Loading...
You are here:  Home  >  दुनियां  >  देश  >  Current Article

हास्यास्पद हसीन सपना पूरा करने के “केजरीवाली” हथकंडे

By   /  December 30, 2011  /  21 Comments

    Print       Email
इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..

-सतीश चन्द्र मिश्र ||

अन्ना टीम, खासकर उसका सबसे शातिर खिलाडी अरविन्द केजरीवाल पिछले कुछ महीनों से टी.वी.कैमरों के समक्ष जब-तब अपने तथाकथित जनलोकपाली रिफ्रेंडम की धौंस देता रहता है. हर बात पर सर्वे करा लेने की चुनौतियाँ धमकियों की तरह देता रहता है. लेकिन फेसबुक के मित्रों ने उसको लेकर एक ऐसा सर्वे कर डाला जो अन्ना टीम के इस सबसे शातिर और मंझे खिलाडी के प्रति देश की सोच का खुलासा करता है..

दरअसल इस अरविन्द केजरीवाल ने अपने कुछ चम्मच-कटोरियों के माध्यम से स्वयम को इस देश के प्रधानमंत्री के रूप में प्रस्तुत करवाया था क्योंकि अगस्त महीने में दिल्ली के रामलीला मैदान में अन्ना टीम द्वारा लगाये-सजाये गए जनलोकपाली मजमे की तिकड़मी सफलता के बाद बुरी तरह बौराए अरविन्द केजरीवाल ने संभवतः इस देश के सर्वोच्च लोकतांत्रिक पद पर कब्ज़ा करने का दिवास्वप्न देखना पालना प्रारम्भ कर दिया था. अपने इस दिवास्वप्न के सम्बन्ध में देश की राय/थाह लेने के लिए अपने कुछ चमचों के द्वारा इसने फेसबुक पर “kejriwal for PM “https://www.facebook.com/ArvindK.PM नाम से एक पेज बनवा दिया था.

इस टीम की करतूतों से अत्यंत कुपित किसी व्यक्ति ने इसके जवाब में फेसबुक पर ही एक पेज Kejriwal For Peon Posthttps://www.facebook.com/groups/281688305200131/  बना डाला था, और गज़ब देखिये कि P.M. के पद के लिए टीम अन्ना के इस शातिर खिलाड़ी अरविन्द केजरीवाल को 1308 लोगों ने उपयुक्त माना तो इससे लगभग 110% अधिक लोगों ने अर्थात 2708 लोगों ने अन्ना टीम के इस शातिर खिलाडी को PEON के पद के ही उपयुक्त माना. अतः अन्ना टीम के इस शातिर खिलाडी की छवि के विषय में देश क्या सोचता है इसका लघु उदाहरण है उपरोक्त दोनों सर्वे…!!!!!!!!!!!!

देश को जनलोकपाल बिल की लोकलुभावनी किन्तु काल्पनिक लोरी सुनाने वाले गायक के रूप में अपनी लोकप्रियता को प्रधानमंत्री पद का दावेदार बनने की सीढ़ी बनाने की इसकी कोशिश को देश ने करारा जवाब दिया है.

दरअसल सिर्फ यह पेज ही नहीं, बल्कि खुद को पूरी तरह अराजनीतिक बताने-कहने वाले “अन्ना टीम के ” के इस सबसे शातिर सियासी खिलाड़ी ने शेखचिल्लियों सरीखी अपनी इस मानसिक उड़ान की सफलता के लिए हर वो धूर्त हथकंडा जमकर आजमाया जो इस देश की दूषित हो चुकी राजनीति के कीचड़ में डूबा हर शातिर नेता आजमाता है.

टीम अन्ना का यह शातिर खिलाड़ी भ्रष्टाचार की खिलाफत का झंडा उठाये उठाये धर्मनिरपेक्षता बनाम साम्प्रदायिकता का सर्वाधिक निकृष्ट एवं निम्न स्तरीय सियासी पहाड़ा जोर-जोर से उसी तरह पढता दिखाई दिया, जिस तरह इस देश के कुछ महाभ्रष्ट राजनेता सत्ता की लूट में हिस्सेदारी के लिए खुद द्वारा किये जाने वाले अजब गज़ब समझौतों  को सैद्धांतिक सिद्ध करने के लिए धर्मनिरपेक्षता बनाम साम्प्रदायिकता का पहाड़ा देश को पढ़ाने-सुनाने लगते हैं. इसीलिए टीम अन्ना के इस सबसे शातिर सियासी खिलाड़ी ने मौलानाओं को खुश करने के लिए सबसे पहले अपने मजमे के मंच से भारतमाता के चित्र को हटाया फिर सिर्फ अन्ना हजारे को छोड़ कर बाक़ी खुद समेत बाकी सभी खिलाडियों  ने “वन्देमातरम्” तथा “भारतमाता की जय” सरीखे “मन्त्रघोषों” को अलविदा कहा. इसके बाद बाबा रामदेव और साध्वी ऋतंभरा से लेकर संघ परिवार और नरेन्द्र मोदी एवं हर उस संस्था और व्यक्ति तक को जमकर गरियाया कोसा जो तन मन और कर्म से हिंदुत्व की प्रतिनिधि हो. फिर ज़ामा मस्ज़िद के घोर कट्टरपंथी मौलाना के चरण चुम्बन के लिए किरन बेदी के साथ उसके घर जाकर रोया गया. इसके अतिरिक्त  “अन्ना टीम” के इस शातिर खिलाड़ी ने कट्टर धर्मान्धता के एक से एक धुरंधर खिलाड़ियों सरीखे लखनऊ के नामी-गिरामी मौलानाओं से मिलने के लिए विशेष रूप से लखनऊ आकर उनकी मान-मनौवल जमकर की.  इसका जी जब इस से भी नहीं भरा तो मुंबई में अपना जनलोकपाली मजमा लगाने से पहले ये बाकायदा दुपल्ली टोपी लगाकर मुंबई के कट्टरपंथी मौलानाओं के घर खुद चलकर गया था और उनकी प्रार्थना-अर्चना के बाद उनसे पक्का वायदा भी कर आया था की अपने जनलोकपाली सर्कस का शो खत्म होते ही ये खुद और इसका गैंग देश में साम्प्रदायिकता के खिलाफ धुआंधार मोर्चा खोलेगा.

अर्थात संघ भाजपा और नरेन्द्र मोदी के खिलाफ. यह टीम अपनी पिछली करतूतों से यह स्पष्ट कर ही चकी है.
लेकिन हाय री किस्मत केजरीवाल की……….. मौलाना फिर भी नहीं रीझे…
और बाकी देश ….?
इसका जवाब मुंबई MMRDA और दिल्ली के रामलीला मैदान में 27 और 28 दिसम्बर को लोटते दिखे कुत्तों ने दे ही दिया है.

Facebook Comments

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..
    Print       Email

About the author

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक “मुखौटों के पीछे – असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष” में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.

21 Comments

  1. Lakhan Tomar says:

    very disappointing post – without any substance or substantiation you have criticized and alleged Arvind Kejriwal for all sorts of baseless things – sir, please do not feel jealous if someone has gained in stature from his or her own work / vision – and please STOP making these ridiculous HINDUTTVA waali appeals – if we that is Hindu & Muslims our to co-exist, it is best that we do with mutual understanding and brotherhood – any separatist tactics is only CHEAP and derogatory.

  2. R.Singh says:

    Do you know qualification of Arvind Kejriwal and name of institute from he has got this qualification?.You must be aware of the post from which he resigned before plunging in this.I don’t know whether he is dreaming for the post of PM or not,but even he is dreaming so, he is at least better than both fore front aspirants for the post by any count.I don’t know what qualification are you having ,but one thing is certain,you are as savage as may be your ancestors and don’t know what to talk and how to behave.

  3. pradnya Mayekar says:

    यह सब बकवास लिखा हैं ,, लगता हैं सतीश चन्द्र की कोई तो दुशमनी हैं अरविन्दजी के साथ तभी तोह पूरी मनं की भड़ास निकली हैं,, मेरे खयाल से आपको आत्ममंथन की बहुत ज्यादा जरुरत हैं,, और उसे भी ज्यादा अपनी घटिया भाषा सुधारने की आवश्यकता हैं,,

  4. Arvind says:

    मुन्ना अपना भी सुर्वे करवा ले एक बार……

  5. बकवास ……फालतू ……दुश्मनी पूर्ण….मनगड़ंत द्वेष से भरा….

  6. saroj mishra says:

    बनारस में रहने वाले सारे कुकुर गंगा नहायेंगे तो पतरी कौन चाटेगा

    • mk johari says:

      आप बिलकुल सही कह रही है सरोज मिश्र जी ……हम हकीकत से कब तक मुंह चुराते रहेंगे !!

  7. Bablu Amul baby says:

    First….the language u have used shows which type of individual and reporter u are.
    And while “AK for PM” is a PAGE, “AK for PEON” is a group. In a group u can add almost all ur friends without their knowledge and they can only be removed if they personally go. Now since most ppl use fb on their cell…they are even not AWARE that they have been added to this grp.
    while u cant do any such thing in a page .
    If u really wanna see, see the “AK for PEON” PAGE. It only has 30 MEMBERS 😛
    And as far as the grp goes there are several fakes and trolls with names like “Yuva Congress”, “Gujrat Congress”, “Punjab Congress”, “Strong Mike”, “Leti chappal” etc.
    While IAC is a ppl’s movement and “AK for PM” has real profiles….also if a page likes a “page”, numbers dont get increases so u actually cant see the support of IAC pages (almost each of a city) to it.

    And btw there is page called ” Joker Raul Baba” http://www.facebook.com/RaulVinciDumbo with 1650 likes without any fakes 😛

  8. manzar says:

    Kejriwal agar p.m. Banne ke sapne dekh raha hai. To ye sapna use dekhne ka haq hai kintu sapna poora karne ke liye loktantra ko nuksan pahuchana ye galat hai.
    Devgauda p.m. Bana tha loktantrik tareeke se.
    Kejriwal ko p.m. Banna hai to political party banaye ya kisi party ko join kar le.

  9. Mobshri says:

    Sach ka saath dene ke liye thanks

  10. sanjay says:

    कांग्रेस की दलाली अच्छा कर रहे हो.लगे रहो चमचागिरी में.तुम भी राजीव शुक्ल बन जाओगे

  11. harry cann says:

    केजरीवाल नमक कुत्ता चला पीम बन्ने …केजरीवाल फॉर पीम के सपने टूट गए जब मुंबई कर ने उनको उनकी औकात दिखाई …..हाहाहाहा

    • mk johari says:

      यार पहले तुम हिंदी लिखना सीख लो बाद मै केजरीवाल को कुत्ता बनाना !!

  12. amit says:

    ye sab chal hai congress ki….!

    arvind Ji is a Decent person….!!!

  13. MUDIT GUPTA says:

    ONLY 1 AISA NEWS PAER JO BIKA NAHI HAI …..

  14. nayak chauhan says:

    सब बकवास करते है आप जो इस छोटी सी बात के लिए रो रहे हो . जरा इन नेताओ के कारनामे की लिस्ट भी बना लिया करो

  15. ashok says:

    sapne aapke bhi mungeri lal se kam nahi hai kejriwal agar pradhanmantri banana chahte hai to isme burai kya hai .pradhanmantri banane ki sabhi gun unme unake paas hai

  16. satish says:

    राहुल के बारे में क्या विचार है ये पूरी तरह से दुस्पर्चार है केजरीवाल के खिलाप ये पूरण रूप से कांग्रेस समर्थित है क्या पत्रकार महोदय अब जज भी बनाने लग गए है ये दिशा हीन पत्रकारिता है

    • Surinder says:

      Mr सतीश क्या अप्प जानते हैं सतीश चंदर मिश्र जी बीजेपी को पसंद करते हैं

  17. P K Thakur says:

    मैं पूर्णतः आश्वस्त हो चूका कि यह पत्रकारिता नहीं है….फिर क्या है?
    मित्र मेरा किसी पार्टी/विचार/वाद/दर्शन/प्रतीक/…..आदि से पूर्णतः निरपेक्ष हो इस लम्हें की पत्रकारिता के सन्दर्भ में एक इमानदार पत्रकार से यह प्रश्न है कि क्या इस बाजारू लेखन कि आवश्यकता है ….क्या इस आलेख में सन्दर्भ की गरिमा शेष है ?………..इसे किसी भी प्रकार से विषय के अतिरेक स्वयं से न जोड़े….!!

    !!! धन्यवाद..!!!

  18. Dr vishnu says:

    is desh me devegauda jaise pradhanmantri ban sakte hai to kezriwal jaise logo ka sochna koi badi baat nahi है

पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं. हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो. आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें - मॉडरेटर

You might also like...

जौहर : कब और कैसे..

Read More →
Page Reader Press Enter to Read Page Content Out Loud Press Enter to Pause or Restart Reading Page Content Out Loud Press Enter to Stop Reading Page Content Out Loud Screen Reader Support
%d bloggers like this: