Share this on WhatsApp
Subscribe to RSS
कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे [email protected] पर भेजें | इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है। पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं। हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो। आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें -मॉडरेटर

क्या गुरू गोगोई का खेल बिगाड़ देगा चेला..

भारतीय जनता पार्टी के नेता हेमंत बिस्वा सरमा ने अप्रैल में होने जा रहे विधानसभा चुनाव में कामयाबी के लिए पूरी ताकत झोंक दी है..
वे लगातार दौरे कर रहे हैं, कमज़ोर कड़ियाँ कसने में लगे हैं, और हाँ उनका न्यूज़ चैनल भी उनकी मदद के लिए पूरी तरह से तैनात है..

-मुकेश कुमार||

दरअसल, हेमंत के लिए असम विधानसभा चुनाव प्रतिष्ठा बचाने के साथ-साथ राजनीतिक जीवन-मरण का भी प्रश्न है. ये एक बड़ी चुनौती भी हैं और बड़ा अवसर भी.
चुनौती ये साबित करने की है कि वे अपने दम पर भाजपा को जीत दिला सकते हैं या नहीं. विरोध के बावजूद भाजपा हाईकमान ने उन पर लगे तमाम दाग़ों को दरकिनार करके इसी उम्मीद में गले लगाया था कि वे पूर्वोत्तर में झंडा गाड़ने के उसके मिशन को अंजाम देंगे.

hemant biswa


हेमंत पर कम से कम तीन मामलों में भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप हैं. शारदा चिट फंड घोटाले में सीबीआई उनके घर पर छापे मार चुकी है. इसके मालिक सुदीप्तो सेन से उनके करीबी रिश्तों के बार में सीबीआई ने उनसे पूछताछ भी की थी.
इसके अलावा नॉर्थ कछार हिल्स घोटाले और लुईस बर्जर रिश्वत कांड में भी उनका नाम आ चुका है. और तो और भाजपा खुद भी उनके भ्रष्टाचार के बारे में बुकलेट जारी कर चुकी है.

निम्न मध्यवर्गीय पृष्ठभूमि से आने वाले हेमंत की आर्थिक तरक्की चौंकाने वाली है. इसमें उनके अल्फा से संबंधों का कितना योगदान रहा, ये आम चर्चा का विषय रहता है.
जहाँ तक अवसर का सवाल है तो वह हेमंत के ख़ुद मुख्यमंत्री बनने का है. कांग्रेस छोड़कर उन्होंने भाजपा का दामन इसीलिए थामा था कि तरूण गोगोई ताज उन्हें सौंपने के लिए तैयार नहीं थे.
मुख्यमंत्री बनने के लिए उन्होंने गोगोई के खिलाफ़ मुहिम छेड़ी और पार्टी के अंदर बगावत भी की. लेकिन जब फिर भी उनकी महत्वाकांक्षा पूरी नहीं हुई तो पार्टी को तोड़ने की कोशिश भी कर डाली.
भाजपा में शामिल होते वक्त वे तोहफे के तौर पर नौ विधायक भी साथ ले गए. हालाँकि उन्होंने वादा तो 52 विधायकों का किया था, मगर वह पूरा नहीं कर सके.
दरअसल, हेमंत की पहचान ही यही है कि वे एक अच्छे चुनाव प्रबंधक हैं. पिछले चुनाव में कांग्रेस की शानदार जीत के लिए उनके प्रबंधन को भी श्रेय दिया जाता है.
हेमंत एक अच्छे वक्ता भी हैं और कड़ी मेहनत करने वाले नेता भी. लोगों को साथ लेने का हुनर उन्हें आता है. वे विरोधियों को सहमत करने में माहिर माने जाते हैं.

गोगोई मंत्रिमंडल के सबसे काबिल मंत्री के रूप में भी उनकी पहचान होती थी. शिक्षा और स्वास्थ्य के क्षेत्र में उनके काम को काफी सराहा गया था.
एक समय वे मुख्यमंत्री गोगोई के दाहिने हाथ माने जाते थे. लोगों का ये भी मानना था कि गोगोई उनकी सलाह के बिना कुछ नहीं करते थे. गोगोई ने पूर्व में उनका बचाव भी किया था.
हेमंत पर अल्फा के लिए काम करने का आरोप लग चुका है. पुलिस ने उन्हें गिरफ़्तार भी किया था. गोगोई की मेहरबानी से वे बच गए. केस डायरी ही ग़ायब हो गई और उनके ख़िलाफ़ कोई कार्रवाई नहीं हो सकी.
ख़ुद गोगोई प्रेस कांफ्रेंस में कह चुके हैं कि हेमंत उनकी आँखों के तारे थे और जिस भी काग़ज़ पर दस्तख़त करने लिए कहते थे, वे कर देते थे. शायद यहीं से हेमंत की महत्वाकांक्षाओं को पंख लगने शुरू हो गए थे.
हेमंत के बारे में ये भी आरोप है कि जो भी उन्हें बढ़ावा देता है, वे उसी के साथ धोखा करते हैं. पहले हितेश्वर सैकिया के साथ भी उन्होंने ऐसा किया था.

मुख्यमंत्री के साथ उनकी अनबन तब शुरू हुई जब गोगोई ने अपने बेटे गौरव गोगोई को आगे बढ़ाना शुरू किया. हेमंत को लगा कि मुख्यमंत्री पद का नया दावेदार खड़ा हो रहा है. बस तभी उनका सुर बदल गया. वे विद्रोह पर उतर आए.
बहरहाल, भाजपा हाईकमान ने उन्हें पार्टी में शामिल करते ही चुनाव अभियान के संयोजक की ज़िम्मेदारी सौंपकर उन पर विश्वास भी जताया था. पार्टी के पास राज्य में कोई खास प्रभावशाली नेता भी नहीं था, इसलिए ये उसकी मजबूरी भी थी कि वह हेमंत को ही कमान सौंपे.
लेकिन हेमंत के सामने अब केंद्रीय मंत्री सर्बनंद सोनोवाल के रूप में एक प्रतिद्वंद्वी भी है. सुषमा स्वराज ने उन्हें भावी मुख्यमंत्री के रूप में पेश भी कर दिया है. ऐसे में उन्हें अपनी गोटियाँ बहुत सँभलकर चलनी होगी.
शायद इसी को ध्यान में रखकर उन्होंने मीडिया के ज़रिए अपनी इमेज बिल्डिंग का काम तेज़ कर दिया है. उनका चैनल दिन-रात इस काम में जुटा हुआ है. भाजपा हाईकमान को ये बात सुहा नहीं रही लेकिन अभी वह उन्हें रोकना नहीं चाहता.

वैसे हेमंत के सामने सबसे बड़ी समस्या यही है कि वे अपने कितने समर्थकों को टिकट दिलवा और जिता सकते हैं. हालाँकि संभावनाएं बहुत कम हैं. अगर भाजपा जीतती है तो मुख्यमंत्री पद का फैसला करते समय इसका सबसे अधिक महत्व होगा.
कांग्रेस से उनके साथ केवल नौ विधायक आए थे और वे सभी जीतकर आएंगे इसमें भी संदेह है. आधे विधायकों के चुनाव क्षेत्रों से अच्छी रिपोर्ट नहीं है.

(बीबीसी)

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे [email protected] पर भेजें | इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है। पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं। हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो। आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें -मॉडरेटर

1 comment

#1mahendra guptaJanuary 27, 2016, 5:39 PM

ऐसे नेता किसी के भी नहीं होते यदि उनके स्वार्थ पुरे नहीं होते हैं तो ये अवसरवादी लोग निष्ठाएँ बदल सकते हैं, भा ज को यह बात याद रखनी चाहिए वैसे भी मुख्यमंत्री पद की लालसा में आये हैं अतः ऐसा कुछ होता नहीं दिखा तो वापिस कांग्रेस में जाते दिखाई देंगे

Add your comment

Nickname:
E-mail:
Website:
Comment:

Other articlesgo to homepage

डाॅ. राममनोहर लोहिया एक अनूठे फक्कड़ नेता..

डाॅ. राममनोहर लोहिया एक अनूठे फक्कड़ नेता..(0)

Share this on WhatsApp-मनमोहन शर्मा॥ 1958 की बात है। मैं इरविन अस्पताल के बस स्टैंड पर खड़ा बस का इंतजार कर रहा था कि मुझे सड़क पर खरामा-खरामा चलते हुए समाजवादी नेता डाॅ. राममनोहर लोहिया नजर आए। मई का महीना था और दिल्ली की कड़ाकेदार गर्मी जोरों पर थी। गर्मी के कारण मैं पसीना-पसीना हो

क्यों राहुल-अखिलेश को यह साथ पसन्द है..

क्यों राहुल-अखिलेश को यह साथ पसन्द है..(1)

Share this on WhatsApp-क़मर वहीद नक़वी॥ लखनऊ में रविवार को राहुल-अखिलेश के साझा रोड शो के कुछ राजनीतिक सन्देश बड़े स्पष्ट हैं. एक, यह महज़ उत्तर प्रदेश का चुनावी गठबन्धन नहीं है, बल्कि 2019 का विपक्षी राजनीति का रोडमैप है. यानी गठबन्धन को लम्बा चलना है. दो, दाँव पर सिर्फ़ एक चुनाव की हार-जीत नहीं

क्या राजस्थान के नेताओं ने पंजाब में कांग्रेस का माहौल मजबूत बना दिया

क्या राजस्थान के नेताओं ने पंजाब में कांग्रेस का माहौल मजबूत बना दिया(0)

Share this on WhatsApp-विशेष संवाददाता॥ चंडीगढ़। देश के जिन पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव हो हैं, उनमें से पंजाब में कांग्रेस की स्थिति सबसे मजबूत है। कांग्रेस के इस मजबूत माहौल के लिए जिन लोगों ने पंजाब में बहुत मेहनत की है, उनमें निश्चित रूप से पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह सबसे आगे हैं। लेकिन

28 को भारत बंद की घोषणा किसी ने की ही नहीं थी..

28 को भारत बंद की घोषणा किसी ने की ही नहीं थी..(2)

Share this on WhatsApp-जीतेन्द्र कुमार|| आपको यह पढ़कर ताज्जुब होगा। लेकिन आपके घर में अख़बार आता है, पिछले दस दिन का अख़बार देख लें। विपक्ष के किसी नेता का भारत बंद का आह्वान देखने को नहीं मिलेगा। भारत बंद कोई करेगा तो इस तरह चोरी-छिपे नहीं करेगा। इस उदाहरण से यह पता चलता है कि

संघ क्यों रहे नरेंद्र मोदी का गिरवी..

संघ क्यों रहे नरेंद्र मोदी का गिरवी..(0)

Share this on WhatsApp-हरि शंकर व्यास॥ आरएसएस उर्फ राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने नरेंद्र मोदी को बनाया है न कि नरेंद्र मोदी ने संघ को! इसलिए यह चिंता फिजूल है कि नरेंद्र मोदी यदि फेल होते है तो संघ बदनाम होगा व आरएसएस की लुटिया डुबेगी। तब भला क्यों नरेंद्र मोदी और उनकी सरकार की मूर्खताओं

read more

मीडिया दरबार एंड्राइड एप्प

मीडिया दरबार की एंड्राइड एप्प अपने एंड्राइड फ़ोन पर इंस्टाल करें.. Click Here To Install On Your Phone

Contacts and information

मीडिया दरबार - जहाँ लगता है दरबार. आप ही राजा हैं इस दरबार के और कटघरे में है मीडिया. हम तो मात्र एक मंच हैं और मीडिया पर अपनी निगाह जमायें हैं, जहाँ भी मीडिया में कुछ गलत होता दिखाई देता है उसे हम आपके सामने रख देते हैं और चलाते हैं मुकद्दमा. जिसपर सुनवाई करते हैं आप, जहाँ न्याय करते हैं आप. जी हाँ, यह एक अलग किस्म का दरबार है. मीडिया दरबार...

Social networks

Most popular categories

© 2014 All rights reserved.
%d bloggers like this: