Share this on WhatsApp
Subscribe to RSS
कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे mediadarbar@gmail.com पर भेजें | इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है। पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं। हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो। आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें -मॉडरेटर

पत्रकार देवब्रत वशिष्ठ को भिवानी गौरव सम्मान, दिल्ली में हुआ रंगारंग आयोजन

भिवानी. चेतना अखबार के मालिक और वरिष्ठ पत्रकार देवब्रत वशिष्ठ को पत्रकारिता के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान के लिए भिवानी गौरव सम्मान से सम्मानित किया गया है। देवब्रत वशिष्ठ को यह सम्मान हरियाणा के सहकारिता मंत्री सतपाल सांगवान ने पीतमपुरा स्थित दिल्ली हाट में आयोजित एक रंगारंग कार्यक्रम में दिया। इस सम्मान समारोह में दिल्ली की मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के मुख्य संसदीय सचिव अनिल भारद्वाज, शालीमार बाग से विधायक रविन्द्र बंसल, वजीरपुर से विधायक हरि शंकर गुप्ता सहित दिल्ली और भिवानी जिले की कई जानी मानी हस्तियों ने भी शिरकत की।

 

 

 

 

इस मौके पर सहकारिता मंत्री सतपाल सांगवान ने कहा कि दिल्ली के विकास में हरियाणा के साथ भिवानी का महत्वपूर्ण योगदान है। सांगवान और अनिल भारद्वाज ने सम्मान समारोह का आयोजन करने वाली संस्था भिवानी परिवार मैत्री संघ को अपना पूरा सहयोग देने का वादा किया। समारोह की अध्यक्षता  भिवानी परिवार मैत्री संघ के संरक्षक पुष्पेंद्र गोयल ने की। पुष्पेंद्र गोयल ने बताया कि भिवानी गौरव सम्मान हर साल दिल्ली की स्वयं सेवी संस्था भिवानी परिवार मैत्री संघ की तरफ से दिए जाते हैं। उनकी संस्था समाज में उल्लेखनीय काम करने वाले लोगों को यह सम्मान देती है जिन्होंने भिवानी जिले का नाम रौशन किया हो।

 

 

 

ये पुरस्कार भी भिवानी जिले के प्रतिष्ठित महानुभावों के नाम पर शुरू किये गए हैं। स्वतंत्रता सेनानी पंडित नेकी राम शर्मा के नाम पर देश सेवा, चौधरी बंसी लाल लोक प्रशासन, मास्टर बनारसी दस गुप्ता पत्रकारिता, राम कृषण गुप्ता शिक्षा, लाला फ़कीर चंद समाज सेवा जैसे कुल आठ सम्मान दिए जाते हैं। सम्मान पाने वाले लोगों में भिवानी जिले के मूल निवासी लेफ्टिनेंट जनरल (रिटायर्ड) जेबीएस यादव, नीमडी गाँव के सरपंच शेरसिंह आर्य, राजेन्द्र स्वरूप राजन ,नरेन्द्र्जीत सिंह रावल,  देवब्रत वशिस्ठ, हरिचरण पीटीआई रेड क्रॉस के सचिव श्याम सुन्दर और पं शिव नारायण शास्त्री शामिल हैं। इस मौके पर नारायणी देवी महावीर प्रसाद भग्ग्नका की स्मृति में हरियाणवी कलाकारों द्वारा रंगा रंग कार्यक्रम भी पेश किया गया।

प्रेस विज्ञप्ति

संबंधित खबरें:

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे mediadarbar@gmail.com पर भेजें | इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है। पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं। हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो। आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें -मॉडरेटर

0 comments

Add your comment

Nickname:
E-mail:
Website:
Comment:

Other articlesgo to homepage

वेद जी बड़े पत्रकार और उससे भी बड़े इंसान थे..

वेद जी बड़े पत्रकार और उससे भी बड़े इंसान थे..(0)

Share this on WhatsApp पिछले दिनों हुए उनके दुखद निधन से जम्मू- कश्मीर की आज तक की पत्रकारिता का सबसे बड़ा स्तम्भ नहीं रहा.. -शकील अख्तर॥ 1990 का सर्द दिसम्बर। श्रीनगर ज्वाइन करने के बाद पहली बार जम्मू आए। रात कास्मो में रूके। सुबह सबसे पहले बगल में स्थित कश्मीर टाइम्स के दफ्तर पहुंच गए।

ये तो मोदी और शाह की हार है..

ये तो मोदी और शाह की हार है..(2)

Share this on WhatsApp -ओम माथुर॥ बिहार में कौन हारा? सीधा जवाब तो यही है कि भारतीय जनता पार्टी। लेकिन क्या यही सच्चाई है? शायद नहीं। बिहार में जिस तरह से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने खुद को झोंक दिया और उनके सामने पार्टी गौण हो गई थी,उसे देखते हुए तो

अगर हम लेखकों के विरोध को नहीं समझ रहे हैं तो यह हमारी गलती है..

अगर हम लेखकों के विरोध को नहीं समझ रहे हैं तो यह हमारी गलती है..(1)

Share this on WhatsApp -प्रियदर्शन॥ जिन्हें सरकार और उसके लोग बेहद मामूली, अनजान से लेखक बता रहे हैं, उनका विरोध इसलिए महत्वपूर्ण है कि हमारी बहुत सारी विफलताओं से प्रतिरोध का जो स्वर मर गया था, वह अचानक सांस लेने लगा है. चिनगारी जैसे शोले में बदलती जा रही है. लेखकों का विरोध बड़ा होता

मैं असली अम्बेडकरवादी नहीं हूँ..

मैं असली अम्बेडकरवादी नहीं हूँ..(0)

Share this on WhatsApp ‘‘हिंदुत्व का छद्म चमचा, सवर्णों के तलुवे चाटने वाला तथा दलित बहुजन आंदोलन का गद्दार है, दलित विरोधी है तथा शेर की खाल में भेडि़या है।’’ आजकल सोशल मीडिया पर मैं इन्हीं अनंत विभूषणों से विभूषित हूं, क्योंकि मैंने सच को सच कहने का दुःसाहस कर दिया, एक जमीन की लड़ाई

मेरा सवाल आपसे है..

मेरा सवाल आपसे है..(1)

Share this on WhatsApp -रवीश कुमार॥ दोस्तों, मैं 2013 से इस बारे में लिख रहा हूँ । अपने टीवी शो में बोल रहा हूँ । इस प्रक्रिया को समझने का प्रयास करता रहता हूँ । मैंने सोचा था अब इस विषय पर नहीं लिखूँगा । आज आप सबके फोन आए तो लगा कि मैं अपनी

read more

ताज़ा पोस्ट्स

Contacts and information

मीडिया दरबार - जहाँ लगता है दरबार. आप ही राजा हैं इस दरबार के और कटघरे में है मीडिया. हम तो मात्र एक मंच हैं और मीडिया पर अपनी निगाह जमायें हैं, जहाँ भी मीडिया में कुछ गलत होता दिखाई देता है उसे हम आपके सामने रख देते हैं और चलाते हैं मुकद्दमा. जिसपर सुनवाई करते हैं आप, जहाँ न्याय करते हैं आप. जी हाँ, यह एक अलग किस्म का दरबार है. मीडिया दरबार...

Social networks

Most popular categories

© 2014 All rights reserved.
%d bloggers like this: