Loading...
You are here:  Home  >  अपराध  >  Current Article

निर्मल बाबा के अंधविश्वासी प्रचार अभियान की हवा निकलेगी, जागरुक मीडिया ने संभाला मोर्चा

By   /  April 8, 2012  /  17 Comments

    Print       Email
इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..


जब से निर्मलजीत सिंह नरुला उर्फ निर्मल बाबा द्वारा फैलाए जा रहे अंधविश्वास के खिलाफ़ मीडिया दरबार ने मुहिम छेड़ी है, तब से सुधी पाठकों और फेसबुक यूजरों का भारी समर्थन मिल रहा है। इसके अलावा भड़ास4मीडिया.कॉम, विष्फोट.कॉम जैसे कई पुराने व स्थापित न्यूज पोर्टलों ने भी खुद आगे आकर हमारा साथ दिया है। अब यह अभियान तेजी से मीडिया में भी फैल रहा है।

पाठकों की प्रतिक्रियाएं भी मीडिया दरबार, दूसरे पोर्टलों और फेसबुक पर खूब मिल रही हैं। इन प्रतिक्रियाओं में अधिकतर निर्मल बाबा के अंधविश्वास से भरे समागमों के प्रचार अभियान के खिलाफ हैं जो यह साबित करता है कि समाज का एक बड़ा तबका प्रगतिशील विचारों वाला है जो इस ढोंग के विरोध में आगे आने की हिम्मत रखता है। कई अखबारों में भी आँखें खोलने वाले लेख छपने लगे हैं।

थर्ड मीडिया और प्रिंट मीडिया के साथ-साथ कुछ टीवी चैनल भी इस अभियान में शामिल हो रहे हैं। देश के पहले एचडी चैनल न्यूज एक्सप्रेस ने भी निर्मल बाबा के अंधविश्वासों के खिलाफ एक जागरुकता अभियान चला दिया है। इस अभियान में फिलहाल ‘थर्ड आई ऑफ निर्बल बाबा’ के नाम से कुछ हास्य-व्यंग्य से भरी झलकियां प्रस्तुत की गई हैं।

इसके अलावा चैनल ने अंधा-युग के नाम से एक बहस भी शुरु करने का फैसला किया है जिसमें  समाज के विभिन्न वर्गों  से आए लोगों की निर्मल बाबा के बारे में राय जानने और उसपर एक सार्थक बहस का मंच बनाने की कोशिश की जाएगी।

 

Facebook Comments

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..
    Print       Email

About the author

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक "मुखौटों के पीछे - असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष" में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.

17 Comments

  1. ahfaj bhai utube mai post ka url mujhe [email protected] mai post kar dena

  2. जो टीवी चैनल निर्मल बाबा की तीसरी आंख दिखा रहे हैं उनको हम सिर्फ़ देखना ही बन्द न करें बल्कि औरों को न देखने के लिए भी प्रेरित करें। उन चैनलों के फ़ोन और ई-मेल पते पर सन्देश भेजकर भी विरोध दर्ज कराने से ही बात बनेगी। इसके अलावा अखबारों में पाठकों के पत्र कॉलम में पोस्ट कार्ड या ई-मेल द्वारा भी अपनी बात लोगों तक पहंचाएं। उल्लेखनीय है कि निर्मल बाबा की धन कृपा टीवी चैनलों पर ही बरस रही है जो लोगों को जागरूक बनाने की बजाय अन्धविश्वासी या कहें बेवकूफ़ बना रहे हैं। सो व्यापक जनहित में आप इसका विरोध करें- यों ज्यादातर लोग यही कहते मिलेंगे कि दिखाने दो मेरे बाप का क्या जाता है…यदि आप सक्रिय होकर कुछ करेंगे तो कुछ तो होगा!

  3. SAJAG RAIPUR says:

    आयकर विभाग वाले क्या कर रहे हैं, क्या बाबा की कृपा की कथित वर्षा उन पर भी हो रही है..

  4. pankaj says:

    निर्मल बाबा के खिलाफ मीडिया ओर जनता को मिलकर काम करना होगा पर मीडिया पेसे के लालच में इस आडंबर को बढ़ावा दे रहा है, जो बहुत ही दुर्भाग्य पूर्ण है , कभी मीडिया पाखंड ओर अंधविश्वाश के खिलाफ बोलता है ओर कभी उसे बढ़ावा दे रहा है, ओर भारत एक निहायत ही अन्ध्भ्कत लोग समोसा, रुमाल, ट्रेन यात्रा ओर नोटो की नयी गद्दी में अपना भाग्य देख रहे है, इस तरह निर्मल बाबा बनकर अपना घर भर रहा है, 2000 रुपया सिर्फ़ एंट्री फिश ओर उसके सिवा आना जाना ओर ठहरना सब मिलकार आदमी हज़ारों रुपये बर्बाद कर रहे हेन , यही पाखंड देश के विकाश मे अवरोधक है ( is mamle men news express me kary sarhniy hai nirmal ke karnamon ko ujaagar karne men )

  5. यह जो कुछ हो रहा है इस में सब से बड़ा हाथ मीडिया का है . मीडिया ने ही ऐसे पाखंडियों को टीवी पर भगवान बना कर पेश कर रखा है. मीडिया ने ही जनता के मासूम दिलों में भ्रम फैला कर इन के घिनौने व्यापार को बढाया है. अगर मीडिया ने इस चोर का प्रचार न किया होता तो आज तक इसे कौन जानता था ? इस ढोंगी के साथ साथ मीडिया को भी अदालत में रगड़ना चाहिए !!.

  6. प्रवीण कुमार says:

    Iska jabab jarur puchhiye apne aas pass ke logon se jo N.Baba ke bhakt hai.
    ——————————————————————————————

    *Samagam bade bade hotalon me kyun hote hai jahan ki seat simit hoti hai?
    *Samagam kisi play ground me kyun nahi hoti? jahnan 50,000 se adhik *logon ko ek baar me hi kripa mil jati?
    *Kya ulte- pulte nukse pura karne se hi kripa aayegi?
    *jinke pass black purse nahi hai o log nahi kamate hai, aur unpe laxmi ki kripa nahi aati?
    * kripa lene ka adhikar sirf unhe hi hai jo 2000 rupee de sakte hai, baki logon pe baba ki kripa kab aayegi?

  7. Keep it up- good job!
    By the way Nirmal baba be bade bade lootero ki bhi poll khole jaise: Chidamabaram Baba, Sonia Madam, Robert vadhera, Pawar Baba, etc.

  8. Atul Agarwal says:

    बहुत अफ़सोस की बात है कि हमारा मीडिया ऐसे पाखंडी के गुण गा रहा है ऐसे में मीडिया दरबार का कदम वास्तव में सराहनीय है.
    ऐसे ढोंगी और पाखंडी का भांडा तो फूटना ही चाहिए और सच्चाई सबके सामने आनी चाहिए.बस यही समझ में नहीं आता कि इस मक्कार की सच्चाई सामने आने पर हमारा मीडिया कहीं अपनी विश्वसनीयता न खो दे.
    चाहे ये इन्सान जो भी हो कम से कम इसने दुनिया को ये तो बता ही दिया है कि हम भारतीय बहुत ही लालची क़िस्म के होते हैं और हराम के पैसों का लालच दिखा कर बड़े आसानी से बेवक़ूफ़ बनाया जा सकता है.इसके समागम में बैठे ज्यादातर लोग सिर्फ अपने लालच में ही वहां पहुचे हैं और हराम में सब कुछ मिल जाये इसके लिए इस पाखंडी की जय जयकार करते हैं.इतने सालों से कितने ही बाबाओं ने हमें बेवक़ूफ़ बनाया पर हम हैं की मानते ही नहीं.काफी हद तक तो दोषी हम भी हैं जो इन पाखंडियों को फलने फूलने देते हैं.

  9. R K Telangba says:

    विस्फोट डोट कोम की टीम को मेरी तरफ से शुभकामनाये. मेरा भी आप को पूरा समर्थन है.
    हम जितनी जल्द हो सके ऐसे दुष्ट ढोंगी लुटेरे का संहार करने का प्रयास करेंगे . आप ने जो प्रयास किया है वो सराहनीय है. ऐसे दुष्टों को तो बीच समुद्र में बिल लादेन के कब्र की तरह दफ़न कर देना चाहिए ! देश की गरीब जनता का खून चूस कर ऐशो आराम करने वाले देश के दुश्मन होते हैं, हमे एक जुट हो कर इन के खात्मे का कम करना चाहिए .
    धन्यबाद

  10. G.s. Lakhi says:

    good job

  11. Mayank Sahu says:

    totally with you, one day this nirmal baba bullshit has to come to an end. not only he is earning by unfair means he is also hurting feelings of millions of innocent people and playing with their religious beliefs which is legally wrong and someone should do a case on him.

  12. vipinsharma says:

    collection of money is not bad thing but wrong way & make fools to humans is very bad this is against corruption is your first baby step hum sab ko eke joot hona padega Kyunki boondh-2 se samunder banta hai……..: be aware open your eyes jai Ho

  13. Bigg Pages says:

    बिग्ग पेगेस भी आपके साथ है ।.
    हमने अपने सरे रीडर्स को जागरूक किया आपके माध्यम से और हम आपसे जुड़ना चाहते है ।.
    संपर्क करे [email protected] पर.

  14. sanjay nagia says:

    भगवान आपको कामयाबी दे इस पाखंडी के खेल को ख़तम करने में , मेरी पड़ोसन ने पिचले ४ माह से दूध वाले को अखबार वाले को बिल नहीं दिया ,अलमारी में गद्दी बना रही है,

  15. Bijendra Kumar says:

    As long as there exists the highly qualified fools in the form of followers, Nirmal Baba like frauds would continue to dupe them. I don't think any fault in Nirmal Baba or other likewise cheaters when their so called educated followeres themselves are ready to get them cheated by selling out their brains to the hands of such fraud babas. I have no sympahy with their wealth-greedy followers who want to get every luxirious item for them without making any labour, I mean to say, by getting the so called Kripa of this fraud.

  16. सराहनीय प्रयास वस्तुतः सार्थक भी होगा! चौथे खम्भे की मजबूती आवश्यक!

  17. Ahfaz Rashid says:

    maine bhi kuchh ad. banaaye hain.u-tube men down load kar raha hun.

पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं. हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो. आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें - मॉडरेटर

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

You might also like...

ये इमरजेन्सी नहीं, लोकतंत्र का मित्र बनकर लोकतंत्र की हत्या का खेल है..

Read More →
Page Reader Press Enter to Read Page Content Out Loud Press Enter to Pause or Restart Reading Page Content Out Loud Press Enter to Stop Reading Page Content Out Loud Screen Reader Support
%d bloggers like this: