कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे [email protected] पर भेजें | इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है। पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं। हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो। आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें -मॉडरेटर

PrimeTime – मेरा नाम निसार है, मैं एक जिंदा लाश हूँ..

हैदराबाद पुलिस के द्वारा की गयी थी। पुलिस ने उन्‍हें गुलबर्गा, कर्नाटक स्थित उनके घर से उन्‍हें उठाया था। वह तब फार्मेसी सेकेंड ईयर में पढ़ते थे। निसार को 17 दिन पहले जयपुर जेल से रिहा कर दिया हैं।nisar

NDTV  पर रवीश कुमार ने आज अपने शो प्राइम टाइम में इस मामले पर चर्चा की जिसमे आँखे बंद करके रोते हुए निसार ने कहा की ‘मेरा नाम निसार है और मैं एक जिंदा लाश हूँ’

देखिये उस शख्स की कहानी जो बिना गुनाह किये 23 वर्ष जेल में रहा,

विडियो में पहले जीडीपी पर चर्चा की गयी है बाद में निसार के मुद्दे पर, डायरेक्ट 20 मिनट विडियो आगे बढाकर आप देख सकते है

सौजन्य से – प्राइम टाइम रवीश कुमार NDTV 

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं

Shortlink:

One Response to PrimeTime – मेरा नाम निसार है, मैं एक जिंदा लाश हूँ..

पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं. हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो. आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें - मॉडरेटर