Share this on WhatsApp
Subscribe to RSS
कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे mediadarbar@gmail.com पर भेजें | इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है। पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं। हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो। आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें -मॉडरेटर

चंद्रकला तो कलाबाज निकली: रखे है बेशुमार दौलत, मगर हिसाब नहीं दिया..

दर्जनों आईएएस ने नहीं दिया आमदनी का हिसाब.. कन्नी काटी.. लगे मुंह छिपाने..
घमंडी, सेल्फ़ी-बाई, रंगे हाथ, बेपर्दा सिंघम जैसे अनेक नए नामकरण वायरल हुए..

-कुमार सौवीर॥
लखनऊ: फर्जी दबंग छवि का खुलासा क्या, बुलंदशहर की डीएम बी चन्द्रकला की सारी परतें एक-एक कर खुलने लगी हैं। सूत्र बताते हैं कि खुलासे की वजह से चन्द्रकला के बेनामी और अन-डिस्क्लोस्ड हिसाब बेहिसाब हैं। इस वक्त तो उनके पास हर कोने-कुतरे से अथाह रकम पहुँच रही है। इतना ही नहीं, जिस जमीन को चन्द्रकला छू लेती है, चंद दिनों में ही वह हजारों गुना बढ़ कर चन्द्रकला की संपत्ति में शुमार हो जाती है।

चंद्रकला


और फिर चन्द्रकला ही क्यों, यूपी के 29 से भी बड़े आईएएस अफसर भी अपनी कमाई का कोई भी हिसाब गोलमाल कर चुके हैं। इनमें कई तो रिटायर हो चुके हैं तो कुछ मुख्य सचिव जैसे पद पर पहुँच चुके हैं। इनमें छह महिला आईएएस भी शामिल हैं। अपने साथ सेल्फी खिंचवाने युवक को जेल भिजवाने के आरोप मे सुर्खियाँ बटोर रही हैं बी चन्द्रकला। ब्यौरा उपलब्ध न कराये जाने के बाबत जब पत्रकारों ने उनसे संपर्क किया तो बताया गया कि वे बहुत बिज़ी हैं और बात नहीं कर सकती हैं। डीएम बुलंदशहर से जानकारी लेने की कोशिश की गई तो उधर से जवाब मिला कि मेमसाहब बहुत बिजी हैं और बात नहीं कर सकती हैं।
गौरतलब है कि सिविल सेवा अधिकारियों को वर्ष 2014 के लिए 15 जनवरी 2015 तक अपनी संपत्ति का रिकॉर्ड प्रस्तुत करना था। लेकिन एक वर्ष बीतने के बावजूद अभी तक इन अधिकारियों ने अपना ब्यौरा उपलब्ध नहीं कराया है। 2015 के लिए राज्य सरकार को 28 फरवरी तक सभी पदस्थ आईएएस अधिकारियों को संपत्ति का ब्यौरा उपलब्ध कराना है।
डीएम के तौर पर चंद्रकला को जो रकम मिलती है, वह तो अपनी जगह है, लेकिन उनके पास छप्‍पर फाड़ कर भी अकूत पैसा आता-बरसता है। मस्‍लन, उनके-सास ससुर ने लखनऊ में दिया 55 लाख का फ़्लैट गिफ्ट में दे दिया। अब सवाल यह है कि उनके सास-ससुर को  इतनी रकम कहां से मिल गयी। जाहिर है कि यह काला-धन को खपाने की एक ज़बरदस्त साजिश ही है।
अगर केंद्र सरकार के सामान्य प्रशासन एवं प्रशिक्षण विभाग के द्वारा दी गई जानकारी को देखा जाए तो पता चलता है कि बी चन्द्रकला की संपत्ति वर्ष 2011-12 केवल 10 लाख रूपए थी , जो कि वर्ष 2013-14 में लगभग एक करोड़ हो गई। 2011-12 में अपने गहने बेचकर और तनख्वाह के पैसे से चन्द्रकला ने आन्ध्र प्रदेश के उप्पल में 10 लाख का फ़्लैट ख़रीदा था।
आज के समय में बी चन्द्रकला के पास लखनऊ के सरोजिनी नायडू मार्ग पर अपनी बेटी कीर्ति चन्द्रकला के नाम से 55 लाख का फ़्लैट मौजूद है जिसके बारे में उन्होंने दावा किया है कि यह फ़्लैट उनके सास ससुर ने उन्हें गिफ्ट किया है। इसके अलावा आन्ध्र प्रदेश के अनुपनगर में भी उन्होंने 30 लाख का एक मकान अपने पैसे से ख़रीदा है जिससे वो 1.50 लाख रूपए सालाना की कमाई का दावा करती हैं। उनके पति रुमुलू अजमीरा के नाम एक खेती की जमीन भी करीम नगर में हैं।
आन्ध्र प्रदेश के उस्मानिया विश्वविद्यालय से स्नातक और इसी विश्वविद्यालय से दूरस्थ शिक्षा के तहत परास्नातक करने वाली बी चन्द्रकला द्वारा संपत्ति का ब्यौरा न दिए जाने को लेकर यूपी कैडर के एक वरिष्ठ अधिकारी कहते हैं कि समय से संपत्ति का ब्यौरा न दिया जाना आश्चर्यजनक है। बी चन्द्रकला जैसी अधिकारी से इन गंभीर विषयों की अवहेलना करने की उम्मीद कत्तई नहीं थी। गौरतलब है कि सिविल सेवा नियमावली में यह साफ़ उल्लेखित है कि जो भी आईएएस अधिकारी प्रतिवर्ष 31 जनवरी तक अपनी संपत्ति का ब्यौरा उपलब्ध नहीं कराएगा, उन्हें पदोन्नति नहीं दी जाएगी और अखिल भारतीय सेवा के अंतर्गत वरिष्ठ पदों के लिए उनका नाम भी आगे नहीं बढ़ाया जाएगा।
खैर। चंद्रकला की सारी चंद्र कलाओं पर हम लगातार लिखते-पढते-सुनते रहेंगे ही। लेकिन अब आइये, डिफाल्टर अधिकारियों की यह सूची बांच लीजिए, जो चंद्रकला के प्रकरण पर आग पकड़ गयी। इन आईएएस अधिकारियों ने आज की तारीख तक 2014 के लिए अपनी संपत्ति का ब्यौरा सरकार को उपलब्ध नहीं कराया है ।
1 Ms. Loretta Mary Vas (UP:1977)
2 Shri Shailesh Krishna (UP:1980)
3 Shri Rakesh Sharma (UP:1981)
4 Dr. Hari Krishna (UP:1981)
5 Dr. Surya Pratap Singh (UP:1982)
6 Shri Raj Pratap Singh (UP:1983)
7 Shri Atul Bagai (UP:1983)
8 Shri P V Jagan Mohan (UP:1987)
9 Shri Katru Rama Mohana Rao (UP:1994)
10 Shri Pragyan Ram Mishra (UP:1996)
11 Ms. Rita Singh (UP:1997)
12 Shri Anil Raj Kumar (UP:2000)
13 Shri Ajay Deep Singh (UP:2002)
14 Shri Sharad Kumar Singh (UP:2002)
15 Shri Bhagelu Ram Shastri (UP:2003)
16 Smt. Kanak Tripathi (UP:2003)
17 Shri Anita Srivastava (UP:2004)
18 Shri Suresh Kumar-I (UP:2004)
19 Shri Digvijay Singh (UP:2004)
20 Ms. S. Mathu Shalini (UP:2008)
21 Ms. B. Chandrakala (UP:2008)
22 Shri Vaibhav Shrivastava (UP:2009)
23 Shri Ashutosh Niranjan (UP:2010)
24 Ms. Neha Sharma (UP:2010)
25 Shri Andra Vamsi (UP:2011)
26 Ms. Chandni Singh (UP:2013)
27 Shri Raj Kamal Yada (UP:2013)
28 Shri Sunil Kumar Verma (UP:2013)
29 Shri Ravindra Kumar Mander (UP:2013)

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे mediadarbar@gmail.com पर भेजें | इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है। पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं। हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो। आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें -मॉडरेटर

1 comment

#1laldhari yadavFebruary 8, 2016, 8:12 AM

chandr kala ji ki achha chhabi batatya hi lakian sach ky hia samny yaga kibhia bhia schaey nhia chhupyga nhi jy hiand jy bharat

Add your comment

Nickname:
E-mail:
Website:
Comment:

Other articlesgo to homepage

खैंच-फोटूबाजी के बाद डीएम और दैनिक जागरण आमने-सामने, कूड़ा फेंका..

खैंच-फोटूबाजी के बाद डीएम और दैनिक जागरण आमने-सामने, कूड़ा फेंका..(0)

Share this on WhatsApp अब खुली गुण्‍डागर्दी पर आमादा हो गयी हैं चंद्रकला: दैनिक जागरण 20 साल पहले भी लखनऊ के जागरण पर हुआ था बसपा का हमला यह हादसा प्रशासनिक गुण्‍डागर्दी की पराकाष्‍ठा, निन्‍दनीय व भत्‍र्स्‍नाजनक -कुमार सौवीर॥ लखनऊ: बुलंदशहर में खैंच-फोटूबाजी के बाद डीएम और दैनिक जागरण आमने-सामने आ गये हैं। आज जागरण

उमराव सालोदिया का उमराव खान हो जाना..

उमराव सालोदिया का उमराव खान हो जाना..(0)

Share this on WhatsApp-भंवर मेघवंशी॥ राजस्थान के वरिष्ठ आईएएस अधिकारी उमराव सालोदिया ने मुख्य सचिव नहीं बनाये जाने से नाराज हो कर स्वेच्छिक सेवा निवृति लेने तथा हिन्दुधर्म छोड़कर इस्लाम अपनाने की घोषणा कर सनसनी पैदा कर दी है । राजस्थान की वसुंधरा राजे सरकार से अब न उगलते बन रहा है और न ही

एक आई ए एस अफसर की कहानी..

एक आई ए एस अफसर की कहानी..(0)

Share this on WhatsApp-पवन कुमार बंसल|| हरियाणा कैडर का एक आई ,एस अफसर, भूपिंदर हूडा की चमचागिरी करके दिल्ली में एक महत्वपूर्ण पद पर करीब सात साल तक रहा और अब भी है. जनाब  की हूडा साहिब के मीडिया सलाहकर से भी काफी दोस्ती रही है. मछली खाने के शौकीन इस अफसर ने नए मुख्यमंत्री

अंबानी अपने चहेते अफ़सरों को नई सरकार में फिट करवाने के लिए सक्रिय..

अंबानी अपने चहेते अफ़सरों को नई सरकार में फिट करवाने के लिए सक्रिय..(0)

Share this on WhatsApp-पवन कुमार बंसल|| नई दिल्ली । प्रदेश में सत्ता परिवर्तन से चिंतित रिलायंस इन्डस्ट्रीज के मालिक मुकेश अंबानी भाजपा के नेतृत्व में बन रही नई सरकार में अपने अपने पंसदीदा अधिकारियों को नियुक्त करवाने के लिए सक्रिय हो गए हैं । वे भाजपा में अपने संपर्क का पूरा प्रयोग कर रहे हैं

जब लोक सेवा आयोग की अध्यक्ष रजनी राजदान मुअत्तल होते होते बचीं..

जब लोक सेवा आयोग की अध्यक्ष रजनी राजदान मुअत्तल होते होते बचीं..(0)

Share this on WhatsApp-पवन कुमार बंसल|| नई दिल्ली, केंद्रीय लोक सेवा आयोग की नई अध्यक्ष हरियाणा कैडर की प्रशासनिक अधिकारी रजनी राजदान एक बार मुअत्तल (सस्पैंड) होते होते बची थी. यह रोचक घटना उन दिनों की है जब राजदान हरियाणा शिक्षा विभाग में निदेशक के पद पर तैनात थीं. उन दिनों तक मोबाइल फोन नहीं

read more

मीडिया दरबार एंड्राइड एप्प

मीडिया दरबार की एंड्राइड एप्प अपने एंड्राइड फ़ोन पर इंस्टाल करें.. Click Here To Install On Your Phone

Contacts and information

मीडिया दरबार - जहाँ लगता है दरबार. आप ही राजा हैं इस दरबार के और कटघरे में है मीडिया. हम तो मात्र एक मंच हैं और मीडिया पर अपनी निगाह जमायें हैं, जहाँ भी मीडिया में कुछ गलत होता दिखाई देता है उसे हम आपके सामने रख देते हैं और चलाते हैं मुकद्दमा. जिसपर सुनवाई करते हैं आप, जहाँ न्याय करते हैं आप. जी हाँ, यह एक अलग किस्म का दरबार है. मीडिया दरबार...

Social networks

Most popular categories

© 2014 All rights reserved.
%d bloggers like this: