/दिवाली पर हुआ धमाका : पूनम पाण्डेय की वेबसाईट हुई ऑन, लेकिन कमियां बरकरार

दिवाली पर हुआ धमाका : पूनम पाण्डेय की वेबसाईट हुई ऑन, लेकिन कमियां बरकरार

किंगफिशर मॉडल पूनम पांडेय की वेबसाइट यानि www.poonampandey.co.in कई दिनों तक गायब रहने के बाद अचानक दीपावली की रात वापस ऑन हो गई। 19 अक्टूबर के बाद एक-दो दिनों तक तो यह ‘अंडर कंस्ट्रक्शन’ यानि निर्माणाधीन दिखती रही लेकिन 24 अक्टूबर से तो पूरी तरह गायब हो गई थी। नई वेबसाइट में ट्विटर, फेसबुक, फोटो, वीडियो और न्यूज़ के लिंक भी दिए गए हैं, लेकिन सभी पूरी तरह चालू नहीं हैं।

 

 

 

 

 

वर्ल्ड कप के दौरान भारतीय क्रकेट टीम के लिए कपड़े उतार देने का ऐलान करने वाली पूनम खुद को क्रिकेट की दीवानी बताती हैं और उनका मानना है कि वो जो कुछ भी करती हैं, भारतीय क्रिकेट टीम के लिए भाग्यशाली साबित होता है। हाल ही में जारी अपने वीडियो को भी उन्होंने भारतीय टीम की जीत से जोड़ कर मीडिया में बयान दिए। यह अलग बात है कि उनके बयानों को भारतीय टीम के किसी खिलाड़ी ने कोई खास तवज्जो नहीं दी।

 

 

 

 

 

इसके बाद पूनम ने एक नया शिगूफा छोड़ा यूट्यूब पर चोरी-छिपे अपलोड हुए वीडियो की चर्चा कर के। उनका कहना था कि किसी ने उनकी शूटिंग के दौरान चुपके से तस्वीरें उतार कर यूट्यूब पर डाल दी हैं।

 

 

 

 

 

 

 

 

पूनम अपनी शोख अदाओं के अलावा अपने बिंदास बयानों की वजह से भी ज्यादा चर्चा में रही हैं। वे अपने बारे में खासे बोल्ड बयान देती रही हैं। इंडस्ट्री के विश्लेषक उन्हें मल्लिका शेहरावत के नक्शे कदम पर चलने वाला मानते हैं।

 

 

 

 

 

 

 

 

जब बहुचर्चित टीवी शो बिग बॉस शुरु हुआ तो इसके आयोजकों ने इस सेक्सी बाला के जरिए अपनी टीआरपी बढ़ाने की सोची और पूनम से उन्हें घर में बुलाने की बातें भी हुईँ, लेकिन कहते हैं उन्होंने अपने जलवे दिखाने के लिए दो करोड़ रुपयों की मांग कर डाली। बिग बॉस में इस बार सुंदरियों का हुजूम लगा है, इसलिए पूनम को न्यौता नहीं भेजा गया। उधर पूनम तब तक मीडिया में अपने शो में भागीदारी की चर्चा करवा चुकी थीं। आखिरी दिन भी जब बग बॉस के आयोजकों ने पूनम के नाम का ऐलान नहीं किया तो उन्होने इसका बदला निकालने की दूसरी तरकीब अपनाई।

 

 

 

 

 

पूनम पांडेय ने झट-पट एक वेबसाइट लांच करने की घोषणा कर डाली और मीडिया को बताया कि इसके जरिए उनके फैन्स को वह ‘सब कुछ’ देखने का मौका मिल जाएगा जो वह देखने की तमन्ना रखते हैं। पूनम ने इस वेबसाइट का नाम भी अपने नाम पर www.poonampandey.co.in रखा और इसके मुख पृष्ठ पर लिखवाया- ”थोड़ा इंतजार करें।”

 

 

 

 

 

 

 

 

पूनम ने अपने वेबसाइट के प्रचार हेतु एक के बाद एक करके तीन गरमागरम वीडियो भी जारी किए। पहले वीडियो का नाम रखा गया ‘बाथरुम सीक्रेट्स।’ इससे पहले भी पूनम यूट्यूब पर हिट रह चुकी हैं, लेकिन तब उन्होंने खुद अपना वीडियो अपलोड नही करवाया था।

 

 

 

इसके फौरन बाद पूनम पांडेय ने ‘मिरर ऐक्ट’ के नाम से एक और वीडियो जारी कर दिया। यह वीडियो पूनम के लिंक पर से यूट्यूब ने हटा दिया। बिग बॉस की तर्ज पर ऑटोमेटेड कैमरों से फिल्माए गए इस वीडियो में वैसे तो ज्यादातर जगह सफेद बिकिनी पहने नजर आती हैं, लेकिन एक-दो जगह बॉडी कलर की ब्रा पहने हुए भी हैं। बताया जाता है कि यूट्यूब को ‘किसी ने’ उन्हीं दृश्यों के बारे में शिकायत की थी और उसे हटा लिया गया। वजह चाहे जो भी रही हो, बैन होने के बाद भी यह कई लिंको पर उपलब्ध रही और हिट भी।

 

 

 

 

 

इसके बाद पूनम पांडेय ने एक फर वाली ब्लाउज, और दो जुराबें, उतारने में 8 मिनट 12 सेकेंड का समय लगा डाला अपने तीसरे वीडियो ट्रेलर में। पूनम पांडेय की वेबसाइट पर तो यह वीडियो प्राइवेट वीडियो की कैटेगरी में है जिसे वहां देखना हर किसी के लिए संभव नहीं है, लेकिन यह यूट्यूब पर आसानी से अन्य कई  लिंकों पर उपलब्ध है। इस वीडियो में पूनम पांडेय ने बिग बॉस में अब तक जगह न मिलने की कमी को पूरा करने की हर संभव कोशिश की है।

 

 

 

इन ट्रेलर के जरिए अपनी वेबसाइट को प्रमोट करने वाली पूनम ने मीडिया को दीपावली पर इससे भी कई गुना बड़ा धमाका करने की घोषणा की थी और चार-पांच दिनों तक लापता रहने के बाद उनकी साइट वापस भी आ गई लेकिन लगता है उनके वेब प्रोग्रामर और डिजाइनर पूरी तरह तैयार नहीं हैं। लापता होने से पहले पूनम की वेबसाइट कुछ ऐसी दिखती थी।

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक "मुखौटों के पीछे - असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष" में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.