Share this on WhatsApp
Subscribe to RSS
कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे [email protected] पर भेजें | इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है। पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं। हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो। आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें -मॉडरेटर

बीजेपी के दिल्ली स्थित केन्द्रीय कार्यालय में चारों ओर पसरा सन्नाटा..

-एम् अख्तर उद्दीन मुन्ने भारती॥

नई दिल्ली: बिहार चुनाव मतगणना के दिन भाजपा कार्यालय में सुबह से ही पार्टी कार्यकर्ताओं और नेताओं के चेहरे पर ख़ुशी देखी जा सकती थी। टीवी पर जैसे जैसे रिज़ल्ट सामने आता जा रहा था, पार्टी प्रवक्ता कार्यालय में लगे पार्टी नेताओं के चेहरे पर चमक बढ़ती जा रही थी और टीवी चैनलों पर फ़तह हासिल करने के दावे मज़बूत होते जा रहे थे।

bjp-office_650x400_51446967488

बीच बीच में कार्यकर्ताओं द्वारा लगाये जा रहे नारों से जोश बढ़ रहा था। लेकिन फिर टीवी चैनलों पर जैसे जैसे नतीजे महागठबंधन की ओर बढ़ रहे थे, नेताओं के चेहरों पर मायूसी साफ़ नज़र आती जा रही थी। कई प्रवक्ताओं ने तो टीवी चैनलों के रिपोर्टरों को अपना ऐतराज़ जताते हुए यहां तक कह डाला कि आपका टीवी चैनल ग़लत आंकड़े दे रहा है, पार्टी जीत की तरफ़ बढ़ रही है।

महागठबंधन को भारी जीत दिखाती टीवी चैनलों की बहस को बीच में छोड़ प्रवक्ता एक जगह इकट्ठा हुए और बहस को किस दिशा में ले जाया जाए, इस पर चर्चा की। उसके बाद वे वापस बहस में शामिल हुए। लेकिन टीवी बहस में आने वाले दो केन्द्रीय मंत्री कार्यालय नहीं पहुचे और उनको ढूंढ़ने के लिए टीवी चैनलों के कोऑर्डिनेटरों को काफ़ी मशक़्क़त करनी पड़ी।

खबर लिखे जाते वक्त तक फ़िलहाल भाजपा केन्द्रीय कार्यालय में सन्नाटा पसरा हुआ था और नेता हार के कारण की समीक्षा करने बंद कमरे की मीटिंग में जा चुके थे।

NDTV

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे [email protected] पर भेजें | इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है। पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं। हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो। आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें -मॉडरेटर

0 comments

Add your comment

Nickname:
E-mail:
Website:
Comment:

Other articlesgo to homepage

डाॅ. राममनोहर लोहिया एक अनूठे फक्कड़ नेता..

डाॅ. राममनोहर लोहिया एक अनूठे फक्कड़ नेता..(0)

Share this on WhatsApp-मनमोहन शर्मा॥ 1958 की बात है। मैं इरविन अस्पताल के बस स्टैंड पर खड़ा बस का इंतजार कर रहा था कि मुझे सड़क पर खरामा-खरामा चलते हुए समाजवादी नेता डाॅ. राममनोहर लोहिया नजर आए। मई का महीना था और दिल्ली की कड़ाकेदार गर्मी जोरों पर थी। गर्मी के कारण मैं पसीना-पसीना हो

क्यों राहुल-अखिलेश को यह साथ पसन्द है..

क्यों राहुल-अखिलेश को यह साथ पसन्द है..(1)

Share this on WhatsApp-क़मर वहीद नक़वी॥ लखनऊ में रविवार को राहुल-अखिलेश के साझा रोड शो के कुछ राजनीतिक सन्देश बड़े स्पष्ट हैं. एक, यह महज़ उत्तर प्रदेश का चुनावी गठबन्धन नहीं है, बल्कि 2019 का विपक्षी राजनीति का रोडमैप है. यानी गठबन्धन को लम्बा चलना है. दो, दाँव पर सिर्फ़ एक चुनाव की हार-जीत नहीं

क्या राजस्थान के नेताओं ने पंजाब में कांग्रेस का माहौल मजबूत बना दिया

क्या राजस्थान के नेताओं ने पंजाब में कांग्रेस का माहौल मजबूत बना दिया(0)

Share this on WhatsApp-विशेष संवाददाता॥ चंडीगढ़। देश के जिन पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव हो हैं, उनमें से पंजाब में कांग्रेस की स्थिति सबसे मजबूत है। कांग्रेस के इस मजबूत माहौल के लिए जिन लोगों ने पंजाब में बहुत मेहनत की है, उनमें निश्चित रूप से पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह सबसे आगे हैं। लेकिन

28 को भारत बंद की घोषणा किसी ने की ही नहीं थी..

28 को भारत बंद की घोषणा किसी ने की ही नहीं थी..(2)

Share this on WhatsApp-जीतेन्द्र कुमार|| आपको यह पढ़कर ताज्जुब होगा। लेकिन आपके घर में अख़बार आता है, पिछले दस दिन का अख़बार देख लें। विपक्ष के किसी नेता का भारत बंद का आह्वान देखने को नहीं मिलेगा। भारत बंद कोई करेगा तो इस तरह चोरी-छिपे नहीं करेगा। इस उदाहरण से यह पता चलता है कि

संघ क्यों रहे नरेंद्र मोदी का गिरवी..

संघ क्यों रहे नरेंद्र मोदी का गिरवी..(0)

Share this on WhatsApp-हरि शंकर व्यास॥ आरएसएस उर्फ राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने नरेंद्र मोदी को बनाया है न कि नरेंद्र मोदी ने संघ को! इसलिए यह चिंता फिजूल है कि नरेंद्र मोदी यदि फेल होते है तो संघ बदनाम होगा व आरएसएस की लुटिया डुबेगी। तब भला क्यों नरेंद्र मोदी और उनकी सरकार की मूर्खताओं

read more

मीडिया दरबार एंड्राइड एप्प

मीडिया दरबार की एंड्राइड एप्प अपने एंड्राइड फ़ोन पर इंस्टाल करें.. Click Here To Install On Your Phone

Contacts and information

मीडिया दरबार - जहाँ लगता है दरबार. आप ही राजा हैं इस दरबार के और कटघरे में है मीडिया. हम तो मात्र एक मंच हैं और मीडिया पर अपनी निगाह जमायें हैं, जहाँ भी मीडिया में कुछ गलत होता दिखाई देता है उसे हम आपके सामने रख देते हैं और चलाते हैं मुकद्दमा. जिसपर सुनवाई करते हैं आप, जहाँ न्याय करते हैं आप. जी हाँ, यह एक अलग किस्म का दरबार है. मीडिया दरबार...

Social networks

Most popular categories

© 2014 All rights reserved.
%d bloggers like this: