Loading...
You are here:  Home  >  मीडिया  >  Current Article

अब ‘भड़ास’ पर भी तीसरी आँख की ‘किरपा’, निर्मलजीत नरुला के कानूनी नोटिस को ‘करारा जवाब’

By   /  April 11, 2012  /  18 Comments

    Print       Email
इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..

इलेक्ट्रॉनिक मीडिया को पैसे के बल पर खरीद चुके निर्मल बाबा की पोलखोल मुहिम थर्ड मीडिया पर जारी है। उधर इस हमले से परेशान बाबा जी अपनी तीसरी आंख को खोल कर इस मुहिम को भस्म करने की बजाय वकीलों का सहारा ले रहे हैं। अब ताजा नोटिस आया है नंबर वन मीडिया पोर्टल भड़ास4मीडिया.कॉम के सीईओ यशवंत सिंह के पास। ग़ौरतलब है कि मीडियादरबार.कॉम को भी ऐसा ही एक नोटिस आ चुका है। दिलचस्प बात यह है कि मीडियादरबार को भेजे गए नोटिस में जहां निर्मल बाबा निर्मल सिंह नरुला हैं वहीं भड़ास4मीडिया को भेजे नोटिस में वो निर्मलजीत सिंह नरुला बन गए हैं।

यशवंत सिंह ने अपने पोर्टल को मिले नोटिस का जवाब भी हाथों-हाथ भेज दिया है, जो कुछ इस तरह है:

श्री कार्निका सेठ, एडवोकेट, सेठ एसोसिएट्स, विषय- आप द्वारा निर्मल बाबा की तरफ से मुझको भेजे गए लीगल नोटिस के संदर्भ में नोटिस का क्रमवार जवाब…. 1- Our client is highly revered spiritual guide, renowned worldwide for his spiritual discourses as “Nirmal Baba” and has lacs of followers in India and abroad.

जवाब- आध्यात्मिक गुरु पैसे लेकर प्रवचन नहीं देता. वो स्वेच्छा से मिलने वाले दान पर जीवन यापन करता है या फिर घूम-घूम कर अपने खाने भर मांग लेता है. यह रही है अपने देश में परंपरा. पैसे लेकर प्रवचन सुनाने वाला या कथित कृपा करने वाला व्यवसायी है और ऐसा व्यवसाय जिसमें असत्य बातें बोली जाएं, ढोंग और अंधविश्वास की श्रेणी में आता है. लाखों फालोअर होने से कोई आदमी महान या आध्यात्मिक गुरु नहीं साबित किया जा सकता. दुनिया भर में कई आतंकवादी संगठन ऐसे हैं जिनके लाखों समर्थक या प्रशंसक हैं, पर उन्हें दुनिया के नियम-कानून वैध नहीं ठहराते.
2-Our client recently learnt that you have posted extremely defamatory and illegal contents/articles against our client on your own website of Bhadas4Media.com titled “Fraud Nirmal Baba” at the following links –
http://bhadas4media.com/article-comment/3127-fraud-nirmal-baba3.html,
http://bhadas4media.com/print/3611-fraud-nirmal-baba9.html,
http://bhadas4media.com/print/3665-fraud-nirmal-baba-15.html,
and various other defamatory links related to our client.

जवाब- अगर कोई व्यक्ति पैसे देकर न्यूज चैनलों पर विज्ञापन की तरह प्रोग्राम दिखवाता है और उस प्रोग्राम के जरिए असत्य बातों का प्रचार करता है, झूठी बातें के सहारे लोगों को भ्रमित करता है, कथित चमत्कार और कथित कृपा की बल पर गंभीर बीमारियों का इलाज करता है तो उस प्रोग्राम और उस व्यक्ति के बारे में बहस करना, लिखना और प्रचारित करना कैसे असत्य और मानहानि कारक हो सकता है. किसी की निजता वहीं तक निजी है जहां तक वह दूसरों के जीवन को प्रभावित नहीं करता. इस तरह अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के तहत हम ऐसे किसी प्रकरण पर अपनी बात रख कह सकते हैं.

3- The content in these articles published on your website is grossly defamatory, false, without prejudice, and offensive in nature. Please note that publishing such defamatory content or statements about any person is a criminal offence in India and attracts both civil and criminal liabilities under Section 66A of the Information Technology Act, 2000 as well as under Section 499 of the Indian Penal Code.

जवाब- आप के क्लाइंट कथित निर्मल बाबा जब अवैज्ञानिक और अप्राकृतिक बातों के जरिए लोगों को भ्रमित कर उनमें अंधविश्वास फैलाते हैं तो वह कानूनी रूप से कई तरह की धाराओं के योग्य दंडनीय हो जाते हैं. फिलहाल यह कार्य नहीं हो रहा है तो हम ब्लाग और वेबसाइट के लोगों का फर्ज बन जाता है कि बाबा के बारे में ज्यादा से ज्यादा बातें कर, बहस कर, सामने आ रही बातों का खुलासा कर दूसरे पक्ष को जनता तक ले जाएं ताकि जनता यह तय कर सके कि क्या गलत है और क्या सही. आपने आईडी एक्ट और आईपीसी की जिन धाराओं का उल्लेख किया है, उसके तहत हम लोग मुकदमा लड़ने के लिए तैयार हैं और माननीय न्यायालय द्वारा जो भी दंड दिया जाएगा, उसे भुगतने को भी तैयार हैं, लेकिन उससे पहले हम कोर्ट तक अपनी बात पहुंचाएंगे और यह बताने की कोशिश करेंगे कि निर्मल बाबा अवैज्ञानिक और अंधविश्वास पूर्ण बातों के जरिए लोगों से पैसे उगाहता है और वैज्ञानिक चेतना के विकास को बाधा पहुंचाता है, साथ ही चमत्कारिक इलाज के माध्यम से गैरकानूनी कृत्य करता है.

4-Please note that on 30th March, 2012 an exparte ad interim restraint order against Hubpages was passed by the Hon’ble High Court of Delhi restraining the hubpages.com from publishing defamatory articles against our client in CS(OS) 871/2012 (Order Attached).

जवाब- आपने जिस प्रकरण का उल्लेख किया है, उस प्रकरण में ऐसा प्रतीत होता है कि माननीय अदालत तक निर्मल बाबा के बारे में सही जानकारियां नहीं पहुंचाई गईं. हम लोग चाहते हैं कि एक बार फिर इस प्रकरण पर कोर्ट में बातचीत हो और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता बाधित करने वाले कदम की पुनर्समीक्षा हो. साथ ही, गलत कृत्य के जरिए समाज में अंधविश्वास फैलाने वाले शख्स के खिलाफ अपराध दर्ज कर न्याय की प्रक्रिया शुरू हो.

5-We hereby call upon you to cease and desist from publishing the defamatory content published by you on the website
Bhadas4Media.com within 36 hours of receipt of this notice in compliance with the IT (Intermediaries Guidelines) Rules, 2011 and Section 79 of the IT Act, 2000, failing which my client will be constrained to take legal action against you for which you will be solely liable responsible for all acts and consequences following there from.

जवाब- हम लोग फिलहाल किसी भी खबर, रिपोर्ट या प्रकरण को वेबसाइट से नहीं हटाने जा रहे हैं. आप अपनी तरफ से कानूनी कार्यवाही करने कराने के लिए स्वतंत्र हैं.

यशवंत सिंह
एडिटर
भड़ास4मीडिया
[email protected]

 

Facebook Comments

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..
    Print       Email

About the author

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक "मुखौटों के पीछे - असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष" में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.

18 Comments

  1. आपने आज कल की बिकाऊ पत्रकारिता को नया सन्देश दिया है इस के लिए आप को बधाई
    जनता आप जैसे लोगो के साथ है

  2. Rajwant Kaur says:

    Very gud mohan g

  3. Rajwant Kaur says:

    Very gud mohan g

  4. Mohan Johari says:

    लगे रहो………..पाखंडियों का पर्दाफाश करना जरूरी है!

  5. Mohan Johari says:

    लगे रहो………..पाखंडियों का पर्दाफाश करना जरूरी है!

  6. Vijay Nand says:

    माननिये महोदय

    ऐसे दुष्ट ढोंगी बाबाओं का पर्दाफाश करके आप एक बहुत ही उल्लेखनीय और प्रशंसात्मक कार्य कर रहे हैं! साधुवाद एवं बधाई..!! लगे रहिये!!

  7. Sunil Kumar Kushwaha says:

    I am realy greatful to mediadarbar.com for pointing out such a fraud. nicely doing sir.

  8. pankaj says:

    निर्मल बाबा का न्यूज़ चैनलों पर धुंआधार प्रचार देखकर मुझे आसाराम बापू का स्टेटमेंट याद आ रहा है जिसमें चैनलों से नाराज होकर आसाराम ने कहा था – “चैनल वाले कुत्ते हैं , उनके आगे टुकड़े फेंको तो वो भौंकना छोड़ देंगे.” आसाराम पूरी तरह गलत नहीं थे शायद?

  9. हम सब आपके साथ है , ऐसे डोंगियो कि जगह यहाँ नहीं होनी चाहिए.

  10. Kushal Pal says:

    baba ji hr muskil ka samna karege wo bhi kanuni tarike se…
    ugli to Aasaram bapu pr bhi uthi thi.
    jai Nirmal baba ki.

  11. Kushal Pal says:

    baba ji hr muskil ka samna karege wo bhi kanuni tarike se…
    ugli to Aasaram bapu pr bhi uthi thi.
    jai Nirmal baba ki.

  12. pankaj says:

    आपके इस सराहनीय कार्य की मई प्रशंसा करता हु. भांड मीडिया के बीच भी आप अपनी ज़िम्मेदारी भली भांति निभा रहे है ……….!

  13. Uday Raj says:

    mai bhi aap logo k sath u……….

  14. Vikas Rajput says:

    Weldone

  15. bahut hi aacccha we r with u!

पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं. हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो. आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें - मॉडरेटर

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

You might also like...

ये इमरजेन्सी नहीं, लोकतंत्र का मित्र बनकर लोकतंत्र की हत्या का खेल है..

Read More →
Page Reader Press Enter to Read Page Content Out Loud Press Enter to Pause or Restart Reading Page Content Out Loud Press Enter to Stop Reading Page Content Out Loud Screen Reader Support
%d bloggers like this: