/ISI की एजेंट है वीना? न्यूड तस्वीर छापने पर करेंगी मुकद्दमा, FHM ने कहा असली है फोटो

ISI की एजेंट है वीना? न्यूड तस्वीर छापने पर करेंगी मुकद्दमा, FHM ने कहा असली है फोटो

बिग बॉस सीजन-4 से भारत में अपनी पहचान बनाने वाली पाकिस्तानी अभिनेत्री वीना मलिक एक बार फिर चर्चा में हैं। इस बार वह सिर्फ रियलिटी शो स्वयंवर में भागीदारी के लिए नहीं ‘एफएचएम इंडिया’ पत्रिका के कवर पेज पर अपनी नग्न तस्वीर छपने के कारण भी चर्चा में हैं।

वीना की तस्वीर में उनके हाथ पर एक टैटू बना हुआ है जिसमें ‘आईएसआई’ लिखा हुआ है। वीना मलिक ने पत्रिका के लिए नग्न तस्वीरे खिंचवाने की बात को खारिज करते हुए कहा है कि तस्वीर के साथ छेड़छाड़ की गई है।

दूसरी ओर पत्रिका के संपादक कबीर शर्मा ने कहा कि उनके पास वीना के शूट का वीडियो है और अभिनेत्री की ओर से एक ई-मेल भी जो यह साबित करता है कि तस्वीरें असली हैं। सूत्रों का कहना है कि यह फोटो शूट वीना के पसंदीदा फोटोग्राफर विशाल सक्‍सेना ने किया है। इस फोटो को काफी पसंद किया जा रहा है।

वीना ने मुंबई में कहा, ‘‘मैंने कभी नग्न तस्वीरें नहीं खिंचवाई हैं। मैंने इससे पहले कभी ऐसा नहीं किया है। मेरे मैनेजर और लीगल टीम इस मामले पर नजर रख रहे हैं। हम उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई करेंगे।’’ मुंबई में रियलिटी शो ‘स्वयंवर’ की शूटिंग कर रही 33 वर्षीय वीना का कहना है, ‘‘तस्वीरों से छेड़छाड़ की गई है। यह मैं नहीं हूं। पक्का नहीं हूं।’’

पत्रिका के संपादक कबीर शर्मा अलग ही दास्तान बयां कर रहे हैं। कबीर का कहना है, ‘‘फोटो शूट 22 नवंबर को मुंबई में हुआ है। हमारे पास शूट का वीडियो भी है। मेरे पास वीना का एक ई-मेल भी जिसमें लिखा है कि उन्होंने तस्वीरें देख ली हैं और उससे काफी खुश हैं और वह कवर पेज देखने का इंतजार कर रही हैं।’’

पत्रिका का कवर पेज भारत के साथ-साथ पाकिस्तान में भी चर्चा का विषय बना हुआ है और लोग इसके लिंक को जम कर पोस्ट कर रहे हैं। दिलचस्प बात यह है कि एफएचएम पत्रिका के संपादक और वीना मलिक दोनों ही पर अक्सर पब्लिसिटी हासिल करने के लिए झूठ बोलने के आरोप लगते रहे हैं।

पाकिस्तान की राखी सावंत कही जाने वाली वीना मलिक जल्द ही इमेजिन टीवी के रियलिटी शो ‘स्वयंवर’ में अपना स्वयंवर रचाने जा रही हैं। चैनल की तरफ से इसके लिए वीना को तीन करोड़ रुपए दिए जा रहे हैं। इसके साथ ही अगर वीना ने इस शो में शादी भी कर ली तो पूरे साढ़े 4 करोड़ रुपए मिलेंगे।

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक "मुखौटों के पीछे - असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष" में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.