Loading...
You are here:  Home  >  अपराध  >  Current Article

चैनलों में मची MMS दिखाने की होड़, पुलिस ने कहा, लड़कियों ने किया था मज़ाक

By   /  October 5, 2011  /  3 Comments

    Print       Email
इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..

चंडीगढ़ के पास पंचकुला में एक छात्रा का न्यूड एमएमएस बनाने का मामला एक तरफ जहां इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के लिए टीआरपी का फॉर्मूला बन रहा है वहीं दूसरी तरफ पुलिस इस मामले को लड़कियों का आपसी मज़ाक बता कर रफा-दफा करने में जुटी है।

 

पंचकुला सेक्टर 5 की पुलिस ने मंगलवार को पीड़ित छात्रा से लिखित शिकायत तो ले ली, लेकिन मामला भी दर्ज़ नहीं किया। थानाध्यक्ष ओम-प्रकाश पर पूरा मामला पलटने की कोशिश करने के आरोप लग रहे हैं। पुलिस की मानें तो लड़कियों ने यह सब कुछ ‘आपसी मज़ाक’ में किया था। पुलिस के मुताबिक पांचों लड़कियां आपस में दोस्त हैं और उनमें पार्टी लेने को लेकर मज़ाक चल रहा था। अभी तक किसी की गिरफ्तारी भी नहीं हुई है।

 

मंगलवार को दिन भर लगभग सभी न्यूज़ चैनलों के आई टी एक्सपर्ट एमएमएस तलाशने की जुगत लगाते रहे। कुछ चैनलों ने इसे हासिल भी कर लिया और एडिट कर काफी हद तक दिखाया भी। हालांकि हर चैनल इसे गलत और अनैतिक ठहराता रहा लेकिन किसी ने यह बताने की जरूरत नहीं समझी कि जिस वीडियो के बनने पर वो इतना हंगामा मचा रहे हैं, उसे सार्वजनिक कर दिखाना कितना नैतिक है।

 

गौरतलब है कि 26 सितंबर को पंचकुला के सेक्टर 4 में चार लड़कियों ने एक 19 वर्षीय युवती को न सिर्फ मारा पीटा, बल्कि उसका अश्लील वीडियो बना कर इंटरनेट पर अपलोड कर दिया।

Facebook Comments

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..
    Print       Email

About the author

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक “मुखौटों के पीछे – असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष” में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.

3 Comments

  1. B L TIWARI says:

    चैनलों की नैय्तिकता पाठक का चरित्य देखने वालो की शर्म झुटा वावेला है यदि एसा नहीं होता तो एसी कहानी बताने दिखने की जरुररत ही कियो हँ अन्दर ही अंदर खुछ ओर्र ही बात है जो जानते सब है दिखावा कुछ ओर्र ही केरते है ईमानदार कोण बना चाहता है पता नहीं ये झूटी जिन्द्गगी कियो जीना चाहते ये लोग एसे समाचार सामने लेन का मतलब लिया है

  2. Rajis says:

    Ye kaam achha nahi hai nude mms ladki bana rahi hai fir ladko ko bhi doshi thehrati hai

  3. ranvijay singh rana says:

    थिस इस शमेलेस और ऐसा करके अच नहीं किया जब लड़की ही लड़की का मम्स बना कर बदनाम कर सकती है तोह कोई भी लडको का कोई दोष नहीं है कई मामलो में लड़की दोषी होती है पैर समाज लड़के की गलती मानता है कु सोच बदलो इस धरती पैर ऐसा काम अच्छा नहीं है में दुखी हो और फुल सुप्पर्ट है उस लड़की को

पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं. हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो. आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें - मॉडरेटर

You might also like...

पनामा के बाद पैराडाइज पेपर्स लीक..

Read More →
Page Reader Press Enter to Read Page Content Out Loud Press Enter to Pause or Restart Reading Page Content Out Loud Press Enter to Stop Reading Page Content Out Loud Screen Reader Support
%d bloggers like this: