/सवाल हम सबसे है..

सवाल हम सबसे है..

-रवीश कुमार॥

ये सवाल आपसे इसलिए है क्योंकि खुद इसका सामना नहीं कर पा रहा । जवाब भी है पर आपके सामने सवाल रखना ही एक मात्र जवाब लगता है ।

व्यापम मामले में तथाकथित राष्ट्रीय मीडिया देर से जागा लेकिन स्थानीय मीडिया तो इसकी गतिविधियों को रिपोर्ट कर ही रहे थे । भले ही उन अख़बारों के तेवर खूंखार एंकरों जैसे नहीं थे मगर स्थानीय अख़बारों में खूब कवर हुआ है । कैसे हुआ है इसका विश्लेषण होना चाहिए । कांग्रेस भी महीनों से आवाज़ उठाती रही । लेकिन तब भी यह मामला मुख्यधारा का हिस्सा नहीं बन सका । दिल्ली में न मध्य प्रदेश में । क्या अब मीडिया का दायित्व तभी पूरा होगा जब दिल्ली के चार एंकर नींद से जागेंगे ।
क्या स्थानीय मीडिया और उसे पढ़ने वाला समाज मर गया है । स्थामी ( स्थानीय मीडिया ) का अपने राज्य में प्रसार दिल्ली के भौगोलिक क्षेत्र और आबादी से ज्यादा है फिर उसका असर क्यों नहीं होता । क्या अब किसी घटना के लिए उसके आस पास के समाज पर भरोसा नहीं करना चाहिए । हो सकता है समाज भी उस सिस्टम का लाभार्थी हो इसलिए दिल्ली मुंबई वालों को बताये बिना भोपाल या पटना की वास्तविकता वास्तविकता नहीं मानी जाएगी या सामने नहीं आएगी । यही सवाल राजनीति से है । राष्ट्रीय प्रवक्ता भी दिल्ली के चार एंकर जैसे हो गए हैं । उनकी प्रदेश शाखाएँ क्यों मृत मानी जाती हैं ?
व्यापम मामले में राष्ट्रीय मीडिया के देर से ही जागने के बाद जो रिपोर्टिंग हो रही है उसमें नया क्या है जो स्थानीय मीडिया ने महीनों पहले नहीं लिखा है । कई अख़बार और कई चैनल देखने वाले दर्शक बता सकते हैं कि रामी ( राष्ट्रीय मीडिया ) ने व्हीसल ब्लोअर की जानकारी या सूचना से आगे क्या बताया है या बता रहा है । ये व्हीसल ब्लोअर मीडिया नहीं है । इन्होंने जान जोखिम में डालकर इसकी लड़ाई लड़ी है । मीडिया सिस्टम में ऐसे लोग क्यों नहीं हैं । क्या स्थामी और रामी ने अपना पैसा, समय और कैरियर दाँव पर लगाकर सिस्टम से लड़ने वालों का शोषण नहीं किया ?
पूरे मीडिया अहाते में इन व्हीसल ब्लोअर की स्थिति को रखकर देखना चाहिए । यह काम मीडिया कराता तो उसके अपने सम्बंधों पर क्या असर पड़ता और जब दो चार व्हीसल ब्लोअर की दी हुई सूचना पर करता तो क्या असर पड़ता ।
मैं विचारों के अंत टाइप की भविष्यवाणी नहीं करता क्योंकि उतनी दूर तक देखने की क्षमता नहीं है लेकिन विविध विचारों से भी कुछ नहीं होता है । जो व्यापक सिस्टम है वो तो सत्ता में बैठी पार्टी या कारपोरेट या नीचे के अफ़सरशाही वाले नेक्सस में नए खिलाड़ी के आ जाने के बाद भी नहीं बदलता है । हमारी सारी क़वायद नट बोल्ट के खराब होने की सूचना देने भर की है । वापस अपने सवाल पर लौटते हुए कहना चाहता हूँ कि क्या हम जो जानते हैं वो देख नहीं रहे । जैसे व्यापम ( दूसरे राज्यों के भी ) के बारे में सब जानते थे लेकिन देख नहीं रहे थे ।
व्हीसल ब्लोअर क्या यह बता रहे हैं कि मीडिया से नहीं हो सकेगा । ये मीडिया अहाते के बेगार मज़दूर हैं जिनके काम से हमारी इमारतें बनती हैं लेकिन उन्हें इसकी मज़दूरी नहीं मिलती । ये भी क्या कमाल के दीवाने लोग हैं शायद इसलिए कि सिस्टम और मीडिया से बाहर हैं ? या सिस्टम और मीडिया एक ही है । इस सवाल का जवाब भी दीजियेगा कि व्यापम मामले में रामी ने स्थामी और व्हीब्लो ( व्हीसल ब्लोअर) से आगे जाकर क्या नया बताया ?
जो लोग यह मान कर चलते हैं कि इसका जवाब तो मेरे पास होना चाहिए उन्हें फिर से मैट्रिक का इम्तहान देना चाहिए । नॉन मैट्रिक तो इस पोस्ट को पढ़े ही नहीं ।

(प्रख्यात टीवी एंकर रवीश कुमार की फेसबुक वाल से साभार)

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं