Loading...
You are here:  Home  >  अपराध  >  Current Article

महंगा पड़ा आसाराम बापू को पत्रकार से उलझना, खानी पड़ सकती है हवालात की हवा

By   /  April 27, 2012  /  8 Comments

    Print       Email
इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..

पहले से ही विवादास्पद रहे संत आसाराम बापू एक बार विवादों में घिर गए हैं। यूपी में एक पत्रकार को थप्पड़ मारने के आरोप में आसाराम बापू और उनके समर्थकों के खिलाफ केस दर्ज करवाया गया है। मामला उत्तर प्रदेश के भदोही जिले का है, जहां गुरुवार को रोहित गुप्ता नाम के एक पत्रकार ने बाबा के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई। पत्रकार का आरोप है कि बाबा और उनके समर्थकों ने उसके साथ मारपीट की और गालियां भी दीं। इतना ही नहीं बाबा के लोगों ने उनका कैमरा तक छीन लिया। 

पत्रकार एक न्यूज चैनल में काम करते हैं और वो बाबा के कार्यक्रम की कवरेज के लिए गए थे। उन्होंने बताया कि वह आसाराम बापू की लाल बत्‍ती वाली गाड़ी की कवरेज कर रहे थे, इसी पर बाबा भड़क उठे और उन्होंने अपने लोगों से उन्हें पकड़ने के लिए कहा।

दरअसल, भदोही जिले में गोपीगंज में स्थित राम‍लीला मैदान में आसाराम बापू का कार्यक्रम था। पत्रकारों को खबर मिली कि आसाराम बापू गैरकानूनी तरीके से लालबत्‍ती लगी कार में घूम रहे है। बनारस एवं मिर्जापुर में प्रवचन के दौरान यह खबर सामने आई थी। जिले के टीवी जर्नलिस्ट रोहित भी इसकी सूचना मिलने के बाद कवरेज के लिए पहुंच गए। आसाराम बापू जब कार्यक्रम से पहले आराम करने के लिए गोपीगंज के आइडियल कारपेट के सामने लाल बत्‍ती लगी गाड़ी से रुके तो रोहित विजुअल बनाने लगे। वे विजुअल बना ही रहे थे कि आसाराम की निगाह उन पर पड़ गई। आसाराम ने रोहित से पूछा कि क्‍या कर रहे हो?

इस पर रोहित ने कहा कि पत्रकार हूं और कवरेज कर रहा हूं. रोहित ने बताया, ‘इतना सुनते ही आसाराम ने मुझे को मां-बहन की गाली दी तथा कहा कि तुम्‍हारी औकात अभी दिखाता हूं।  इतना कहना था कि उसके आसपास मौजूद समर्थक तथा सुरक्षागार्डों ने मुझे पकड़ लिया तथा लगभग घसीटते हुए आसाराम के पास ले गए। आसाराम ने मेरा कैमरा छिनवाते हुए मुझे एक थप्‍पड़ मारा तथा अपने लोगों को कहा कि पीटो इसे। इसके बाद उसके सहयोगियों ने मेरी पिटाई शुरू कर दी। किसी तरह एक व्‍यक्ति ने बीच-बचाव करके मुझे को बचाया, पर उन लोगों ने कैमरा वापस करने से इनकार करते हुए मुझे को भगा दिया। साथ ही धमकी दी कि बोलोगे तो खतम भी करवा देंगे।

पूरे प्रकरण में पुलिस की भूमिका भी बेहद संदेहास्पद रही है। पत्रकारों ने बापू के खिलाफ थाने के बाहर प्रदर्शन किया और नारेबाजी भी की लेकिन कोई कार्रवाई करने से अधिकरी बचते रहे। बताया जाता है कि जब मामला मीडिया और मीडियाकर्मियों के बीच तूल पकड़ने लगा तब जाकर उच्च अधिकारियों ने केस दर्ज़ करने के निर्देश दिए। पुलिस अधूक्षक ए.के.शुक्ला के मुताबिक विवादास्पद संत आसाराम, उनके समर्थक और सुरक्षा गार्ड पर मार-पीट का मामला दर्ज़ किया गया है। पुलिस इन सभी से पूछताछ करेगी और जरूरत पड़ने पर थाने भी ला सकती है।

हाल ही में आसाराम ने इंदौर में एक सेवादार को मंच पर से ही गालियां दे दी थीं। इसके पहले वे किन्नरों के बारे में भी उटपटांग बयान देकर चर्चा में आ चुके हैं। तब उन्हें किन्नरों से सार्वजनिक तौर पर माफ़ी मांगनी पड़ी थी।

Facebook Comments

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..
    Print       Email

About the author

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक "मुखौटों के पीछे - असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष" में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.

8 Comments

  1. b l tiwari says:

    asharam koyee sant nahi hai ye pakka vawsayee hai aasharam ka koyee guru nahi hai koyee ahkada nahi hai be kisi parampara ke sant nai hai koyee sapradaay bhi nahi hai bas kewal sidhiyo se paisa iekktha karn orr seiya market mai lagan dedha bhar mai jamine kharid na kaiyee prakar ke dhandhe karn bahut hi chatur khiladi hai dadi ke walo ka khel hai ies ke ghar se hi do bahut hi gannde mukkadyme chal rahe hai

  2. good media darbar isme meri dilchaspi barhi hain.

  3. VIKASMEHTA says:

    आसाराम बहुत अच्छे संत है
    इन पत्रकारों को भी समझना चाहिए जब देखो बस ब्लेकमेलिंग

  4. Media ek dalal hai jo apne publicity aur TRP ke liye kisi bhi hud tak ja sakti hai aur pahle yes bhi proove kare media ki yes jo rohit gupta patrakar hone ka daawa kar raha hai yes patrakar hai bhi ya nahi pahle iski janch honi chahiye………………. yes jankari ke anusar yes ek studio wala hai jiska RK studio ke naam se station road bhadohi mein Shop hai….agar yakin nahi though jakar dekh lijiye………………….

  5. Media me bhi bhale hi kuchh achche log hai lekin jyadatar log dalali aur dabangai me hi shan samajhte hai…aise kai udaharan hai…

  6. Anand Shukla says:

    हमने तो कहा था की मीडिया के दलालों से मत उलझना —

  7. Bhai yes sant nahi hai desh ke lootere hai.

  8. राजन says:

    ये तो बहुत अच्छा काम हो गया.ऐसे ठग संतों के साथ यही होना चाहिए.ऐसे लोग ही धर्म का नाम खराब करते हैं.

पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं. हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो. आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें - मॉडरेटर

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

You might also like...

प्रसून भाई, साला पैसा तो लगा, लेकिन दिल था कि फिर बहल गया, जाँ थी कि फिर संभल गई!

Read More →
Page Reader Press Enter to Read Page Content Out Loud Press Enter to Pause or Restart Reading Page Content Out Loud Press Enter to Stop Reading Page Content Out Loud Screen Reader Support
%d bloggers like this: