Loading...
You are here:  Home  >  मीडिया  >  Current Article

क्या स्टार ने विज्ञापन करार रिन्यू न होने पर छेड़ी निर्मल बाबा के खिलाफ़ मुहिम?

By   /  April 14, 2012  /  10 Comments

    Print       Email
इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..

सौरभ नाम के एक पाठक ने मेल के जरिए दावा किया है कि स्टार न्यूज़ और निर्मल बाबा के संस्थान के बीच जो करार चल रहा था उसके टूट जाने पर ही चैनल ने बाबा का पोल-खोल अभियान शुरु किया है. करार  11 अप्रैल को रिन्यू करना था जो निर्मल बाबा ने नहीं किया. मेल के मुताबिक स्टार की मार्केटिंग टीम ने कॉन्ट्रैक्ट रिन्यू करने की काफी कोशिश की, लेकिन ऐसा कराने में सफल नहीं हुए.

दरअसल बाबा की मार्केटिंग टीम ने स्टार की टाइमिंग को लाखों रूपये मूल्य के लायक नहीं समझा क्योंकि स्टार न्यूज ने बाबा के लिए तड़के 5:40 का समय दिया था, वह भी भारी भरकम फीस पर. उधर बाबा के प्रबंधकों को लगा कि सुबह इतने सवेरे प्रवचन  देखने वाले कम लोग होते हैं. आखिरकार जब करार टूट गया तो थक-हार कर स्टार ने इसके खिलाफ बोलना अब शुरू किया है.

ख़ैर पूरा सच क्या है, यह तो राम ही जाने, लेकिन बात पूरी तरह गलत भी नहीं मालूम पड़ती. स्टार न्यूज़ की खबर में कुछ ऐसी बातें हैं जिससे शक और गहराता है. चैनल कल से लेकर आज सुबह तक निर्मल बाबा पर लगातार खबरें चला रहा था. खबर के दौरान यह भी कहा जाता है कि पिछले एक महीने से स्टार न्यूज़ पड़ताल कर रहा है. लेकिन इस एक महीने की पड़ताल में स्टार न्यूज़ ने ऐसा कुछ भी नहीं दिखाया जो कुछ अलग हो. स्टार न्यूज़ जो दिखा रहा है वो सब वेब मीडिया के जाबांज पहले ही प्रचारित – प्रसारित कर चुके हैं. स्टार न्यूज़ बाबा के खिलाफ खबरें दिखा रहा है, यह काबिलेतारीफ है, लेकिन एक महीने की जांच-पड़ताल वाली बात हजम नहीं हो रही. यदि वाकई में एक महीने स्टार न्यूज़ ने छान-बीन की है तो सवाल उठता है कि स्टार न्यूज़ के रिपोर्टर छान – बीन कर रहे थे या फिर झक मार रहे थे. यह काम तो वेब मीडिया ने एक हफ्ते में कर दिया और निर्मल बाबा के पूरे इतिहास – भूगोल को खंगाल डाला.

बात साफ है कि निर्मल बाबा के खिलाफ स्टोरी चलाना और विज्ञापन को बंद करना स्टार न्यूज़ की विवशता है, इसमें सरोकार वाली कोई बात है, इसपर आसानी से विश्वास नहीं किया जा सकता. बिहार में एक कहावत है – ‘जात भी गंवाया और भात भी नहीं खाया’. स्टार न्यूज़ की स्थिति कुछ वैसी ही हो गयी है.

Facebook Comments

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..
    Print       Email

About the author

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक "मुखौटों के पीछे - असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष" में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.

10 Comments

  1. Nandni Gupta says:

    sorry frndz ap sab log mujhse kafi bade hai but fir bhi ek bat kehna chahungi ke bhale nirmal baba ji galat ho ya unhone kuch bhi kiya ho lekin wo hum sabse bade to hai na aur hume koi haq nhi banta ke hum kisi ki bezati kare agar kisi izzat nhi kar sakte to kisi ki bezati karne ka bhi haq nhi hai hume sooo plzz meri bat par gor jarur karna ap sab log kabhi kabhi chote bhi badi bat kar jate hai and meri bat ka bura mat manna ok frndzzz jo mujhe sahi laga wo keh diya mene.

  2. subhash chander arora says:

    when elephant goes he not change his roue by barking the dogs/mujha aaj tak ye smagh nahi aya aap ko keya tak lef ha/ ma na apne teen agutheya or do tabiz utar deya /lagta ha jayda dikat lal nele pele kitab/jantar mantar yantr mafia ko ha

  3. Nirmal baba ki jai.sab bolo bigdi sudharne wale ki jai.

  4. asli chor media hi hai…….

  5. अशोक व्यास अहमदाबाद says:

    asli chor media hi hai……..

  6. sabse pahle to sare chanal ke khilaf kade kadam uthane chahiye. aur unke is tarah ke sare programm band kerne chahiye.

  7. main yes to nahi janta ki kya sahi hai kya galat per yadi galat hai to us saks ko saja milni hi chahiye.

  8. Atul Agarwal says:

    किसी भी मजबूरी के कारण ही सही चलो आँख तो खुली किसी मीडिया की.आज स्टार न्यूज़ को इस ढोंगी का ढोंग दिखाई देने लग गया.इतने महीनों तक तो इस पाखंडी के साथ मिलकर लोगों को लूटते रहे और आज साधू बनने की कोशिश कर रहे हैं.हो सकता है विज्ञापन के प्रसारण का रेट बढाने को कहा होगा और उस पाखंडी ने नहीं बढाया होगा.कौन सा इस स्टार न्यूज़ ने प्रसारण बंद कर दिया?पैसा किसी को काटता है क्या?सोचते होंगे जब तक इस ढोंगी की पोल पूरी तरह नहीं खुल जाती तब तक बहती गंगा में हाथ धोते रहो.
    रही बात इस पाखंडी की तो मुझे लगता है कि इसको राजनैतिक संरक्षण भी मिला हुआ लगता है.क्योंकि धोखाधडी का खुल्लमखुल्ला इतना बड़ा खेल बिना ऊंचे सहयोग के नहीं चल सकता.मुझे तो ये लगता है कि यदि इस पाखंडी की पोल खुली तो हो सकता है कि कई लोग बेनकाब हो सकते हैं.

  9. Sanjeev says:

    मीडिया दरबार – निर्मल बाबा ka एक होटल भी चलता है. – व्व्व.nirmalhotel.com

पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं. हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो. आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें - मॉडरेटर

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

You might also like...

ये इमरजेन्सी नहीं, लोकतंत्र का मित्र बनकर लोकतंत्र की हत्या का खेल है..

Read More →
Page Reader Press Enter to Read Page Content Out Loud Press Enter to Pause or Restart Reading Page Content Out Loud Press Enter to Stop Reading Page Content Out Loud Screen Reader Support
%d bloggers like this: