Share this on WhatsApp
Subscribe to RSS
कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे [email protected] पर भेजें | इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है। पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं। हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो। आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें -मॉडरेटर

वेद जी बड़े पत्रकार और उससे भी बड़े इंसान थे..

पिछले दिनों हुए उनके दुखद निधन से जम्मू- कश्मीर की आज तक की पत्रकारिता का सबसे बड़ा स्तम्भ नहीं रहा..

-शकील अख्तर॥

1990 का सर्द दिसम्बर। श्रीनगर ज्वाइन करने के बाद पहली बार जम्मू आए। रात कास्मो में रूके। सुबह सबसे पहले बगल में स्थित कश्मीर टाइम्स के दफ्तर पहुंच गए। श्रीनगर करीब एक हफ़्ता रह कर आए थे। वहां जो नाम सबसे ज्यादा सुना वह वेद जी का था। कश्मीर टाइम्स के संपादक वेद भसीन।

images (7)


मुस्कराते हुए वेद जी बड़ी गर्मजोशी के साथ मिले। उन्हें भी पता चल गया था कि नवभारत टाइम्स से किसी पत्रकार ने श्रीनगर ज्वाइन किया है। उनकी बड़ी सी टेबल के सामने बैठते ही जिस चीज पर हमारी निगाह सबसे पहले गई वह एक तख्ती थी, जिस पर अंग्रेजी में लिखा हुआ था- नो स्मोकिंग! एकदम आक्रामक सा, आदेशनुमा। एक झटका सा लगा। कैसे बड़े और उदार संपादक हैं, जो सामने वाले के लिए ऐसी शर्त लिखे बैठे हैं। ये वो दिन थे जब हम खूब सिगरेट पिया करते थे। खैर बातों का सिलसिला शुरू हुआ। वह कश्मीर में आतंकवाद का सबसे खतरनाक दौर था। तो आतंकवाद से लेकर राजनीति और दूसरे कई विषयों पर बात होने लगी। पहली मुलाकात में ही समझ में आ गया कि वेद जी बहुत पढ़े- लिखे और कश्मीर की गहराई से जानकारी रखने वाली शख्सियत हैं। चाय आई। और चाय खतम करते ही वेद जी ने अपनी ड्राअर खोली और सिगरेट के पैकेट निकालकर हमें सिगरेट आफर करने लगे। हमने हैरानी से उस नौ स्मोकिंग वाले बोर्ड को देखा। वेद दी ने फौरन बोर्ड ड्राअर के अंदर कर दिया। सिगरेटें जल गईं। मगर हमारे चेहरे से हैरानी और हल्के से गुस्से के भाव कम नहीं हुए। वेद जी खूब जोर से हंसे। हमें भी हंसी आ गई। बोले ये सेल्फ कंट्रोल का तरीका है। ऐसे थे वेद जी। कई बार बिल्कुल बच्चों की तरह मासूम हरकतें करते हुए। और उसे खूब इन्ज्वाय करते हुए। दोस्तों के ग्रेट फ्रेंड मगर उन्हें सताने और मजाक करने का कोई मौका नहीं छोड़ने वाले।
वेद जी जितने बड़े पत्रकार थे उतने ही बड़े या उससे और बड़े इंसान। उनके बारे में लिखना आसान नहीं है। उनके व्यक्तित्व के इतने पहलू थे कि उन्हें समझना और उन पर लिखना इस वक्त संभव नहीं हो सकता। उसे कई- कई बार में लिखना होगा। दुःख और यादों का सिलसिला किसी एक पहलू पर आपको रूकने नहीं देता। उनके न रहने से जम्मू- कश्मीर की पत्रकारिता में आई अपूरणीय क्षति के बारे में जब सोचते हैं तो लगता है कि न भूतो न भविष्यति शायद उन्हीं के लिए कहा गया था।
वेद जी ने पत्रकारों की कई पीढ़ियां तैयार कीं। कई लेखक बनाए। आज प्रधानमंत्री कार्यालय में राज्य मंत्रि डा. जितेन्द्र सिंह बरसों नियमित रूप से कश्मीर टाइम्स में कालम लखते रहे। वैचारिक असहमति के आधार पर कभी वेद जी ने उनका कालम नहीं रोका। आज जम्मू कश्मीर का देश या विदेश में काम करने वाला शायद ही कोई ऐसा पत्रकार हो जो वेद जी को अपना गुरु न मानता हो या उनका प्रभाव उस पर न पड़ा हो। और यह वह दिखावे के लिए नहीं कहता बल्कि दिल से कहता है और वेद जी के प्रति उसकी कृतज्ञता में ईमानदारी झलकती है।
वेद जी जैसे निडर पत्रकार अब शायद ही देखने को मिलें। अख़बार और जिसे आज व्यापक रूप से मिडिया कहा जाता है वह अब बहुधंधी मीडिया मालिकों का रक्षा कवच बन गया है। अख़बार अब कमजोर की आवाज नहीं हैं। वे ताकतवर लोगों और सत्ता के पक्ष में तर्क गढ़ते हैं। ऐसे में वेद जी, जो कभी खुद को अख़बार मालिक नहीं मानते थे बल्कि पत्रकार ही कहते थे का नहीं रहना पत्रकारिता जगत के लिए बहुत बड़ी त्रासदी है।
शायद 1997- 98 की बात है। आई के गुजराल प्रधानमंत्री बने। एक साहब ने वेद जी को बधाई दी। जनाब आपके दोस्त प्रधानमंत्री बन गए। वेद दी हंसे, कहा एक और अच्छा दोस्त, दोस्तों की लिस्ट से निकल गया। कोई सत्ता वेद जी को नहीं लुभा पाई। सरकारों से और व्यवस्था से हमेशा लड़ते रहे। अपने अख़बार को उन्होंने हमेशा गरीब , कमजोर , सताए हुए हाशिए पर पड़े लोगों की आवाज बनाया।
वेद जी के सबसे नजदीकी दोस्तों में जम्मू कश्मीर के मुख्यमंत्री मुफ्ती मोहम्मद सईद हैं। मगर जब 2002 में वे पहली बार मुख्यमंत्री बने तब भी और अभी भी वेद जी के अख़बार ने उन्हें इस आधार पर कभी रियायत नहीं दी कि वे बहुत खास दोस्त है। इसी तरह 1989 में जब वीपी सिंह सरकार में मुफ्ती साहब गृहमंत्री बने तब भी वेद जी की पत्रकारिता दोस्ती के दबाव में कभी नहीं आई। मुफ्ती साहब भी हंसते थे और कहते थे कि वेद जी को कन्वींस करना सबसे मुश्किल काम है। वेद जी को पत्रकारों की संगत में बड़ा मजा आता था। छोटे अखबारों की वे बड़ी मदद करते थे। ऐसे अख़बार मालिक हमने नहीं देखे जो बड़ा अख़बार साम्राज्य स्थापित हो जाने के बाद भी छोटे अख़बारों के पत्रकारों की मदद को हमेशा तैयार रहते हों। छोटे अखबारों की समस्याओं पर वे केन्द्र और राज्य सरकार से मुकाबला करने में कभी पीछे नहीं हटते थे। वे ऐसे बेखौफ और जन समर्पित पत्रकार थे जो जम्मू- कश्मीर के सबसे बड़े अख़बार मालिक बनने के बाद भी पत्रकारिता के मूल उसूलों जैसे कमजोर की आवाज बनना, सत्ता की शक्ति से नहीं डरना अख़बार को पैसे कमाने का जरिया नहीं बनाने पर आजीवन कायम रहे। अंग्रेजी के कश्मीर टाइम्स के बाद जब उन्होंने करीब 30 साल पहले जम्मू से हिन्दी का पहला अख़बार दैनिक कश्मीर टाइम्स निकालने के बारे में सोचा तो उनके बहुत सारे शुभचिंतकों ने इसे घाटे का सौदा बताया। वेद जी ने कहा कि अगर इसमें कुछ पेज डोगरी के डालें जाएं तो? लोगों ने कहा कि फिर तो महा घाटा होगा। वेद जी ने कहा कि डोगरी के पेज सहित हिन्दी अखबार निकालने का फैसला फाइनल। अख़बार को घाटे- लाभ से अलग की चीज मानने वाले अब शायद ही कहीं मिलें।
वेद जी के साथ निकट से काम करने का मौका हमें प्रेस क्लब जम्मू में मिला। तब देखा कि वे कितने लोकतांत्रिक हैं। और किस तरह उनमें सबको साथ लेकर चलने की क्षमता है। प्रेस क्लब की स्थापना के मूल विचार के साथ इसे अंजाम तक पहुंचाने में वेद जी की असाधारण भूमिका रही है। वे इसके संस्थापकों में से थे। इस पूरी कहानी को कभी अलग से लिखेंगे। फिलहाल इतना ही कि वेद जी असहमति का पूरा सम्मान करते थे। वे प्रेस क्लब के अध्यक्ष थे हम सैकेट्री जनरल। कई मुद्दों पर तीखी बहस , मतभेद होते थे मगर वेद जी कभी अपने व्यक्तिगत असर से किसी निर्णय को प्रभावित करने की कोशिश नहीं करते थे। अगर वेद जी की प्रेरणा और सहयोग नहीं होता कहना मुश्किल है कि प्रेस क्लब बन पाता या नहीं। अब प्रेस क्लब को चाहिए उनकी याद को स्थाई बनाने के लिए वह प्रेस क्लब में उनके नाम का सभागार और बड़े स्तर की एक वार्षिक व्याख्यानमाला ( लेक्चर) की शुरूआत करे।

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे [email protected] पर भेजें | इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है। पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं। हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो। आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें -मॉडरेटर

0 comments

Add your comment

Nickname:
E-mail:
Website:
Comment:

Other articlesgo to homepage

सामाजिक जड़ता के विरुद्ध हिन्दी रंगमंच की बड़ी भूमिका..

सामाजिक जड़ता के विरुद्ध हिन्दी रंगमंच की बड़ी भूमिका..(0)

Share this on WhatsAppहिन्दू कालेज में ‘जनता पागल हो गई है’ तथा ‘खोल दो’ का मंचन.. -चंचल सचान॥ दिल्ली। हिन्दू कालेज की हिन्दी नाट्य संस्था ‘अभिरंग’ द्वारा कालेज पार्लियामेंट के वार्षिक समारोह ‘मुशायरा’ के अन्तर्गत दो नाटकों का मंचन किया गया। भारत विभाजन के प्रसंग में सआदत हसन मंटो की प्रसिद्ध कहानी ‘खोल दो’ तथा

अभागे ओम पुरी का असली दर्द..

अभागे ओम पुरी का असली दर्द..(0)

Share this on WhatsApp-निरंजन परिहार|| ओम पुरी की मौत पर उस दिन नंदिता पुरी अगर बिलख बिलख कर रुदाली के अवतार में रुदन – क्रंदन करती नहीं दिखती, तो ओम पुरी की जिंदगी पर एक बार फिर नए सिरे से कुछ नया लिखने का अपना भी मन नहीं करता. पति के अंतिम दर्शन पर आंखों

सवालों से किसे नफ़रत हो सकती है.?

सवालों से किसे नफ़रत हो सकती है.?(1)

Share this on WhatsApp-रवीश कुमार॥ सवाल करने की संस्कृति से किसे नफरत हो सकती है? क्या जवाब देने वालों के पास कोई जवाब नहीं है ? जिसके पास जवाब नहीं होता, वही सवाल से चिढ़ता है। वहीं हिंसा और मारपीट पर उतर आता है। अब तो यह भी कहा जाने लगा है कि अथारिटी से

क्या अघोषित इमरजेंसी की पदचाप और मुखर नहीं हो रही.?

क्या अघोषित इमरजेंसी की पदचाप और मुखर नहीं हो रही.?(3)

Share this on WhatsApp-ओम थानवी॥ एक रोज़ पहले ही रामनाथ गोयनका एवार्ड देते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा था कि हम इमरजेंसी की मीमांसा करते रहें, ताकि देश में कोई ऐसा नेता सामने न आए जो इमरजेंसी जैसा पाप करने की इच्छा भी मन में ला सके। और भोपाल की संदिग्ध मुठभेड़, दिल्ली में मुख्यमंत्री-

तकदीर के तिराहे पर नवजोत सिंह सिद्धू …क्योंकि राजनीति कोई चुटकला नहीं..

तकदीर के तिराहे पर नवजोत सिंह सिद्धू …क्योंकि राजनीति कोई चुटकला नहीं..(0)

Share this on WhatsAppआप जब ये पंक्तियां पढ़ रहे होंगे, तब तक संभव है नवजोत सिंह सिद्धू को नया राजनीतिक ठिकाना मिल गया होगा। लेकिन सियासत के चक्रव्यूह में सिद्धू की सांसे फूली हुई दिख रही हैं। पहली बार वे बहुत परेशान हैं। जिस पार्टी ने उन्हें बहुत कुछ दिया, और जिसे वे मां कहते

read more

मीडिया दरबार एंड्राइड एप्प

मीडिया दरबार की एंड्राइड एप्प अपने एंड्राइड फ़ोन पर इंस्टाल करें.. Click Here To Install On Your Phone

Contacts and information

मीडिया दरबार - जहाँ लगता है दरबार. आप ही राजा हैं इस दरबार के और कटघरे में है मीडिया. हम तो मात्र एक मंच हैं और मीडिया पर अपनी निगाह जमायें हैं, जहाँ भी मीडिया में कुछ गलत होता दिखाई देता है उसे हम आपके सामने रख देते हैं और चलाते हैं मुकद्दमा. जिसपर सुनवाई करते हैं आप, जहाँ न्याय करते हैं आप. जी हाँ, यह एक अलग किस्म का दरबार है. मीडिया दरबार...

Social networks

Most popular categories

© 2014 All rights reserved.
%d bloggers like this: