/फुटबालर सामी ने लेना गेर्क्‍के के बदन को अपने हाथ से ढंका, बवाल

फुटबालर सामी ने लेना गेर्क्‍के के बदन को अपने हाथ से ढंका, बवाल

एक ट्यूनीशियाई अख़बार के प्रकाशक को रियल मैड्रिड के फुटबॉल खिलाडी सामी खेदिरा की एक मैगजीन के कवर पेज पर एक कामोत्तेजक तस्वीर जिसमें वह अपनी मॉडल गर्ल फ्रेंड लेना गेर्क्के के स्तनों को अपने हाथों से ढंके है, को अपने अख़बार में छापने के बाद 15 फरवरी को गिरफ्तार किए जाने के बाद शुक्रवार को जमानत पर रिहा कर दिया गया। दैनिक समाचार पत्र अतौनिसिया के प्रकाशक नासृदीन बेन सैदा को 15 फरवरी को अखबार के एडिटर और एक पत्रकार के साथ जीक्यू मगजिन का कवर पेज छापने के बाद गिरफ्तार कर लिया गया था।

टुनिस की प्राथमिक न्यायालय ने प्रकाशक को शुक्रवार को रिहा कर दिया। उनपर लगे सार्वजनिक शालीनता का उल्लंघन करने के आरोप की सुनवाई 8 मार्च तक स्थगित कर दी गई है। इस विवादस्पद तस्वीर में जर्मन- ट्यूनीशियाई फुटबाल खिलाड़ी सामी खेदिरा को तुक्सेडो कपड़े में अपने हाथों से उनकी नग्न जर्मन मॉडल गर्लफ्रेंड लेना गेर्क्के के स्तनों को कवर किए हुए दिखाया गया है। गुरुवार को हुई सुनवाई के दौरान प्रकाशक ने कहा कि उसका नैतिक शिष्टाचार के उल्लंघन करने का कोई इरादा नहीं था। उन्होंने कहा कि यह एक जाने-माने फुटबॉल खिलाड़ी के बारे में है और इसके अलावा तस्वीर का एक कलात्मक आयाम है।

प्रकाशक के एक वकील अब्देर्रावुफ अयादी ने अदालत से कहा कि ‘उनके मुवक्किल की गिरफ्तारी का औचित्य साबित करने के लिए कुछ भी नहीं है,खासकर तब जब न्यूज़ पेपर की प्रतियों को जल्द ही दुकानों से हटा लिया गया था।’ एक दूसरे वकील चोकरी बेलैद ने कहा कि उनकी गिरफ्तारी एक राजनीतिक निर्णय था। उन्होंने कहा “हम जानते है कि ट्यूनीशिया में इस वक़्त स्वतंत्रता की रक्षा करने वालों और जो इसे दबाना चाहते हैं के बीच लड़ाई चल रही है।” उन्होंने कहा “ट्यूनीशियाई न्याय के लिए यह ट्रायल एक बड़ी परीक्षा है,हम चाहते हैं कि इसकी अपनी स्वतंत्रता दिखे और साबित करे कि यह किसी निर्देश को लागू नहीं कर रहा है।”

फुटबाल खिलाड़ी सामी खेदिरा इस्लामी ट्यूनीशिया देश में उनके पिता के टुनिशिया के होने के कारण लोकप्रिय है,लेकिन प्रकाशक के गिरफ्तारी के बाद देश में अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता की सीमा और सरकार को किसी मसले पर क्या अनैतिक है यह कैसे तय किया जाना चाहिए मुद्दे पर एक राष्ट्रव्यापी बहस छिड़ गई है। जर्मन न्यूज़ पेपर बिल्ड को दिए अपने बयान में 24 वर्षीय खेदिरा ने कहा “मैंने मामले के बारे में गुरुवार को सुना और मैं इसे बहुत दुखी करने वाला और दुर्भाग्यपूर्ण मनाता हूं।”

उन्होंने कहा “मैं सभी धर्मों का आदर करता हूं और लोगों के विश्वास का भी सम्मान करता हूं,लेकिन मैं ये नहीं समझ पर रहा हूं कि लोग क्या अपने-आप को खुलकर अभिव्यक्त भी नहीं कर सकते हैं।” शुक्रवार हो मुक़दमे की सुनवाई के दौरान नासृदीन बेन के कई सहकर्मी खचाखच भरी अदालत में उनके समर्थन में उपस्थित नजर आए। वहीं टुनिशिया के राष्ट्रीय स्तर के हस्तियों में संविधान सभा कि सदस्य सलमा बककर और हम्मा हम्मामी,टुनिसियन कम्युनिस्ट पार्टी के प्रमुख के साथ साथ मानवाधिकार कार्यकर्ता रधिया नस्रावुई भी मौजूद थे।

एक तरह जहां मानवाधिकार कार्यकर्ताओं ने गिरफ्तारी को गैरकानूनी बताया वहीं पिछले सप्ताह ट्यूनीशियाई पत्रकार संघ ने प्रारंभिक अदालत के बेन सैदा के छोड़े जाने के खिलाफ निराशा प्रकट की। बेन की गिरफ्तार के बाद ‘रिपोर्टर्स विदाउट बोर्डर्स’ नामक समूह का कहना है कि यह एक पाखंडी प्रतिक्रिया है क्योंकि इस तरह की तस्वीरें ट्यूनीशिया में बेचे जा रहे विदेशी मैगजीनों के कवर पेज पर अक्सर छपती रहती है। एजेंसी

Facebook Comments

संबंधित खबरें: