Share this on WhatsApp
Subscribe to RSS
कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे mediadarbar@gmail.com पर भेजें | इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है। पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं। हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो। आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें -मॉडरेटर

अखिलेश की भृकुटि तनी तो जी-टीवी को मिला तीन करोड़ का आदेश चुटकियों में खारिज..

बहुत खफा थे अखिलेश “ कैराना को कश्मीर बनाने वाले चैनलों ! तेरा मुंह काला हो “ वाली खबर पर.. 16 जून की दोपहर को थमाया गया था आरओ, शाम को जारी कर दिया गया निरस्‍तीकरण.. फिलहाल तो चैनल वालों और सरकार के नुमाइंदों में सुलह-समझौतों का दौर शुरू..

-कुमार सौवीर||

लखनऊ : एक खबर एक चैनल में क्‍या चल गयी, मुख्‍यमंत्री अखिलेश यादव की त्‍योरियां हत्‍थे से ही उखड़ गयीं। सामान्‍य तौर पर अपने आक्रोश-नाराजगी को अपनी मुस्‍कुराहट के बल पर दबा-छिपा डालने में माहिर अखिलेश इस बार अपना गुस्‍सा नहीं छिपाये। वजह थी अखिलेश और सरकार में बैठी समाजवादी पार्टी का वोटबैंक। फिर क्‍या था, एक पत्रकार ने कैराना के मामले पर एक सवाल उठा लिया, तो अखिलेश की भृकुटि तन गयीं। बोले: “ कैराना को कश्मीर बनाने वाले चैनलों ! तेरा मुंह काला हो “

akhilesh-yadav-6

अब बोलने को तो अखिलेश यादव बोल गये। लेकिन जब उन्‍हें जैसे ही इस भूल का अहसास हुआ, तो उनको सांप सूंघ गया। आनन-फानन सूचना विभाग के कारिंदे दौड़ाने जाने लगे। हर अखबार और न्‍यूज चैनल में तोहफे भेजने वाले लोगों की ड्यूटी लगायी कि कैसे भी हो, इस खबर को जारी होने से रोका जाए, खबर को किल करा दिया जाए। हर दफ्तरों और पत्रकारों के यहां फोन घनघनाये जाने लगें कि चाहे कुछ भी हो, इस खबर पर लगाम लगाओ।

यह कवायद रंग लायी। ज्‍यादातर अखबारों और चैनलों ने इस खबर को हटा लिया। लेकिन तब तक शायद जी-नेशनल के पत्रकारों को कुछ ज्‍यादा ही जल्‍दी थी, उसने सरकार की ख्‍वाहिशों को रौंदते हुए अपने चैनल में यह खबर लगा दी। गनीमत रही कि यह खबर केवल जी-नेशनल में ही सिमट गयी, लेकिन तब तक सरकार और सूचना विभाग की छीछालेदर तो हो ही गयी।

जब सरकार और शासन को पता चला कि जी-नेशनल पर यह खबर चल गयी है तो सरकार और मुख्‍यमंत्री बुरी तरह भड़क गये। इस आग में तब और भी पेट्रोल पड़ गया जब पता चला कि बिलकुल अभी-अभी ही सूचना विभाग ने जी-टीवी को तीन करोड़ रूपयों का एकमुश्‍त विज्ञापन रिलीज कर दिया है। फिर क्‍या था। मुख्‍यमंत्री ने इस मामले में सीधे हस्‍तक्षेप किया और तय किया गया कि चाहे कुछ भी करना पड़े, आज दोपहर बाद जारी की गये उस रिलीज-ऑर्डर यानी प्रकाशन आदेश को खारिज कर दिया जाए।

इसके बाद ही जी-टीवी को इस आदेश का सारांश देकर सख्‍त ताईद कर दी गयी कि अभी जब तक सरकार का फैसला नहीं हो जाता है तो, तब तक इस आरओ का निरस्‍त कर दिया जाए।

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे mediadarbar@gmail.com पर भेजें | इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है। पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं। हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो। आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें -मॉडरेटर

3 comments

#1mahendra guptaJune 21, 2016, 9:49 PM

मीडिया ऐसे बिकता है ,और ऐसे खरीदा जाता है , यह एक मिसाल मात्र है , दिल्ली के मीडिया हॉउस इस प्रकार से कितना कमाते होएंगे ?मोदी का विरोध करने वाले चैनल इसी लिए मोदी का विरोध करते हैं ताकि सरकार से उन्हें विज्ञापन मिलते रहें व उनके संवाददाताओं को विदेश में भी घूमने का अवसर मिलता रहे

#2Mahendra GuptaJune 21, 2016, 4:19 PM

मीडिया ऐसे बिकता है ,और ऐसे खरीदा जाता है , यह एक मिसाल मात्र है , दिल्ली के मीडिया हॉउस इस प्रकार से कितना कमाते होएंगे ?मोदी का विरोध करने वाले चैनल इसी लिए मोदी का विरोध करते हैं ताकि सरकार से उन्हें विज्ञापन मिलते रहें व उनके संवाददाताओं को विदेश में भी घूमने का अवसर मिलता रहे

#3MohanlalchndiJune 20, 2016, 6:22 PM

एसी निकम्मी सरकार जो हिंदुओं की रक्षा करने मे भी नाकाम अब मीडिया को खरीदकर अपना दागदार चेहरा साफ करने मे लगी हो, उसका पतन तो निश्चित हॆ ।

Add your comment

Nickname:
E-mail:
Website:
Comment:

Other articlesgo to homepage

28 को भारत बंद की घोषणा किसी ने की ही नहीं थी..

28 को भारत बंद की घोषणा किसी ने की ही नहीं थी..(2)

Share this on WhatsApp-जीतेन्द्र कुमार|| आपको यह पढ़कर ताज्जुब होगा। लेकिन आपके घर में अख़बार आता है, पिछले दस दिन का अख़बार देख लें। विपक्ष के किसी नेता का भारत बंद का आह्वान देखने को नहीं मिलेगा। भारत बंद कोई करेगा तो इस तरह चोरी-छिपे नहीं करेगा। इस उदाहरण से यह पता चलता है कि

संघ क्यों रहे नरेंद्र मोदी का गिरवी..

संघ क्यों रहे नरेंद्र मोदी का गिरवी..(0)

Share this on WhatsApp-हरि शंकर व्यास॥ आरएसएस उर्फ राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने नरेंद्र मोदी को बनाया है न कि नरेंद्र मोदी ने संघ को! इसलिए यह चिंता फिजूल है कि नरेंद्र मोदी यदि फेल होते है तो संघ बदनाम होगा व आरएसएस की लुटिया डुबेगी। तब भला क्यों नरेंद्र मोदी और उनकी सरकार की मूर्खताओं

नागरिको, अग्नि-परीक्षा दो..

नागरिको, अग्नि-परीक्षा दो..(0)

Share this on WhatsAppपैसे न होने की हताशा में पचास से ज़्यादा मौतें हो जाने का न सरकार को अफ़सोस है, न बीजेपी को. सरकार बता रही है कि जो हो रहा है, वह ‘राष्ट्र हित’ में है. प्रसव पीड़ा है. इसे झेले बिना ‘आनन्द-रत्न’ की प्राप्ति सम्भव नहीं. अभी झेलिए, आगे आनन्द आयेगा. जो

सवालों से किसे नफ़रत हो सकती है.?

सवालों से किसे नफ़रत हो सकती है.?(1)

Share this on WhatsApp-रवीश कुमार॥ सवाल करने की संस्कृति से किसे नफरत हो सकती है? क्या जवाब देने वालों के पास कोई जवाब नहीं है ? जिसके पास जवाब नहीं होता, वही सवाल से चिढ़ता है। वहीं हिंसा और मारपीट पर उतर आता है। अब तो यह भी कहा जाने लगा है कि अथारिटी से

क्या अघोषित इमरजेंसी की पदचाप और मुखर नहीं हो रही.?

क्या अघोषित इमरजेंसी की पदचाप और मुखर नहीं हो रही.?(3)

Share this on WhatsApp-ओम थानवी॥ एक रोज़ पहले ही रामनाथ गोयनका एवार्ड देते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा था कि हम इमरजेंसी की मीमांसा करते रहें, ताकि देश में कोई ऐसा नेता सामने न आए जो इमरजेंसी जैसा पाप करने की इच्छा भी मन में ला सके। और भोपाल की संदिग्ध मुठभेड़, दिल्ली में मुख्यमंत्री-

read more

मीडिया दरबार एंड्राइड एप्प

मीडिया दरबार की एंड्राइड एप्प अपने एंड्राइड फ़ोन पर इंस्टाल करें.. Click Here To Install On Your Phone

Contacts and information

मीडिया दरबार - जहाँ लगता है दरबार. आप ही राजा हैं इस दरबार के और कटघरे में है मीडिया. हम तो मात्र एक मंच हैं और मीडिया पर अपनी निगाह जमायें हैं, जहाँ भी मीडिया में कुछ गलत होता दिखाई देता है उसे हम आपके सामने रख देते हैं और चलाते हैं मुकद्दमा. जिसपर सुनवाई करते हैं आप, जहाँ न्याय करते हैं आप. जी हाँ, यह एक अलग किस्म का दरबार है. मीडिया दरबार...

Social networks

Most popular categories

© 2014 All rights reserved.
%d bloggers like this: