Share this on WhatsApp
Subscribe to RSS
कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे mediadarbar@gmail.com पर भेजें | इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है। पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं। हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो। आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें -मॉडरेटर

मनीष छोटे भाई, अन्ना बड़े भाई…। सब भाई-भाई, अब नहीं होगी कोई लड़ाई..।।

खबर है कि मनीष तिवारी के वकील ने अन्ना के वकील को जो लिखित माफी-नामा भेजा था उसे मंजूर कर लिया गया है। अन्ना बाबूराव हजारे ने मनीष तिवारी को उनके कहे अपशब्दों के लिए माफ कर दिया है। अब रालेगण सिद्धि से वकील का जवाब आने वाला है। दरअसल मनीष तिवारी ने यह माफीनामा अन्ना हज़ारे के वकील के उस नोटिस के जवाब में भेजा था जिसमें कथित मानहानि के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की धमकी दी गई थी।

गौरतलब है कि मनीष तिवारी ने अन्ना हजारे के अनशन के दौरान उन्हें भ्रष्टाचारी कहा था, उन पर सेना के कोर्ट मार्शल होने का आरोप लगाया था। मर्यादा की सारी सीमा का उल्लघन करने वाले मनीष तिवारी ने बकयादा प्रेस वार्ता करके अन्ना हजारे जैसे वरिष्ठ व्यक्ति को तुम कहकर संबोधित किया था।

हालांकि आलोचनाओं के घेरे और जगहंसाई होने के बाद मनीष तिवारी ने सामूहिक रूप से माफी मांगी थी। लेकिन 8 सिंतबर को अन्ना हजारे के वकील मिलिंद पवार ने मनीष तिवारी को मानहानी का नोटिस भेजकर इस प्रकरण को फिर से ताजा कर दिया था। जिसके जवाब में मनीष तिवारी ने लिखित रूप से अन्ना हजारे को अपना माफीनामा भेजा जिस पर अन्ना ने कहा कि पश्चाताप से बड़ा कोई प्रायश्चित नहीं होता है इसलिए मनीष तिवारी को मैं माफ करता हूं।

आपको बता दें कि अन्‍ना हजारे को भेजे गये लिखित माफीनामें में मनीष तिवारी ने लिखा है कि वह इस मामले में पहले भी 25 अगस्‍त को माफी मांग चुके हैं। मनीष तिवारी के इस संदेश की एक प्रति अन्ना के वकील पवार ने बुधवार को जारी किया है।

माफी-नामे में मनीष ने लिखा है कि उनकी बातों से अन्ना हजारे को दुख पहुंचा जिसका उन्हें बहुत अफसोस है। अन्ना उनसे उम्र में काफी बड़े हैं, इसलिए मुझे छोटा भाई समझ कर मेरी गलतियों और मेरी अभद्रता को क्षमा कर दें। और वो उम्मीद करते हैं कि मेरे लिखित माफी-नामे पढ़कर वो मामले को और आगे नहीं बढ़ाएगें।

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे mediadarbar@gmail.com पर भेजें | इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है। पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं। हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो। आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें -मॉडरेटर

2 comments

#1vijaySeptember 23, 2011, 10:41 AM

मुझे समज में नहीं आता की आप मीडिया दरबार वाले इस तरह के शीर्षक का इस्तेमाल क्यों कर रहे हो ” मनीष छोटे भाई, अन्ना बड़े भाई…सब भाई-भाई, अब नहीं होगी कोई लड़ाई ” क्या इसका मतलब ये समझा जाये की अन्ना और तिवारी को आप एक ही गाठ में बांध रहे हो ? अन्ना बहोत ऊँची असामी है, तिवारी के साथ उनकी तुलना नहीं हो सकती है, और आप तो सीधे भाई ही बना रहे हो !!

#2आशा खत्री ‘लता’September 22, 2011, 8:54 PM

bade logo ki badi bate!

Add your comment

Nickname:
E-mail:
Website:
Comment:

Other articlesgo to homepage

सीवान, शहाबुद्दीन और एक हताश पिता का संघर्ष..

सीवान, शहाबुद्दीन और एक हताश पिता का संघर्ष..(0)

Share this on WhatsApp 90 के दशक की शुरुआत में सीवान की एक नई पहचान बनी.वजह बाहुबली नेता शहाबुद्दीन थे.. वे अपराध की दुनिया से राजनीति में आए थे. 1987 में पहली बार विधायक बने और लगभग उसी समय जमशेदपुर में हुए एक तिहरे हत्याकांड से उनका नाम अपराध की दुनिया में मजबूती से उछला..

शहाबुद्दीन जेल से रिहा, 1300 गाड़ियों के काफिले के साथ सीवान रवाना..

शहाबुद्दीन जेल से रिहा, 1300 गाड़ियों के काफिले के साथ सीवान रवाना..(0)

Share this on WhatsApp बिहार के बाहुबली आरजेडी नेता मोहम्मद शहाबुद्दीन शनिवार को जेल से रिहा हो गया. सीवान के चर्चित तेजाब कांड में हाई कोर्ट से जमानत मिलने के बाद शनिवार सुबह वह जेल से रिहा हुए. शहाबुद्दीन को कुछ दिनों पहले पत्रकार राजदेव रंजन की हत्या के आरोपों में घिरने के बाद सीवान

आखिर भाकपा ने माना: सिंगूर भूमि अधिग्रहण गलती..

आखिर भाकपा ने माना: सिंगूर भूमि अधिग्रहण गलती..(0)

Share this on WhatsApp हैदराबाद। भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी भाकपा ने स्वीकार किया कि पश्चिम बंगाल की पूर्ववर्ती वाममोर्चा सरकार ने प्रस्तावित टाटा मोटर्स परियोजना के लिए सिंगूर में भूमि अधिग्रहण प्रक्रिया में ‘‘गलती’’ की थी जिससे ममता बनर्जी को राजनीतिक रूप से मदद मिली। भाकपा महासचिव एस सुधाकर रेड्डी ने एजेंसियों से कहा कि सिंगूर

ब्राह्म्णवाद की देन है डायन कुप्रथा..

ब्राह्म्णवाद की देन है डायन कुप्रथा..(0)

Share this on WhatsApp – नवल किशोर कुमार॥ अंधविश्वास और धर्म के बीच गहरा रिश्ता है। दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति तब हो जाती है जब धर्म को स्थापित करने के लिए अंधविश्वास को जायज ठहराया जाता है और जायज ठहराने के क्रम में मानवीय मूल्यों की सारी सीमायें लांघी जाती हैं। ऐसा ही एक अंधविश्वास “डायन कुप्रथा” है। यह एक

बलूचिस्तान नहीं, पाकिस्तान की मदद..

बलूचिस्तान नहीं, पाकिस्तान की मदद..(0)

Share this on WhatsApp – हामिद मीर॥ यह अप्रैल 2014 का किस्सा है. एक जानलेवा हमले के बाद मुझे कराची के आगा ख़ान अस्पताल में भर्ती कराया गया था. कराची हवाईअड्डे से जिओ टीवी के दफ्तर जाने के दौरान मुझ पर हमला हुआ और छह गोलियां मेरे शरीर के भीतर धंस गईं थीं. चार निकाल

read more

ताज़ा पोस्ट्स

Contacts and information

मीडिया दरबार - जहाँ लगता है दरबार. आप ही राजा हैं इस दरबार के और कटघरे में है मीडिया. हम तो मात्र एक मंच हैं और मीडिया पर अपनी निगाह जमायें हैं, जहाँ भी मीडिया में कुछ गलत होता दिखाई देता है उसे हम आपके सामने रख देते हैं और चलाते हैं मुकद्दमा. जिसपर सुनवाई करते हैं आप, जहाँ न्याय करते हैं आप. जी हाँ, यह एक अलग किस्म का दरबार है. मीडिया दरबार...

Social networks

Most popular categories

© 2014 All rights reserved.
%d bloggers like this: