operation of an order of the Central
Government, every working journalist shall be entitled to be paid by
his employer wages at a rate which shall in no case be less than the
rate of wages specified in the order.

Section 11. Effect of Act on Working Journalists Act, etc.- (1) Sections
8, 10, 11, 12 and 13 of the Working Journalists Act shall have no
effect in relation to the Committee.

(2) The provisions of this Act shall have effect notwithstanding
anything inconsistent therewith in the terms of any award, agreement
or contract of service, whether made before or after the commencement
of this Act:

Provided that where under any such award, agreement, contract of
service or otherwise, a working journalist is entitled to benefits in
respect of any matter which are more favorable to him than those to
which he would be entitled under this Act, the working journalist
shall continue to be entitled to the more favorable benefits in
respect of that matter, notwithstanding that he receives benefits in
respect of other matters under this Act.

(3) Nothing contained in this Act shall be construed to
preclude any working journalist from entering into any agreement with
an employer for granting him rights or privileges in respect of any
matter which are more favorable to him than those to which he would
be entitled under this Act.
वर्किंग जर्नलिस्ट (फिक्शेशन आफ रेट्स आफ वेजेज) एक्ट 1958 को अपलोड करने के लिए यहां क्लिक करें या Path का प्रयोग करें

http://india.gov.in/working-journalist-fixation-rates-wages-act-1958
or
http://indiacode.nic.in/rsPaging.asp?tfnm=195829&Page=1

(यह जानकारी हमें उपलब्‍ध करवाई है श्री रविंद्र अग्रवाल जी ने आप इनसे इस मोबाइल नंबर पर संपर्क कर सकते हैं 9816103265, इनका मेल आईडी है ravi76agg@gmail.com)

यदि हमसे कहीं तथ्यों में गलती रह गई हो तो सूचित अवश्य करें।(patrakarkiawaaz@gmail.com)

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे mediadarbar@gmail.com पर भेजें | इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है। पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं। हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो। आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें -मॉडरेटर

0 comments

Add your comment

Nickname:
E-mail:
Website:
Comment:

Other articlesgo to homepage

सवालों से किसे नफ़रत हो सकती है.?

सवालों से किसे नफ़रत हो सकती है.?(1)

Share this on WhatsApp-रवीश कुमार॥ सवाल करने की संस्कृति से किसे नफरत हो सकती है? क्या जवाब देने वालों के पास कोई जवाब नहीं है ? जिसके पास जवाब नहीं होता, वही सवाल से चिढ़ता है। वहीं हिंसा और मारपीट पर उतर आता है। अब तो यह भी कहा जाने लगा है कि अथारिटी से

क्या अघोषित इमरजेंसी की पदचाप और मुखर नहीं हो रही.?

क्या अघोषित इमरजेंसी की पदचाप और मुखर नहीं हो रही.?(3)

Share this on WhatsApp-ओम थानवी॥ एक रोज़ पहले ही रामनाथ गोयनका एवार्ड देते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा था कि हम इमरजेंसी की मीमांसा करते रहें, ताकि देश में कोई ऐसा नेता सामने न आए जो इमरजेंसी जैसा पाप करने की इच्छा भी मन में ला सके। और भोपाल की संदिग्ध मुठभेड़, दिल्ली में मुख्यमंत्री-

तकदीर के तिराहे पर नवजोत सिंह सिद्धू …क्योंकि राजनीति कोई चुटकला नहीं..

तकदीर के तिराहे पर नवजोत सिंह सिद्धू …क्योंकि राजनीति कोई चुटकला नहीं..(0)

Share this on WhatsAppआप जब ये पंक्तियां पढ़ रहे होंगे, तब तक संभव है नवजोत सिंह सिद्धू को नया राजनीतिक ठिकाना मिल गया होगा। लेकिन सियासत के चक्रव्यूह में सिद्धू की सांसे फूली हुई दिख रही हैं। पहली बार वे बहुत परेशान हैं। जिस पार्टी ने उन्हें बहुत कुछ दिया, और जिसे वे मां कहते

मजीठिया: हिंदुस्‍तान, अमर उजाला, पंजाब केसरी के साथियों इतिहास आपको कभी माफ नहीं करेगा..

मजीठिया: हिंदुस्‍तान, अमर उजाला, पंजाब केसरी के साथियों इतिहास आपको कभी माफ नहीं करेगा..(0)

Share this on WhatsAppहक के लिए आवाज न उठाने के लिए पत्रकारिता के इतिहास में हिंदुस्‍तान, अमर उजाला, पंजाब केसरी जैसे अखबारों में कार्यरत साथियों का नाम काले अक्षरों में लिखा जाएगा। यह बहुत ही शर्म की बात है कि अंदर कार्यरत साथियों को तो छोड़ों, जो रिटायर या नौकरी बदल चुके हैं उन्‍होंने भी

क्या बिना लाइसेंस चल रहा न्यूज़ चैनल ??

क्या बिना लाइसेंस चल रहा न्यूज़ चैनल ??(0)

Share this on WhatsAppराजस्थान में धूमधाम से खड़ा हुआ एक न्यूज़ चैनल इन दिनों फ़र्ज़ी तरीके से चल रहा है. खबर है कि इस चैनल को सुचना व प्रसारण मंत्रालय, भारत सरकार से जारी हुए लाइसेंस की अवधि काफी समय पहले खत्म हो चुकी है और चैनल अब तक इसको रिन्यू नहीं करवा पाया है

read more

मीडिया दरबार एंड्राइड एप्प

मीडिया दरबार की एंड्राइड एप्प अपने एंड्राइड फ़ोन पर इंस्टाल करें.. Click Here To Install On Your Phone

Contacts and information

मीडिया दरबार - जहाँ लगता है दरबार. आप ही राजा हैं इस दरबार के और कटघरे में है मीडिया. हम तो मात्र एक मंच हैं और मीडिया पर अपनी निगाह जमायें हैं, जहाँ भी मीडिया में कुछ गलत होता दिखाई देता है उसे हम आपके सामने रख देते हैं और चलाते हैं मुकद्दमा. जिसपर सुनवाई करते हैं आप, जहाँ न्याय करते हैं आप. जी हाँ, यह एक अलग किस्म का दरबार है. मीडिया दरबार...

Social networks

Most popular categories

© 2014 All rights reserved.
%d bloggers like this: