Share this on WhatsApp
Subscribe to RSS
कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे mediadarbar@gmail.com पर भेजें | इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है। पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं। हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो। आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें -मॉडरेटर

सिंघानिया विश्वविद्यालय का प्रशासनिक भवन सीज..

-रमेश सर्राफ धमोरा॥
झुंझुनू, राजस्थान हाइकोर्ट के आदेश की पालना में पुलिस एवं प्रशासन ने मंगलवार को जिले के पचेरीकलां गांव स्थित सिंघानिया विश्वविद्यालय के प्रशासनिक भवन को सीज कर दिया है। पुलिस व प्रशासन की संयुक्त रूप से हुई कार्रवाई के दौरान विवि परिसर में भारी संख्या में पुलिस जाब्ता तैनात रहा। प्रशासनिक भवन सीज होने से विवि में अध्ययनरत करीब छह हजार विद्यार्थी प्रभावित होंगे।

Singhania


उपखण्ड अधिकारी सोहनराम चौधरी के नेतृत्व में दोपहर एक बजे तहसीलदार बृजेश कुमार, पुलिस उपाधीक्षक सुरेश कुमार सांवरिया मय जाब्ते के विश्वविद्यालय में पहुंचे पुलिस प्रशासन ने प्रशासनिक भवन में पढ़ाई कर रहे विद्यार्थियों को बाहर निकाल कर तीन तरफ से गेट को सीज कर दिया। उधर विश्वविद्यालय प्रशासन का कहना है कि उनका प्रशासनिक भवन हरियाणा के नारनौल से संचालित किया जाता है। ऑनलाइन पूरा कार्य नारनौल से किया जाता है। जिस भवन को सीज किया गया है, वहां नियमित विद्यार्थी अध्ययन करते है।
हाइकोर्ट ने सिंघानिया विश्वविधालय को आवंटित जोहड़ की भूमि को चार साल पूर्व निरस्त कर दिया था। आंवटित भूमि पर कोई भी निर्माण नहीं करने के लिए पाबंद किया गया था। उपखण्ड अधिकारी सोहनराम चौधरी ने बताया कि हाइकोर्ट के आदेश के बाद भी विश्वविद्यालय ने निर्माण कार्य जारी रखते हुए नए भवन का निर्माण कर लिया। प्रशासन ने कोर्ट में शपथ पत्र पेश करके निर्माण कराने की जानकारी दी। न्यायालय ने मामले की सुनवाई के बाद 12 अगस्त को विश्वविद्यालय के प्रशासनिक भवन को सीज करने के आदेश दिए थे।
विश्वविद्यालय को आंवटित भूमि निरस्त करने के बाद प्रशासन ने सात सितम्बर 2012 को भी ताला लगा दिया था। विश्वविद्यालय मामले को कोर्ट में लेकर गया। तब ताला खोलने के अलावा अन्य किसी कार्य में बाधा नहीं पहुंचाने के आदेश दिए। उसके बाद प्रशासन ने ताला खोला था। बुहाना के उपखण्ड अधिकारी सोहनराम चौधरीने बताया कि हाइकोर्ट के आदेश की पालना में विश्वविद्यालय के प्रशासनिक भवन को सीज किया गया है। विश्वविद्यालय को आंवटित भूमि 2008 में निरस्त हो चुकी है।

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे mediadarbar@gmail.com पर भेजें | इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है। पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं। हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो। आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें -मॉडरेटर

0 comments

Add your comment

Nickname:
E-mail:
Website:
Comment:

Other articlesgo to homepage

भक्त प्रोफेसरों के प्रतिवाद में..

भक्त प्रोफेसरों के प्रतिवाद में..(1)

Share this on WhatsApp-जगदीश्वर चतुर्वेदी॥ जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय की एकेडमिक कौंसिल की बैठक में शिक्षकों ने जिस एकजुटता का परिचय दिया है वह हम सबके लिए गौरव की बात है। इससे देश के प्रोफेसरों को सीखना चाहिए। जेएनयू के शिक्षकों ने अपने संघर्ष और विवेक के जरिए जेएनयू कैंपस के लोकतांत्रिक परिवेश और लोकतांत्रिक परंपराओं

आईआईटी की फीस वृद्धि के राजनैतिक निहितार्थ..

आईआईटी की फीस वृद्धि के राजनैतिक निहितार्थ..(0)

Share this on WhatsApp-आरिफा एविस॥ आईआईटी में पढ़ने वाले छात्रों को अब दोगुना फीस देनी होगी जो 90 हजार से बढ़कर दो लाख हो जाएगी। मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने यह फैसला आईआईटी काउंसिल के सिफारिश पर लिया है. आपको याद दिलाते चले कि कुछ दिन पहले ही इंजीनियरिंग की पढ़ाई-लिखाई के लिए दुनियाभर में

क्लासरूम बनाम स्टाफरूम..

क्लासरूम बनाम स्टाफरूम..(0)

Share this on WhatsApp-दिलीप सी मण्डल।। भारत के कैंपस में असंतोष सतह के नीच अरसे से खदबदा रहा था. हैदराबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी के पीएचडी स्कॉलर रोहित वेमुला की सांस्थानिक हत्या ने तापमान को बढ़ाकर वहां पहुंचा दिया, जहां यह असंतोष फट पड़ा. आज पूरे देश में, हर यूनिवर्सिटी में छात्र और तमाम अन्य लोकतांत्रिक और

राजस्थान सरकार का दलितों को तोहफा, अम्बेडकर लॉ यूनिवर्सिटी बंद करने का फैसला..

राजस्थान सरकार का दलितों को तोहफा, अम्बेडकर लॉ यूनिवर्सिटी बंद करने का फैसला..(2)

Share this on WhatsAppएक तरफ केंद्र की भाजपा सरकार संविधान निर्माता बाबा साहब अम्बेडकर की 125 वी जयंती का समारोह मना रही है, वहीँ दूसरी तरफ राजस्थान की वसुंधराराजे सरकार ने अम्बेडकर के नाम पर स्थापित विधि विश्वविध्यालय को बंद करने का निर्णय ले लिया है.. लोग पूछ रहे है कि क्या यह सरकार के

UGC एक फ्लॉप संस्थान, भंग करो..

UGC एक फ्लॉप संस्थान, भंग करो..(0)

Share this on WhatsAppनई दिल्ली। मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी द्वारा गठित कमेटी ने बुधवार को कहा है कि (यूनीवर्सिटी ग्रांट कमीशन) यूजीसी अपने मकसद में असफल रहा है और इसे भंग कर देना चाहिए। कमेटी का मानना है कि यूजीसी अपना लक्ष्य पाने में नाकाम रहा है। सूत्रों के मुताबिक, स्मृति ईरानी की

read more

मीडिया दरबार एंड्राइड एप्प

मीडिया दरबार की एंड्राइड एप्प अपने एंड्राइड फ़ोन पर इंस्टाल करें.. Click Here To Install On Your Phone

Contacts and information

मीडिया दरबार - जहाँ लगता है दरबार. आप ही राजा हैं इस दरबार के और कटघरे में है मीडिया. हम तो मात्र एक मंच हैं और मीडिया पर अपनी निगाह जमायें हैं, जहाँ भी मीडिया में कुछ गलत होता दिखाई देता है उसे हम आपके सामने रख देते हैं और चलाते हैं मुकद्दमा. जिसपर सुनवाई करते हैं आप, जहाँ न्याय करते हैं आप. जी हाँ, यह एक अलग किस्म का दरबार है. मीडिया दरबार...

Social networks

Most popular categories

© 2014 All rights reserved.
%d bloggers like this: