Share this on WhatsApp
Subscribe to RSS
कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे mediadarbar@gmail.com पर भेजें | इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है। पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं। हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो। आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें -मॉडरेटर

अगर हम लेखकों के विरोध को नहीं समझ रहे हैं तो यह हमारी गलती है..

-प्रियदर्शन॥

जिन्हें सरकार और उसके लोग बेहद मामूली, अनजान से लेखक बता रहे हैं, उनका विरोध इसलिए महत्वपूर्ण है कि हमारी बहुत सारी विफलताओं से प्रतिरोध का जो स्वर मर गया था, वह अचानक सांस लेने लगा है.

बायें से) अशोक वाजपेयी, काशीनाथ सिंह और उदय प्रकाश अपना साहित्य अकादमी सम्मान वापस करने का ऐलान कर चुके हैं

(बायें से) अशोक वाजपेयी, काशीनाथ सिंह और उदय प्रकाश अपना साहित्य अकादमी सम्मान वापस करने का ऐलान कर चुके हैं

चिनगारी जैसे शोले में बदलती जा रही है. लेखकों का विरोध बड़ा होता जा रहा है. कल तक जो लोग हिचक रहे थे या सम्मान वापस न करने के पक्ष में थे, वे भी साहित्य अकादेमी सम्मान लौटा रहे हैं. इस सूची में काशीनाथ सिंह से लेकर मुनव्वर राना तक जुड़ चुके हैं और केदारनाथ सिंह भी देर-सबेर शायद यही घोषणा कर दें कि उन्होंने 29 बरस पहले मिला साहित्य अकादेमी सम्मान लौटा दिया है. इस विरोध में अब तक हिंदी, उर्दू, पंजाबी, कन्नड़, बांग्ला, राजस्थानी, तमिल, मलयालम, अंग्रेजी, गुजराती, मराठी, तेलुगू, कश्मीरी सहित कई भाषाओं के लेखक शामिल हो चुके हैं. विरोध की आंच इतनी तीखी है कि दो सौ रुपये किलो से ऊपर बिक रही दाल का सवाल छोड़कर वित्तमंत्री अरुण जेटली लेखकों को कठघरे में खड़ा करने में जुटे हैं.

अगर लेखकों को सिर्फ फायदा हासिल करने के लिए कोई पक्ष चुनना है तो वे कांग्रेस और वामपंथ के कमज़ोर हो चुके किलों से ये लड़ाई क्यों लड रहे हैं – वे नरेंद्र मोदी के साथ क्यों नहीं हो लेते?

लेखकों के इस विरोध को मूलतः चार आरोपों के साथ गलत ठहराया जा रहा है. पहला आरोप तो यही है कि लेखक सिर्फ शोहरत हासिल करने के लिए सम्मान वापस कर रहे हैं. दूसरा आरोप यह है कि इस विरोध के पीछे कांग्रेस और वामपंथ है. तीसरा आरोप यह है कि लेखकों के विरोध का कोई तर्क नहीं दिख रहा – कलबुर्गी की हत्या हो या दादरी का मामला- इसके लिए साहित्य अकादेमी कहीं से ज़िम्मेदार नहीं है. आख़िरी तर्क ऊपर के सभी आरोपों की पुष्टि के लिए है- कि आख़िर इन लेखकों ने पहले कभी ये सम्मान क्यों नहीं वापस किए, जब परिमाण में इससे बड़ी और भयावह घटनाएं हुईं.

लेकिन ये तर्क इतने खोखले हैं कि अपना प्रतितर्क ख़ुद बनाते हैं. अगर सम्मान लौटाने से शोहरत मिलती है तो इन लेखकों ने यह पुण्य पहले क्यों नहीं कमाना चाहा? कृष्णा सोबती ने इसके लिए 35 साल और अशोक वाजपेयी ने 21 साल इंतजार क्यों किया? इसी तरह अगर कांग्रेस और वामपंथ इतने ताकतवर होते कि लेखकों को इस विरोध के लिए अपने दम पर खड़ा कर देते तो उन्होंने भी पहले यह काम क्यों नहीं किया? अटल सरकार के दौर में यह साज़िश क्यों नहीं हुई? और अगर लेखकों को सिर्फ फायदा हासिल करने के लिए कोई राजनीतिक पक्ष चुनना है तो वे कांग्रेस और वामपंथ के कमज़ोर हो चुके किलों से ये लड़ाई क्यों लड रहे हैं – वे नरेंद्र मोदी के साथ क्यों नहीं हो लेते जिनके पास सारी सत्ता है? सच तो यह है कि पुरस्कार वापसी की पहल में उन लेखक संगठनों की कोई भूमिका नहीं थी जिन्हें यह काम कुछ ज़्यादा तेज़ी से करना चाहिए था. बेशक, बाद में प्रलेस, जलेस और जसम ने एक रुख अख़्तियार किया और लेखकों को जोड़ने की कोशिश की, लेकिन यह पूरा विरोध स्वत: स्फूर्त रहा.

एक राजनीतिक आरी जैसे हिंदुस्तान का सीना चाक करने में लगी हुई है. वह मंदिर-मस्जिद के नाम पर, गाय और सुअर के बहाने, इतिहास के गलत हवाले देते हुए, जैसे हज़ार साल की पूरी परंपरा पर कुठाराघात कर रही है.

यह स्वतःस्फूर्तता ही इस आरोप का जवाब है कि इस विरोध के पीछे कोई एक तर्क नहीं है. यह एक आणविक धमाके जैसा है जिसमें एक कण से पैदा हुआ चेन रिऐक्शन एक बड़े विस्फोट में बदल जाता है. लेखकों के भीतर यह विस्फोट अपनी-अपनी वजहों से हुआ है. इन सबको जोड़ कर देखें तो यह समझ में आता है कि अभी माहौल में जितनी घुटन है उतनी पहले कभी नहीं थी. बेशक, इमरजेंसी भारतीय लोकतंत्र का सबसे स्याह पन्ना थी, लेकिन उसमें जो हो रहा था वह सबके साथ था और ऐसा था कि एक व्यक्ति के जाते ही खत्म हो सकता था. उस इमरजेंसी की सबसे ज़्यादा चोट इंदिरा गांधी ने ही खाई, लोकतंत्र ने उन्हें पराजित किया. इसी तरह 1984 की हिंसा हमारे सार्वजनिक जीवन के सबसे शर्मनाक अध्यायों में है, मगर राजीव गांधी के एक नासमझ जुमले के अलावा उसे राज्य या सत्ता का समर्थन हासिल नहीं था.

लेकिन अब जो हो रहा है, वह ज़्यादा ख़तरनाक है. एक राजनीतिक आरी जैसे हिंदुस्तान का सीना चाक करने में लगी हुई है. वह मंदिर-मस्जिद के नाम पर, गाय और सुअर के बहाने, तुष्टीकरण का टंटा खड़ा करके, इतिहास के गलत हवाले देते हुए, जैसे हज़ार साल की पूरी परंपरा पर कुठाराघात कर रही है. और जो लोग इसका विरोध करना चाहते हैं, उनके सिर पर एक अदृश्य तलवार सी टंगी हुई है. उन्हें या तो खामोश रहना है, या साथ रहना है, नहीं तो धर्मद्रोही, देशद्रोही, विकास-विरोधी कुछ भी करार दिए जा सकते हैं.

दरअसल यही क्षोभ है जो इन लेखकों के भीतर बड़ा हो रहा है. लेखक इसी दुनिया के लोग होते हैं और उनमें समाज के सारे गुण-दुर्गुण भी होते हैं. वे प्रलोभन के शिकार हो जाते हैं, वे कमज़ोर पड़ जाते हैं, कायरता दिखाते हैं, वे पुरस्कारों के लिए जोड़तोड़ करते हैं, वे सत्ता के साथ चलने में भलाई भी देखते हैं, लेकिन इस सारी दुनियादारी के बीच उन्हें भी गुस्सा आता है, छटपटाहट होती है जोकि होनी भी चाहिए क्योंकि वे समाज के सबसे संवेदनशील लोगों में होने के चलते ही तो लेखक हो सकते हैं. इसकी अभिव्यक्ति के उनके तरीके उनके पास मौजूद माध्यम के मुताबिक होते हैं. वह सम्मान लौटाने का बहुत छोटा सा – चाहें तो इसे सुविधाजनक भी कह लें – कदम भी हो सकता है.

जो लोग अब इस प्रतिरोध को अपना समर्थन दे रहे हैं, उनके लिए यह पुलकित होने से ज़्यादा सतर्क होने का समय है. उनके सामने जो चुनौती खड़ी है, वह बहुत बड़ी है

जिन्हें सरकार और उनके कारकून, बेहद मामूली, अनजान से लेखक बता रहे हैं, उनके इस विरोध पर उनके पांव कांप रहे हैं तो इसलिए कि हमारी बहुत सारी सामाजिक और राजनीतिक विफलताओं से प्रतिरोध का जो स्वर मर गया था, वह अचानक सांस लेने लगा है, वह आंख खोलकर अपने चारों ओर देखने लगा है. वह पुरस्कार का सोना छोड़ रहा है और विरोध का लोहा उठा रहा है. यही चीज़ सरकार और उसके कारकूनों को डरा रही है.

हो सकता है, आने वाले दिनों में यह आवाज़ मद्धिम पड़ जाए. इंसानों की तरह आंदोलन भी थकते हैं, ख़त्म हो जाते हैं. और प्रतिरोध का यह पौधा तो एक बिल्कुल ऊसर ज़मीन पर रोपने की कोशिश की जा रही है जो बड़ा हो गया तो पूरी पारिस्थितिकी पर असर डाल सकता है. इसलिए जो लोग अब इस प्रतिरोध को अपना समर्थन दे रहे हैं, उनके लिए यह पुलकित होने से ज़्यादा सतर्क होने का समय है. उनके सामने जो चुनौती खड़ी है, वह बहुत बड़ी है – बिल्कुल दैत्याकार.

हो सकता है, देर-सबेर यह प्रतिरोध हार जाए. लेकिन हार भी जाए तो क्या? इतिहास में यह तो दर्ज होगा कि जब लोकतांत्रिक ढंग से चुनी गई सत्ता आढ़े-तिरछे जा रही थी तब लेखकों ने इसका अपने ढंग से विरोध किया था. मगर इतिहास में दर्ज होने के लिए नहीं, वर्तमान को पटरी पर लाने के लिए भी ज़रूरी है कि ये आवाज़ें जिंदा रहें, सम्मान लेने से ज्यादा लौटाना सम्मानजनक लगे और सत्ता के कंगूरे झुक-झुक कर पहचानने की कोशिश करें कि आखिर यह सड़क पर चलता लेखक कौन है, कहां से आ रहा है और वह उनके दिए पुरस्कार लौटा क्यों रहा है. वह विकास के उस झांसे में क्यो नहीं आता जिस पर एक पूरा खाता-पीता अघाया मध्यवर्ग रीझा हुआ है.

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे mediadarbar@gmail.com पर भेजें | इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है। पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं। हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो। आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें -मॉडरेटर

1 comment

#1Yogeshwar Narayan SharmaOctober 22, 2015, 9:06 AM

बहुत अच्छा और ऊर्जा देने वाला आलेख है । साधु ।

Add your comment

Nickname:
E-mail:
Website:
Comment:

Other articlesgo to homepage

मी लॉर्ड, कम-से-कम स्वाधीन परिवेश के जीवन को तो क़ानूनी बाध्यताओं में न जकड़ें..

मी लॉर्ड, कम-से-कम स्वाधीन परिवेश के जीवन को तो क़ानूनी बाध्यताओं में न जकड़ें..(0)

Share this on WhatsApp-ओम थानवी॥ राष्ट्रगान और तिरंगा हमारा गौरव हैं, हम आज़ाद हैं इसकी मुखर गवाही। लेकिन उसे लेकर क्या इन दिनों हम नाहक फ़िक़्रमंद नहीं हुए जा रहे? अब सर्वोच्च न्यायालय भी जैसे इस फ़िक़्र में शरीक़ हो गया है। आदेश है कि सिनेमाघर में फ़िल्म से पहले अनिवार्यतः जन-गण-मन होना चाहिए और

ब्लैक लिस्टेड करेंसी किंग कंपनी डे ला रु का खेल और कांधार कांड..

ब्लैक लिस्टेड करेंसी किंग कंपनी डे ला रु का खेल और कांधार कांड..(0)

Share this on WhatsApp-अखिलेश अखिल॥ हम नहीं जानते कि हमारी सरकार नोटबंदी के जरिये हमारा कल्याण कर रही है या फिर कोई राजनितिक और आर्थिक खेल कर रही है। देश की जनता को मोदी जी पर यकीं है। इसलिए कि कही उसकी दरिद्रता दूर हो जायेगी। चूँकि हमारे देश में नोटबंदी को लेकर कई तरह

विध्वंस के स्तूप बनाते मोदीजी..

विध्वंस के स्तूप बनाते मोदीजी..(1)

Share this on WhatsApp-जगदीश्वर चतुर्वेदी॥ पीएम मोदी की विशेषता है जो कहते हैं उससे एकदम उलटा आचरण करते हैं,नोटबंदी उनकी इसी खासियत का परिणाम है।पहले वायदा किया था कि पांच सौ और हजार के नोट 30दिसम्बर तक बदले जा सकेंगे, लेकिन आज सरकार ने घोषणा की है कि पुराने नोट अब बदले नहीं जाएंगे।इसी तरह

धोखा देना जिनकी फितरत है..

धोखा देना जिनकी फितरत है..(0)

Share this on WhatsAppनोटबंदी का एकतरफा निर्णय लेने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश की जनता को बरगलाने के लिए किया अचानक घोषणा वाला नाटक.. -सत्येंद्र मुरली॥ – 8 नवंबर 2016 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का ‘राष्ट्र के नाम संदेश’ लाइव नहीं था, बल्कि पूर्व रिकॉर्डेड और एडिट किया हुआ था. – इस भाषण

सिर्फ 6 फीसदी संदिग्ध ‘कैश’ के लिये ‘राष्ट्रवादी सरकार’ ने 86 फीसदी करेंसी बंद कर दी..

सिर्फ 6 फीसदी संदिग्ध ‘कैश’ के लिये ‘राष्ट्रवादी सरकार’ ने 86 फीसदी करेंसी बंद कर दी..(0)

Share this on WhatsApp-उर्मिलेश उर्मिल|| भारत में कालेधन, भ्रष्टाचार और आतंकी-फंडिंग पर निर्णायक अंकुश लगे, यह वे सभी लोग चाहेंगे, जो स्वयं कालाधन-धारी नहीं, जो भ्रष्टाचारी नहीं या जो आतंकी नहीं! कौन नहीं जानता कि कालेधन का बड़ा हिस्सा हमारे यहां कारपोरेट, व्यापारी, नेता या अन्य बड़े धंधेबाजों के एक हिस्से के पास है. देश

read more

मीडिया दरबार एंड्राइड एप्प

मीडिया दरबार की एंड्राइड एप्प अपने एंड्राइड फ़ोन पर इंस्टाल करें.. Click Here To Install On Your Phone

Contacts and information

मीडिया दरबार - जहाँ लगता है दरबार. आप ही राजा हैं इस दरबार के और कटघरे में है मीडिया. हम तो मात्र एक मंच हैं और मीडिया पर अपनी निगाह जमायें हैं, जहाँ भी मीडिया में कुछ गलत होता दिखाई देता है उसे हम आपके सामने रख देते हैं और चलाते हैं मुकद्दमा. जिसपर सुनवाई करते हैं आप, जहाँ न्याय करते हैं आप. जी हाँ, यह एक अलग किस्म का दरबार है. मीडिया दरबार...

Social networks

Most popular categories

© 2014 All rights reserved.
%d bloggers like this: