/कश्मीर के मुस्तफा कमाल को थप्पड़ मारने पर मिलेगा 21 हजार का नकद इनाम

कश्मीर के मुस्तफा कमाल को थप्पड़ मारने पर मिलेगा 21 हजार का नकद इनाम

पिछले दिनों कश्मीर में हुए बम विस्फोट पर फारुख अब्दुल्ला के भाई मुस्तफा कमाल अपनी राजनीतिक रोटियां सेंकने में जुटे हैं, लेकिन दिल्ली के ‘सरफिरे जाबांजों’ की टीम ने उन्हें इसके लिए सबक सिखाने का फैसला किया है। भगत सिंह क्रांति सेना ने  कमाल के द्वारा इस विष्फोट में हिंदुस्तानी ऑर्मी का हाथ बताने वाले बयान पर कड़ी आपत्ति जताई है।   सेना के अध्यक्ष तेजिंदर सिंह बग्गा ने मीडिया दरबार डॉट कॉम को बताया कि जो शख्स भी अब्दुला के भाई मुस्तफा कमाल को तमाचा मारेगा, उसे 21 हजार रूपए बतौर इनाम दिए जाएंगे।

भगत सिंह क्रांति सेना टीम अन्ना के सदस्य और ख्यात वकील प्रशांत भूषण की पिटाई करने के बाद से चर्चा में आई है। गौरतलब है कि प्रशांत भूषण अफज़ल गुरु के वकील रह चके हैं और हाल ही में उन्होंने कश्मीर पर भारत के अधिकार को अनैतिक करार देते हुए वहां फिर से जनमत संग्रह कराने की मांग की थी।

फारुख अब्दुला के भाई और नेशनल क्रांफ्रेस के महासचिव व पार्टी प्रवक्ता मुस्तफा कमाल ने पिछले दिनों कहा था कि कश्मीर के आवाम में डर पैदा करने के लिए एक के बाद एक बम विस्फोट हो रहे हैं। इसमें हिंदुस्तानी फौज शामिल है।

खास बात यह है कि अब्दुल्ला के इस बयान पर भाजपा के साथ-साथ फारुख अब्दुल्ला की सहयोगी कांग्रेस ने भी काफी कड़ी प्रतिक्रिया देते हुए नैश्नल कॉन्फ्रंस से कहा है कि मुस्तफा कमाल के खिलाफ कड़े कदम उठाए जाएं।

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक "मुखौटों के पीछे - असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष" में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.