Share this on WhatsApp
Subscribe to RSS
कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे [email protected] पर भेजें | इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है। पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं। हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो। आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें -मॉडरेटर

सच बोलोगे तो मारे जाओगे..

-महेंद्र दुबे॥
21 मार्च को शाम लगभग 5 बजे पुलिस द्वारा उठाये गए हिंदी दैनिक “पत्रिका” से संबद्ध और ईटीवी न्यूज से हाल ही में हटाये गये बस्तर क्षेत्र के युवा और निर्भीक पत्रकार प्रभात सिंह को पुलिस ने कल जगदलपुर की एक अदालत में पेश किया जहां से उन्हें 26 मार्च तक के लिए जेल भेजा गया है। पुलिस ने जगदलपुर के परपा थाने में उनके खिलाफ शिकायतकर्ता संतोष तिवारी की रिपोर्ट पर धारा 69, 69A आई.टी.एक्ट और 292 आईपीसी का अपराध दर्ज किया है।


खबर है कि पत्रकार प्रभात सिंह के खिलाफ बस्तर दंतेवाड़ा के अलग अलग थानों में 3 और आपराधिक प्रकरण दर्ज किये गए है जिनमे भी उनको कभी भी गिरफ्तार किया जा सकता है। बस्तर दंतेवाड़ा में पिछले एक साल में पुलिस के हत्थे चढ़े प्रभात सिंह तीसरे पत्रकार है, इससे पहले दो पत्रकार सोमारू नाग और संतोष यादव को गिरफ्तार किया जा चुका है जो अभी भी जेल में है हालांकि स्वतंत्र पत्रकार मालनी सुब्रह्मण्यम और बीबीसी संवाददाता आलोक पुतुल जरूर किस्मत के धनी रहे जो किसी तरह अब तक बचे हुये है।
प्रभात सिंह बस्तर अंचल में निष्पक्ष और निर्भीक पत्रकारिता के लिए जाने जाते है और कई अवसरों में उन्होंने अपनी जान का जोखिम उठाकर पुलिस और माओवादियों के बीच पिस रहे आदिवासियों का दर्द दुनिया के सामने लाया है। अंचल के पुलिसिया अत्याचार की बेबाक रिपोर्टिंग के कारण वो बहुत दिनों से पुलिस के निशाने पर थे। पिछले साल 17 अप्रैल को अंचल के सुदूर गाँव पोदेनार में पुलिस ने नक्सलियों के साथ जबरदस्त मुठभेड़ होने का दावा किया था और इस मुठभेड़ को छत्तीसगढ़ पुलिस ने बतौर उपलब्धि प्रचारित किया था! प्रभात सिंह को पुलिस की कहानी में कई पेंच नज़र आने लगे थे इसलिये वो पोदेनार गाँव पहुँच गए और वहां से कथित मुठभेड़ के प्रत्यक्षदर्शी ग्रामीणों और पीड़ित पक्षों से सीधे बात कर 29 अप्रैल को रायपुर से प्रकाशित हिंदी दैनिक “पत्रिका” में अपनी तथ्यपरक खोजी रिपोर्ट प्रकाशित की जिसमे उन्होंने पुलिस की मुठभेड़ की कहानी को सिरे से ख़ारिज करते हुए ग्रामीणों के हवाले से पुलिस पर गम्भीर आरोप लगाये और इस मुठभेड़ की पुलिसिया कार्यवाही को कटघरे में ला कर खड़ा कर दिया। बस यहीं से प्रभात सिंह बस्तर पुलिस को खटकने लगे। प्रभात सिंह को बस्तर आईजी एस. आर. कल्लूरी ने मई 2015 में एक प्रेस कांफ्रेंस में सार्वजनिक रूप से उनकी “अलग तरीके की पत्रकारिता” करने की शैली के खिलाफ बोलते हुये उन्हें धमकाया था। इस घटना के बाद बस्तर क्षेत्र में पुलिस और उनके सरंक्षण मे पल रहे कुछ कथित पत्रकारों ने उनके खिलाफ अभियान छेड़ रखा था। क्षेत्र के एक व्हाट्सअप ग्रुप में प्रभात सिंह के पोस्ट में हुई एक मात्रा की गलती को आधार बना कर उन्हें देशद्रोही के रूप में प्रचारित किया गया। इस व्हाट्सअप ग्रुप में उनके खिलाफ की जा रही टिप्पणियों को लेकर प्रभात सिंह ने संतोष तिवारी, महेश राव और सुब्बा राव के खिलाफ 1 मार्च 2016 को एक लिखित शिकायत दंतेवाड़ा थाने में दी थी। यहां दिलचस्प ये है कि प्रभात सिंह की रिपोर्ट पर पुलिस ने तो कोई कार्यवाही नहीं की लेकिन जिनके खिलाफ प्रभात सिंह ने रिपोर्ट लिखाई थी उन्ही में से एक संतोष तिवारी की रिपोर्ट पर उनके खिलाफ मामला दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार किया गया है।
बस्तर क्षेत्र में प्रभात सिंह आप नेता सोनी सोढ़ी और उनके भतीजे लिंगा राम कोड़ापी की मदद करते रहते थे जो खुद पुलिसिया अत्याचार का शिकार रहे है, पुलिस अट्रोसिटिस के कई मामले जो सोनी सोढ़ी ने उजागर किये है उनकी तह तक पहुँचने में प्रभात सिंह ने ही उनकी मदद की थी। पत्रकार संतोष यादव और सोमारू नाग की रिहाई और पत्रकारों की सुरक्षा को लेकर आन्दोलनरत पत्रकार सुरक्षा संयुक्त संघर्ष समिति के कार्यक्रमों भी प्रभात सिंह सक्रिय रहे थे। प्रभात सिंह कोे करीब एक सफ्ताह पहले ईटीवी न्यूज छोड़ने पर मजबूर किया गया था और उन्होंने आरोप भी लगाया था कि उन्हें आई जी कल्लूरी के दबाव में ही ईटीवी न्यूज से हटाया गया है और खबर है कि प्रभात सिंह के ईटीवी से हटने के ठीक पहले इस न्यूज चैनल के वरिष्ट पदाधिकारी नें हेलीकाप्टर से आईजी कल्लूरी के साथ बस्तर का दौरा भी क्या था।
प्रभात सिंह को लेकर छत्तीसगढ़ में अघोषित चुप्पी है। राजधानी में ज्यादातर स्थापित पत्रकारों की जुबान बंद है और वो इस मामले में खुल कर बोलने और प्रभात सिंह के समर्थन में आने से कतरा रहे है। बस्तर दंतेवाड़ा में ईमानदार और निर्भीक पत्रकारों को अप्रत्यक्ष रूप से लगातार धमकियां दी जा रही है और उन्हें कभी भी गिरफ्तार किये जाने का मेसेज दिया जा रहा है और कथित पत्रकारों का एक धड़ा पुलिस के साथ लगातार बैठकें कर रहा है। हालात बदतर हो चुके है, लोकतंत्र की लाश पर बैठे कमल शुक्ला (Kamal Shukla) तामेश्वर सिन्हा (Tameshwar Sinha )जैसे ईमानदार और निर्भीक पत्रकार कब जेल भेज दिये जायेंगे कोई नहीं जानता। प्रभात सिंह के खिलाफ आरोपों की फेरहिस्त काफी लंबी है और इनमें कभी भी देशद्रोह का आरोप जुड़ सकता है। फिलहाल प्रभात सिंह सच लिखने और बस्तर क्षेत्र के गरीब आदिवासियों का दुःख दर्द दुनिया के सामने लाने के कारण जेल में है और जेल जाने से पहले पुलिस ने उनको यातना देने में कोई कसर नहीं छोड़ी होगी। मैं उनके पत्रकार मित्रों के लगातार संपर्क में हूँ और उनकी पैरवी के लिए जल्दी ही बस्तर जा रहा हूँ।
दुआ कीजिये की उन्हें जल्दी न्याय मिले और सच बोलने के लिए तय की उनकी सजा ज्यादा लंबी न हो।

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे [email protected] पर भेजें | इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है। पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं। हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो। आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें -मॉडरेटर

1 comment

#1Kaushal SinghMarch 24, 2016, 7:49 PM

ईश्वर आपके साथ हैं।

Add your comment

Nickname:
E-mail:
Website:
Comment:

Other articlesgo to homepage

सामाजिक जड़ता के विरुद्ध हिन्दी रंगमंच की बड़ी भूमिका..

सामाजिक जड़ता के विरुद्ध हिन्दी रंगमंच की बड़ी भूमिका..(0)

Share this on WhatsAppहिन्दू कालेज में ‘जनता पागल हो गई है’ तथा ‘खोल दो’ का मंचन.. -चंचल सचान॥ दिल्ली। हिन्दू कालेज की हिन्दी नाट्य संस्था ‘अभिरंग’ द्वारा कालेज पार्लियामेंट के वार्षिक समारोह ‘मुशायरा’ के अन्तर्गत दो नाटकों का मंचन किया गया। भारत विभाजन के प्रसंग में सआदत हसन मंटो की प्रसिद्ध कहानी ‘खोल दो’ तथा

अभागे ओम पुरी का असली दर्द..

अभागे ओम पुरी का असली दर्द..(0)

Share this on WhatsApp-निरंजन परिहार|| ओम पुरी की मौत पर उस दिन नंदिता पुरी अगर बिलख बिलख कर रुदाली के अवतार में रुदन – क्रंदन करती नहीं दिखती, तो ओम पुरी की जिंदगी पर एक बार फिर नए सिरे से कुछ नया लिखने का अपना भी मन नहीं करता. पति के अंतिम दर्शन पर आंखों

सवालों से किसे नफ़रत हो सकती है.?

सवालों से किसे नफ़रत हो सकती है.?(1)

Share this on WhatsApp-रवीश कुमार॥ सवाल करने की संस्कृति से किसे नफरत हो सकती है? क्या जवाब देने वालों के पास कोई जवाब नहीं है ? जिसके पास जवाब नहीं होता, वही सवाल से चिढ़ता है। वहीं हिंसा और मारपीट पर उतर आता है। अब तो यह भी कहा जाने लगा है कि अथारिटी से

क्या अघोषित इमरजेंसी की पदचाप और मुखर नहीं हो रही.?

क्या अघोषित इमरजेंसी की पदचाप और मुखर नहीं हो रही.?(3)

Share this on WhatsApp-ओम थानवी॥ एक रोज़ पहले ही रामनाथ गोयनका एवार्ड देते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा था कि हम इमरजेंसी की मीमांसा करते रहें, ताकि देश में कोई ऐसा नेता सामने न आए जो इमरजेंसी जैसा पाप करने की इच्छा भी मन में ला सके। और भोपाल की संदिग्ध मुठभेड़, दिल्ली में मुख्यमंत्री-

तकदीर के तिराहे पर नवजोत सिंह सिद्धू …क्योंकि राजनीति कोई चुटकला नहीं..

तकदीर के तिराहे पर नवजोत सिंह सिद्धू …क्योंकि राजनीति कोई चुटकला नहीं..(0)

Share this on WhatsAppआप जब ये पंक्तियां पढ़ रहे होंगे, तब तक संभव है नवजोत सिंह सिद्धू को नया राजनीतिक ठिकाना मिल गया होगा। लेकिन सियासत के चक्रव्यूह में सिद्धू की सांसे फूली हुई दिख रही हैं। पहली बार वे बहुत परेशान हैं। जिस पार्टी ने उन्हें बहुत कुछ दिया, और जिसे वे मां कहते

read more

मीडिया दरबार एंड्राइड एप्प

मीडिया दरबार की एंड्राइड एप्प अपने एंड्राइड फ़ोन पर इंस्टाल करें.. Click Here To Install On Your Phone

Contacts and information

मीडिया दरबार - जहाँ लगता है दरबार. आप ही राजा हैं इस दरबार के और कटघरे में है मीडिया. हम तो मात्र एक मंच हैं और मीडिया पर अपनी निगाह जमायें हैं, जहाँ भी मीडिया में कुछ गलत होता दिखाई देता है उसे हम आपके सामने रख देते हैं और चलाते हैं मुकद्दमा. जिसपर सुनवाई करते हैं आप, जहाँ न्याय करते हैं आप. जी हाँ, यह एक अलग किस्म का दरबार है. मीडिया दरबार...

Social networks

Most popular categories

© 2014 All rights reserved.
%d bloggers like this: