Share this on WhatsApp
Subscribe to RSS
कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे mediadarbar@gmail.com पर भेजें | इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है। पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं। हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो। आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें -मॉडरेटर

सरकार तब कहां थी जब सिटी मैजिस्ट्रेट को पीटा था रामवृक्ष ने..

अब तो केवल बकलोल कमिश्नरी ही होगी कमिश्नरी जांच के नाम पर.. एक दर्जन से ज्यादा मुकदमे दर्ज हैं रामवृक्ष यादव पर, कार्रवाई एक नहीं.. एसएसपी आफिस के सामने से सैल्यूट लेता था रामवृक्ष यादव..

-कुमार सौवीर॥

लखनऊ : मथुरा में आतंक बन चुके रामवृक्ष यादव ने डेढ़ साल पहले भी जवाहर बाग में पुलिस और प्रशासन की टीम पर हमला बोल दिया था। उद्यान विभाग के कर्मचारियों के मकान पर कब्जा करने के मामले में सिटी मजिस्ट्रेट जांच करने गये तो उनकी जान के लाले पड़ गए। खरबों रूपयों कीमती वाली इस करीब तीन सौ एकड सरकारी जमीन पर जबरिया काबिज बैठे  रामवृक्ष के चेलों ने सिटी मैजिस्ट्रेट को सरेआम सडक पर लाठियों से पीटा और वहां मौजूद पुलिस वालों से वायरलैस सेट और लाठियां लूट लीं।

ramvriksh yadav

लेकिन इस हादसे, और इसके पहले और उसके बाद के ऐसे किसी भी हिंसक और गुण्डांगर्दी पर पुलिस और प्रशासन ने कोई भी कड़ी कार्रवाई नहीं की। सभी अफसरों में यह खुली चर्चा चलती है कि यह अवैध कब्जा सरकार की शह पर है और इस कब्जे को बरकरार रखने के लिए ही सरकार वहां अपना और अवैध कब्जेदारों का पसंदीदा डीएम और एसएसपी तैनात करती है। इतना ही नहीं, रामवृक्ष यादव के नाम पर पूरा प्रशासन ही दहल जाता था। कलेक्ट्रेट और एसएसपी आफिस के सामने से वह उस अंदाज में निकलता था जैसे कोई पुलिस या प्रशासन का अफसर सैल्यूट लेता है। उसके सामने डीएम और एसएसपी की घिग्घी बंध जाती थी।

डेढ़ साल पहले हुए ऐसे एक हादसे में भी ताबड़तोड़ फायरिंग भी की गयी थी। घायल एसओ की हालत गंभीर होने पर आगरा रेफर कर दिया गया। देर रात हुए बवाल में पुलिस ने शुक्रवार को 20 सत्याग्रहियों सहित 600 अज्ञात के खिलाफ संगीन धाराओं में मुकदमा दर्ज किया है। एक समाचार पत्र के अनुसार गत 15 मार्च से डेरा जमाए बैठे सत्याग्रही सुभाष चंद्र बोस जयंती मनाने के लिए हाईवे पर गेट बना रहे थे। इसकी भनक लगते ही सिटी मजिस्ट्रेट हेमसिंह, एसओ सदर प्रदीप पांडेय मौके पर पहुंचे। सत्याग्रहियों ने लाठियों से इन पर हमला बोल दिया। अधिकारियो और पुलिस में भगदड़ मच गई। पुलिसकर्मियों से डंडा-वायरलेस सेट छीन लिए गए।

इसी दरम्यान फायरिंग होने लगी। सिटी मजिस्ट्रेट हेमसिंह एक खोखे के पीछे दुबक गए। एसओ प्रदीप पांडेय, एसओ हाईवे सुरेंद्र यादव, शहर कोतवाल कुंवर सिंह यादव सहित आधा दर्जन पुलिसकर्मी घायल हो गए। मौके पर मौजूद सूत्रों के अनुसार, सिटी मजिस्ट्रेट डर के मारे थर-थर कांप रहे थे। घायलों को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां से एसओ प्रदीप पांडेय को शुक्रवार को आगरा रेफर कर दिया गया।

शुक्रवार को पुलिस ने बलवा, पुलिस की पिटाई और उस पर जानलेवा हमला करने, सरकारी सेट छीनने, फायरिंग करने के आरोप में थाना सदर बाजार में सत्याग्रहियों के नेता रामवृक्ष यादव, चंदन बॉस, शिवमंगल, वीर सिंह यादव, अशरफीलाल चौहान, महीपाल सिंह, प्रेमचंद, वंशगोपाल पटेल आदि समेत 20 लोगों को नामजद किया गया। जबकि कुल 500-600 अज्ञात लोगों के खिलाफ उक्त आरोपों में रिपोर्ट दर्ज की गई।

लेकिन इसके और इसके बाद की कई अनेक हिंसक वारदातों पर पुलिस ने कोई भी कार्रवाई नहीं की। वजह यह कि सरकार की शह थी और प्रशासन में आला अफसर उन उपद्रवियों के ही पक्ष में काम कर थे।

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे mediadarbar@gmail.com पर भेजें | इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है। पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं। हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो। आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें -मॉडरेटर

2 comments

#1mahendra guptaJune 4, 2016, 3:49 PM

समाजवादी पार्टी की अपनी शह ही उसे यहाँ काबिज होने में मददगार थी,इसीलिए प्रशासन भी खा कर चुप था , यह मुलायम समाजवाद का अखिल यू पी उदाहरण था , कहा जाता है कि शिवपाल सिंह यादव का उस पर परम हाथ था , यह तो हाई कोर्ट का डंडा नहीं पड़ता तो अभी और चलना था ,
लेकिन विचारणीय यह है कि ऐसी हालत अगले चुनाव के समय हुई तो क्या हालत होगी ? या किसी अन्य जाति या समुदाय के द्वारा असलाह इकट्ठा कर शासन को चुनौती देने का सिलसिला चल पड़ा तो क्या होगा ?यह तो वाकई गुंडा राज की ओर चलने की मिसाल है
मायावती के राज में अपनी तरह की गुंडागर्दी थी , मुलायम- अखिल की अपनी तरह की , जनता का साबका तो गुंडों से ही पड़ना है , और उन्हें ही यह तय करना है कि वे किसका चयन करे या कोई नया विकल्प देखें

#2Mahendra GuptaJune 4, 2016, 10:19 AM

समाजवादी पार्टी की अपनी शह ही उसे यहाँ काबिज होने में मददगार थी,इसीलिए प्रशासन भी खा कर चुप था , यह मुलायम समाजवाद का अखिल यू पी उदाहरण था , कहा जाता है कि शिवपाल सिंह यादव का उस पर परम हाथ था , यह तो हाई कोर्ट का डंडा नहीं पड़ता तो अभी और चलना था ,
लेकिन विचारणीय यह है कि ऐसी हालत अगले चुनाव के समय हुई तो क्या हालत होगी ? या किसी अन्य जाति या समुदाय के द्वारा असलाह इकट्ठा कर शासन को चुनौती देने का सिलसिला चल पड़ा तो क्या होगा ?यह तो वाकई गुंडा राज की ओर चलने की मिसाल है
मायावती के राज में अपनी तरह की गुंडागर्दी थी , मुलायम- अखिल की अपनी तरह की , जनता का साबका तो गुंडों से ही पड़ना है , और उन्हें ही यह तय करना है कि वे किसका चयन करे या कोई नया विकल्प देखें

Add your comment

Nickname:
E-mail:
Website:
Comment:

Other articlesgo to homepage

सीवान, शहाबुद्दीन और एक हताश पिता का संघर्ष..

सीवान, शहाबुद्दीन और एक हताश पिता का संघर्ष..(0)

Share this on WhatsApp90 के दशक की शुरुआत में सीवान की एक नई पहचान बनी.वजह बाहुबली नेता शहाबुद्दीन थे.. वे अपराध की दुनिया से राजनीति में आए थे. 1987 में पहली बार विधायक बने और लगभग उसी समय जमशेदपुर में हुए एक तिहरे हत्याकांड से उनका नाम अपराध की दुनिया में मजबूती से उछला.. जेएनयू

शहाबुद्दीन जेल से रिहा, 1300 गाड़ियों के काफिले के साथ सीवान रवाना..

शहाबुद्दीन जेल से रिहा, 1300 गाड़ियों के काफिले के साथ सीवान रवाना..(0)

Share this on WhatsAppबिहार के बाहुबली आरजेडी नेता मोहम्मद शहाबुद्दीन शनिवार को जेल से रिहा हो गया. सीवान के चर्चित तेजाब कांड में हाई कोर्ट से जमानत मिलने के बाद शनिवार सुबह वह जेल से रिहा हुए. शहाबुद्दीन को कुछ दिनों पहले पत्रकार राजदेव रंजन की हत्या के आरोपों में घिरने के बाद सीवान से

एक थी डेल्टा..

एक थी डेल्टा..(0)

Share this on WhatsApp-भंवर मेघवंशी|| भारत पाकिस्तान की सीमा पर बसे गाँव त्रिमोही की बेटी डेल्टा ,जो इस रेगिस्तानी गाँव की पहली बेटी थी जिसने बारहवीं पास करके रीति रिवाजों में जकड़े समाज की सीमा का उल्लघंन किया था ,उच्च शिक्षा के लिए बाहर गयी .उसके मन में कईं सपने थे ,जिन्हें वो साकार करना

जिम्बाब्वे दौरे पर गए टीम इंडिया दल के एक सदस्य पर रेप का आरोप..

जिम्बाब्वे दौरे पर गए टीम इंडिया दल के एक सदस्य पर रेप का आरोप..(1)

Share this on WhatsAppभारतीय क्रिकेट टीम के जिम्बाब्वे दौरे के दौरान रविवार (19 जून) को एक बड़ा विवाद खड़ा हो गया, जब सीरीज के प्रायोजकों में से एक से जुड़े अधिकारी को कथित बलात्कार के आरोप में गिरफ्तार किया गया। हालांकि इस अधिकारी ने इस आरोप से इनकार किया और खुद को निर्दोष बताया है।

सरला मिश्रा की जली लाश को आज भी इंतजार है न्याय का..

सरला मिश्रा की जली लाश को आज भी इंतजार है न्याय का..(0)

Share this on WhatsApp-आनन्द मिश्र|| भोपाल : नाम सरला मिश्रा। आयु ४१ वर्ष। शिक्षा डबल एम.ए.,एम.एड.,एल.एल.बी. स्नातक पत्रकारिता। परिचय म.प्र. कांग्रेस की दबंग नेता एवं स्वतन्त्रता सेनानी की पुत्री, पौत्री। पद, राजनीति, म.प्र. युवक कांग्रेस की संयुक्त सचिव। हालपता सौ फीसदी जलने के बाद तड़प-तड़प कर हुई मौत। वजह, राजनीति में कांग्रेस और भाजपा के

read more

मीडिया दरबार एंड्राइड एप्प

मीडिया दरबार की एंड्राइड एप्प अपने एंड्राइड फ़ोन पर इंस्टाल करें.. Click Here To Install On Your Phone

Contacts and information

मीडिया दरबार - जहाँ लगता है दरबार. आप ही राजा हैं इस दरबार के और कटघरे में है मीडिया. हम तो मात्र एक मंच हैं और मीडिया पर अपनी निगाह जमायें हैं, जहाँ भी मीडिया में कुछ गलत होता दिखाई देता है उसे हम आपके सामने रख देते हैं और चलाते हैं मुकद्दमा. जिसपर सुनवाई करते हैं आप, जहाँ न्याय करते हैं आप. जी हाँ, यह एक अलग किस्म का दरबार है. मीडिया दरबार...

Social networks

Most popular categories

© 2014 All rights reserved.
%d bloggers like this: